संजीवनी टुडे

हत्या के मामले में पिता-पुत्र और भाई को आजीवन कारावास की सजा

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 04-12-2019 22:04:34

उत्तर प्रदेश में बांदा जिले की एक अदालत ने पिता पुत्र और भाई को हत्या के पांच साल पुराने मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई।


बांदा। उत्तर प्रदेश में बांदा जिले की एक अदालत ने पिता पुत्र और भाई को हत्या के पांच साल पुराने मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई। अभियोजन पक्ष के अनुसार नरैनी क्षेत्र के गुमान गंज गांव में 22 जुलाई 2014 को मइयादीन विश्वकर्मा अपना खेत जोतने गया था। उसी गांव के छंगा ,उसके भाई बउरा तथा छंगा के पुत्र छोटा ने लाठी ,डंडाें आदि से मैयादीन पर जानलेवा हमला कर दिया। इस घटना में मइयादीन गंभीर रूप से घायल हो गया और अस्पताल ले जाते समय उसकी मृत्यु हो गई।

यह खबर भी पढ़ें:​ ​तेजस्वी ने CM की ‘जल जीवन हरियाली यात्रा’ पर तंज कसते हुए कहा- नीतीश को ‘अपराध मिटाओ...

इस मामले में उपरोक्त तीनों आरोपियों नामजद कराया गया था। विवेचना के दौरान विवेचक ने बउरा यादव के विरुद्ध आरोप पत्र दाखिल कर दो अन्य आरोपियों को दोषमुक्त कर दिया। लेकिन अदालत ने वादी के बयान पर छंगा व उसके पुत्र छोटा को भी तलब कर जेल भेज दिया।

पत्रावली में उपलब्ध साक्ष्यों के आकलन और अधिवक्ताओं की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने बउरा यादव , उसके भाई छंगा व छंगा के पुत्र छोटा को दोषी पाते हुए सश्रम उम्रकैद और 10-10 हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई। अदालत ने मुकदमे में विवेचना के दौरान लीपापोती करने के आरोप में पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर विवेचक के विरुद्ध कार्रवाई करने के आदेश दिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended