संजीवनी टुडे

मध्यप्रदेश में अघौषित बिजली कटौती पर घमासान, उपभोक्ता परेशान

संजीवनी टुडे 13-06-2019 11:51:33

राजधानी भोपाल को समेत शहरों से लेकर कस्बों तक में जमकर बिजली कटौती हो रही है, जिससे उपभोक्ताओं को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। राज्य सरकार बिजली की व्यवस्थाएं दुरुस्त करने के हर संभव प्रयास कर रही है और अधिकारियों की बैठकें लेकर अब प्रदेश के हर जिले से एक-एक सेकंड की बिजली कटौती का हिसाब ले रही है।


भोपाल। मध्यप्रदेश में इन दिनों अवैध बिजली कटौती को लेकर घमासान मचा हुआ है। राजधानी भोपाल को समेत शहरों से लेकर कस्बों तक में जमकर बिजली कटौती हो रही है, जिससे उपभोक्ताओं को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। राज्य सरकार बिजली की व्यवस्थाएं दुरुस्त करने के हर संभव प्रयास कर रही है और अधिकारियों की बैठकें लेकर अब प्रदेश के हर जिले से एक-एक सेकंड की बिजली कटौती का हिसाब ले रही है। इसके बावजूद स्थिति में सुधार देखने को नहीं मिल रहा है। वहीं, भाजपा अघौषित बिजली कटौती को लेकर सरकार को घेरने के लगातार प्रयास कर रही है।

भारतीय जनता पार्टी ने बुधवार शाम को प्रदेशभर में बिजली कटौती को लेकर प्रदर्शन कर चिमनी यात्रा निकाली। इस दौरान सरकार पर आरोप भी लगाए कि वह उत्पादन सरप्लस होने के बावजूद बिजली की आपूर्ति करने में विफल है। वहीं, कांग्रेस का कहना है कि भाजपा बेवजह इस मुद्दे को तूल देकर सरकार की छवि खराब करने की कोशिश कर रही है। 

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा है कि बिजली कटौती से प्रेदश में हा-हाकार मचा हुआ है और सरकार ट्रांसफर उद्योग में व्यस्त है, जबकि कांग्रेस नेता और सीएम कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा का कहना है कि प्रदेश में बिजली कटौती निर्धारित शेड्यूल के अनुसार ही हो रही है। भाजपा सरकार को बदनाम करने के लिए इस मुद्दे पर राजनीति कर रही है।

बिजली कटौती की बात करें तो इंदौर में यह हालत है कि चार-चार घंटों तक बिजली गुल हो जाती है। भोपाल में भी बुधवार को देर शाम आंधी के दौरान कई इलाकों की बिजली गुल हो गई, जो दो से तीन घंटों बाद आई। गांवों के हालात तो चिंताजनक बने हुए हैं। यहां कुछ ही घंटों के लिए बिजली रहती है, बाकी समय ग्रामीण भीषण गर्मी की मार झेलने को मजबूर हैं। इधर, बिजली विभाग का कहना है कि मैन्टेनेंस के लिए निर्धारित समय के अनुसार ही बिजली की कटौती की जा रही है और नागरिकों को इसकी जानकारी पहले ही उपलब्ध करा दी जाती है। 

वहीं, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने निर्देश दिये हैं कि अधिकारी बिजली की आपूर्ति पर विशेष ध्यान दें। लापरवाही करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। ऊर्जा मंत्री प्रतिदिन बिजली विभाग की बैठक लेकर समीक्षा कर रहे हैं और उनसे रोजाना रिपोर्ट भी ली जा रही है। जिन इलाकों में तूफान के कारण बिजली के खंबे गिर गए हों या ट्रिपिंग-मेंटेनेंस के कारण बंद की गई हो, हर संभागीय मुख्यालय से विकास खंड स्तर तक कितनी बार बिजली गई, किन कारणों से गई, औसत बिजली गुल होने का समय क्या रहा, ऐसे सारे विवरण की रिपोर्ट रोजाना तलब की जा रही है।

iuuijjkjk

राजधानी भोपाल के साथ-साथ मुख्यमंत्री कमलनाथ के विधानसभा क्षेत्र छिंदवाड़ा में भी बिजली कटौती की समस्या बनी हुई है, तो अन्य क्षेत्रों का हालात का सहज की अंदाजा लगाया जा सकता है। इंदौर, ग्वालियर जैसे महानगरों में चार-चार घंटे और जिला मुख्यालयों व कस्बाई इलाकों में छह-छह घंटे तक बिजली गुल रहती है। इधर, अधिकारियों-कर्मचारियों द्वारा बिजली गुल होने का कारण आंधी-तूफान या फिर ट्रिपिंग बताया जाता है।

इन दिनों भीषण गर्मी पड़ रही है और ऐसे में बिजली कटौती के ऐसे हालात हैं, तो बरसात के मौसम में आंधी-तूफान के दौरान लोगों को कितनी बिजली कटौती का सामना करना पड़ेगा, इसका अंदाजा लगाया जा सकता है। बिजली कंपनियों का कहना है कि बारिश में लोगों को बिजली की समस्या से बचाने के लिए व्यापक स्तर पर मेंटेनेंस किया जा रहा है। 

इसके लिए शटडाउन का समय निर्धारित कर अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग समय पर बिजली कटौती की जा रही है। ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव आईसीपी केसरी का कहना है कि उन्होंने बिजली कंपनियों को निर्देश दिये हैं कि सुबह छह बजे से नियोजित शटडाउन कर मेंटेनेंस किया जाए, ताकि आम आदमी को दोपहर तक निर्बाध गति से बिजली मिलती रहे। 

प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह का कहना है कि वे स्वयं बिजली की समस्या को गंभीरता से ले रहे हैं और प्रतिदिन विभागीय समीक्षा कर कहां-कहां कब-कब बिजली गुल हुई, इसकी रोजाना रिपोर्ट ले रहे हैं। उन्होंने विभागीय अधिकारियों की निर्देश दिये हैं कि हर उपभोक्ता तक बिजली पहुंचे, जहां कभी किसी कारण विशेष से बिजली बंद हो, उसकी सूचना एसएमएस, वाट्सएप ग्रुप के माध्यम से पहुंचाई जाए। हर जेई अपने जोन में वाट्सएप ग्रुप बनाए, जिसमें सिर्फ वही सूचना भेजे। इस ग्रुप में उपभोक्ता, जन-प्रतिनिधि, व्यापारी, शासकीय सेवक, रहवासी संघ को बिजली बंद रखने की सूचना दी जाए, जिससे प्रभावित लोगों को यह पता लगे कि उनके यहाँ बिजली इतने वक्त में आ जाएगी। 

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

More From state

Trending Now
Recommended