संजीवनी टुडे

इटावा: कैदियों और जेलकर्मियों के बीच खूनी संघर्ष, एक कैदी की मौत, कई जेल कर्मी घायल

संजीवनी टुडे 02-04-2020 14:45:55

जनपद में जिला कारागार में देर रात हुए कैदियों और जेलकर्मियों के बीच खूनी संघर्ष में कैदी मोनू पहाड़ी उर्फ राशिद की मौत हो गयी है। वहीं मुन्ना खालिद, छुन्ना समेत एक दर्जन कैदी और डिप्टी जेलर जगदीश प्रसाद समेत आधा दर्जन से अधिक जेल कर्मी घायल हुए हैं।


इटावा। जनपद में जिला कारागार में देर रात हुए कैदियों और जेलकर्मियों के बीच खूनी संघर्ष में कैदी मोनू पहाड़ी उर्फ राशिद की मौत हो गयी है। वहीं मुन्ना खालिद, छुन्ना समेत एक दर्जन कैदी और डिप्टी जेलर जगदीश प्रसाद समेत आधा दर्जन से अधिक जेल कर्मी घायल हुए हैं।

घायलों को इलाज के लिए सैफई मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवाया गया है। वहीं मृतक कैदी मुन्ना पहाड़ी के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। जिलाधिकारी जितेंद्र बहादुर सिंह ने मामले की जांच के लिए मजिस्ट्रियल इंक्वायरी के आदेश दिए हैं। डीआईजी जेल वीपी त्रिपाठी तड़के सुबह जेल में मामले की जांच करने पहुंचे है।

बीते बुधवार देर शाम जेल बन्द होने के दौरान कैदियों के गुट आपस में भिड़ गए थे,  जिसके बाद जेलकर्मियों ने बीच-बचाव करने का प्रयास किया तो कैदियों ने जेलकर्मियों पर हमला बोल दिया।

 पूरे घटना क्रम में डिप्टी जेलर जगदीश प्रसाद समेत कई जेलकर्मी और कैदी छुन्ना,मुन्ना खालिद और मोनू पहाड़ी समेत एक दर्जन कैदी घायल हुए।  इलाज के दौरान कैदी मोनू पहाड़ी उर्फ राशिद की मौत हो गयी। कैदी की मौत के बाद जेल प्रशासन के हाथ पांव फूल गए। जिसके बाद मामले को दबाने के लिए जेल अधीक्षक राजकिशोर ने कैदी की मौत की खबर को छुपाते हुए पत्रकारों को गुमराह करने के लिए केवल कैदियों और जेलकर्मियों के घायल होने की सूचना दी और पत्रकारों को जेल से चलता कर दिया। 

लेकिन देर रात मृतक कैदी मोनू पहाड़ी उर्फ राशिद के शव को पुलिस प्रशासन जिला अस्पताल ले गया, जहाँ पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

 जिला अस्पताल के डॉक्टरों की मानें तो देर रात कैदी मोनू पहाड़ी को जिला अस्पताल में मृत अवस्था में ही लाया गया था।

 मामले की जानकारी मिलने के बाद तड़के सुबह जिलाधिकारी जितेन्द्र बहादुर सिंह और एसएसपी आकाश तोमर जेल में निरीक्षण करने पहुंचे है। 

जिलाधिकारी जेबी सिंह ने मामले की जांच के लिए मजिस्ट्रियल इंक्वायरी के आदेश दे दिए है और एडीएम ज्ञान प्रकाश श्रीवास्तव को जांच करने के लिए कहा गया है। उसके बाद डीआइजी जेल वीपी त्रिपाठी भी पहुंचे है। 

सूत्र बताते हैं  कैदियों के हमले से डिप्टी जेलर के घायल होने से नाराज सिविल पुलिस ने जेल में घुसकर कैदी मोनू पहाड़ी पर थर्ड डिग्री का इस्तेमाल किया है जिससे उसकी मौत हुई है।

 जिलाधिकारी जितेंद्र बहादुर सिंह ने बताया कि मामले की जांच के लिए मजिस्ट्रियल इंक्वायरी के आदेश दे दिए गए है। एडीएम ज्ञान प्रकाश श्रीवास्तव मामले की जांच कर रहे है।

यह खबर भी पढ़े: लॉकडाउन के मद्देनजर 79.66 हजार गरीबों को मिलेगा तीन माह का मुफ्त राशन

यह खबर भी पढ़े: असम में तेजी से पांव पसार रहा कोरोना, संक्रमित मरीजों का तबलीगी जमात से संपर्क

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended