संजीवनी टुडे

अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन में कृषि और हैण्डलूम उत्पादों को बाजार दिलाने हुए आठ एमओयू

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 20-09-2019 18:06:11

अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन में छत्तीसगढ़ कृषि और हैण्डलूम उत्पादों के अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर बाजार उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार द्वारा आठ कंपनियों के साथ एम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर किए गए।


रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी आज से शुरू अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन में छत्तीसगढ़ कृषि और हैण्डलूम उत्पादों के अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर बाजार उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार द्वारा आठ कंपनियों के साथ एम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर किए गए।

यह खबर भी पढ़े: कॉरपोरेट टैक्स में छूट, RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा- यह एक कड़ा निर्णय

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां एक होटल में अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन का शुभारंभ किया। तीन दिवसीय सम्मेलन के पहले दिन नेपाल, जापान, बांग्लादेश, संयुक्त अरब अमीरात, ओमान, घाना, बहरीन, पोलैंड, सिगापुर, फ्रांस, यूनान, म्यानमार और भूटान से आए व्यवसायिक प्रतिनिधियों और क्रेताओं से चर्चा कर बघेल ने उन्हें छत्तीसगढ़ के कृषि व वन उत्पादों तथा हथकरघा से बने वस्त्रों के बारे में जानकारी दी।

इसके बाद छत्तीसगढ़ कृषि और हैण्डलूम उत्पादों के अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर बाजार उपलब्ध कराने के लिए आठ कंपनियों के साथ सरकार ने एम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर किए। इनमें से चार एम.ओ.यू. छत्तीसगढ़ राज्य कृषि विपणन (मंडी) बोर्ड और चार एम.ओ.यू. छत्तीसगढ़ हाथ करघा विकास एवं विपणन संघ के साथ हुए। कृषि उत्पादों के लिए बांग्लादेश, ग्रीस की विभिन्न कंपनियों और यूरोप-इंडिया एग्रीकल्चर फोरम के साथ एम.ओ.यू. किया गया।

यह खबर भी पढ़े: सरकार ने किया ऐसा ऐलान की शेयर बाजार ने लगाई रिकॉर्ड छलांग

जिन कंपनियों से एम.ओ.यू. किया गया उनमें बांग्लादेश फ्रेश फ्रूटस इंपोर्टरस एसोसिएशन, बांग्लादेश एग्रो प्रोसेसर्स एसोसिएशन, ग्रीक फूड कॉरीडोर ग्रीस और यूरोप-इंडिया एग्रीकल्चर फोरम ने छत्तीसगढ़ राज्य कृषि विपणन (मंडी) बोर्ड के साथ कृषि उत्पादों के विपणन के लिए एम.ओ.यू. किए। वहीं हैण्डलूम वस्त्रों के लिए टाटा कंपनी के ब्रांड तनीरा (ज्ंदमपतं) के साथ एम.ओ.यू. किया गया। कंपनी का यह ब्रांड प्राकृतिक रेशे से बुनी गयी साडिय़ों और वस्त्रों के लिए कौशल उन्यन, मानिकीकरण और दस्तावेजीकरण के क्षेत्र में सहयोग करेगा। इसके माध्यम से छत्तीसगढ़ के बुनकरों को अपने उत्पाद की गुणवत्ता में सुधार और अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय बाजारों में अच्छा मूल्य प्राप्त करने का मौका मिलेगा।

छत्तीसगढ़ के हैण्डलूम और सिल्क उत्पादों को विश्वस्तरीय बाजार उपलब्ध कराने के लिए छत्तीसगढ़ हाथ करघा विकास एवं विपणन संघ के साथ चार एम.ओ.यू. किए गए। ये एम.ओ.यू. टाटा कंपनी लिमिटेड, पेरामोन इंडस्ट्रीज प्रायवेट लिमिटेड, एक गांव ग्रुप टेक्नॉलाजी प्रायवेट लिमिटेड और संत रविदास एम.पी. हस्तशिल्प एवं हाथकरघा विकास निगम के साथ किए गए।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From state

Trending Now
Recommended