संजीवनी टुडे

डीजीपी का बेतुका बयान, लड़कियों की स्वतंत्रता को बताया अपहरण की वजह

संजीवनी टुडे 07-07-2019 17:51:31

मध्यप्रदेश के डीजीपी का एक बेतुका बयान सामने आया है, जिसमें उन्होंने प्रदेश में बढ़ती अपहरण की घटनाओं का कारण लड़कियों की स्वतंत्रता को बताया है।


भोपाल। मध्यप्रदेश के डीजीपी का एक बेतुका बयान सामने आया है, जिसमें उन्होंने प्रदेश में बढ़ती अपहरण की घटनाओं का कारण लड़कियों की स्वतंत्रता को बताया है। उनका कहना है कि लड़कियां अब पहले से ज्यादा स्वतंत्र हैं, इसलिए प्रदेश में महिला अपराधों, खासकर अपहरण के मामलों में इजाफा हुआ है। हालांकि उनका यह बयान एक दिन पुराना है, लेकिन यह अब सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। इसके बाद उन्हें आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ रहा है। लोग डीजीपी के इस बयान को बेहद गैरजिम्मेदार बता रहे हैं और सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल भी कर रहे हैं।

इन दिनों डीजीपी वीके सिंह ग्वालियर-चम्बल संभाग के तीन दिवसीय प्रवास पर हैं। वे यहां महिला संबंधी अपराधों को लेकर स्कूल-कॉलेजों में पहुंचकर लड़कियों को जागरूक कर रहे हैं। इसी बीच शनिवार को उन्होंने मीडिया से बातचीत में प्रदेश में अपहरण के मामलों को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए एक बेतुका बयान दे दिया। उन्होंने कहा कि ‘एक नया ट्रेंड 363 के रूप में दिख रहा है, लड़कियां स्वतंत्र ज्यादा हो रही हैं, स्कूलों और कॉलेजों में जा रही हैं। आज के समाज में बढ़ती स्वतंत्रता एक तथ्य है। ऐसे में उनका जो सामना हो रहा है, इंटरेक्शन हो रहा है दूसरे लडक़ों के साथ, ये भी एक सच्चाई है। ऐसे मामलों में वृद्धि देखने को मिली है कि लड़की घर से चली जाती हैं फिर रिपोर्ट किडनैपिंग की होती है।’ उनके बयान का यह वीडियो शनिवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। रविवार को भी लोग इस वीडियो को जमकर ट्रोल करते हुए डीजीपी के बयान की जमकर आलोचना कर रहे हैं और उन्हें अपनी आदत में सुधार लाने की नसीहत तक दे रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार मध्यप्रदेश में वर्ष 2016 में बच्चों के खिलाफ अपराध व अपहरण के 6016 मामले सामने आए थे, जिनमें बड़ी संख्या में लड़कियों के अपहरण के मामले हैं। इसी को लेकर डीजीपी से पत्रकारों द्वारा सवाल किया गया था, जिस पर उन्होंने यह गैर जिम्मेदाराना बात कही। इस मामले में प्रदेश के गृह मंत्री बाला बच्चन से बात की गई, तो उन्होंने डीजीपी के बयान को गैर जिम्मेदाराना बताया। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार अपराधों को लेकर गंभीर है और इनकी लगातार समीक्षा की जा रही है। उन्होंने कहा कि दो दिन पहले ही उन्होंने पुलिस अधिकारियों की बैठक लेकर आपराधिक प्रकरणों की समीक्षा की थी, जिसमें जिसमें उन्होंने सरकार की मंशा स्पष्ट करते हुए कहा था कि यदि किसी थाना क्षेत्र में कोई घटना होती है, तो उसके लिए उसे क्षेत्र के छोटे कर्मी से लेकर बड़े अधिकारी तक जिम्मेदार होंगे। सरकार प्रदेश की जनता की सुरक्षा के लिये प्रतिबद्ध है। 

डीजीपी के बयान को लेकर मप्र कांग्रेस कमेटी की मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा का कहना है कि "मुझे नहीं पता कि उनके बयान का क्या मतलब है, लेकिन महिलाओं के खिलाफ अपराध बर्दाश्त नहीं किये जाने चाहिए। सीएम कमलनाथ ने हमेशा महिलाओं के खिलाफ अपराध पर जीरो टॉलरेंस की बात कही है और गृह मंत्री भी लगातार अपराधों की समीक्षा कर रहे हैं, इसलिए प्रशासन को भी उसी मानसिकता की प्रतिध्वनित करना चाहिए। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता जेपी धनोपिया का कहना है कि पुलिस अफसरों को इस तरह की बातों से बचना चाहिए और महिलाओं की सुरक्षा के लिए कड़े इंतजाम करना चाहिए। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राहुल कोठारी ने भी डीजीपी के बयान को गैर जिम्मेदाराना बताया है। उन्होंने डीजीपी को नसीहत देते हुए कहा है कि उन्हें इस तरह के सामान्य और गैर जिम्मेदाराना बयानों से बचना चाहिए। वह राज्य पुलिस के प्रमुख हैं। पुलिस की नाकामी की वजह से राज्य में महिलाओं के प्रति अपराध बढ़ रहे हैं। ऐसे में डीजीपी को इस बात पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए कि अपहरण और अपराध की घटनाओं को कैसे रोका जाए।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 4300/- गज, अजमेर रोड (NH-8) जयपुर में 7230012256

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended