संजीवनी टुडे

किसानों के नाम पर धरने से भाजपा की किसान विरोधी राजनीति उजागर : कांग्रेस

संजीवनी टुडे 22-02-2020 22:29:59

किसानों के हितैषी होते तो तब भी धरना देते। इस बार तो भाजपा ने छत्तीसगढ़ के किसानों के लिये चिट्ठी भी नहीं लिखी।


रायपुर। छत्‍तीसगढ़ में भाजपा के धरने पर कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री शैलेश नितिन त्रिवेदी ने शन‍िवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि भाजपा की किसानों को लेकर की जा रही राजनीति और किसान विरोधी चरित्र उजागर हुये है। जब राज्य में भाजपा की रमन सरकार थी तब मोदी सरकार ने कहा था 300 रुपये बोनस नहीं देना है तो भाजपा सरकार चिट्ठी लिखकर रह गयी। न किसानों को बोनस दिया, न मोदी सरकार के खिलाफ धरना दिया। 

उन्‍होंने कहा क‍ि जब छत्तीसगढ़ सरकार ने कहा कि 2500 रुपये देंगे और मोदी सरकार ने रोका तब भी भाजपा ने इस किसान विरोधी फैसले के खिलाफ धरना नहीं दिया। किसानों के हितैषी होते तो तब भी धरना देते। इस बार तो भाजपा ने छत्तीसगढ़ के किसानों के लिये चिट्ठी भी नहीं लिखी। 17 लाख किसानों ने केन्द्र की मोदी सरकार को पत्र लिखा लेकिन भाजपा ने तो धरना देना तो दूर एक चिट्ठी लिखना तक जरूरी नहीं समझा। वहीं भाजपा के लोकसभा सदस्यों में से कोई भी किसानों के साथ खड़ा नहीं हुआ।

भाजपा सरकार में धमतरी में किसानों पर किया गया बर्बर लाठीचार्ज अभी तक छत्तीसगढ़ के लोग नहीं भूले है। भाजपा सरकार में ही अभनपुर के किसान की अश्रुगैस का गोला फटने से मौत की घटना सबको अभी तक याद है। अभनपुर में पुलिस की अश्रुगैस लाठी से किसान केजूराम बारले की मौत हो गयी।

आरंग के रीवा गांव का किसान गोकुल साहू सहित सैकड़ों किसान खेतों को पानी नहीं मिलने के कारण और कर्ज के बोझ तले आत्महत्या कर चुके है। सैकड़ों किसानों ने भाजपा के 15 साल के शासनकाल में आत्महत्या की है। भाजपा अपने किसान विरोधी रवैये का फल भुगत ही रही है। 

यह खबर भी पढ़ें:​ झारखंड का पहला इनलैंड कंटेनर डिपो खुला, पहली गुड्स ट्रेन रवाना

जयपुर में प्लॉट मात्र 289/- प्रति sq. Feet में  बुक करें 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended