संजीवनी टुडे

सदियों पुराने विवाद का अंत होने से अयोध्या में विकास को लगेंगे पंख

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 12-11-2019 16:16:15

रामजन्मभूमि विवाद का समाधान होने के बाद मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की जन्मस्थली पर भव्य मंदिर निर्माण के साथ ही अयोध्या क्षेत्र में आर्थिक विकास की संभवानायें प्रबल हो गयी हैं।


अयोध्या। रामजन्मभूमि विवाद का समाधान होने के बाद मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की जन्मस्थली पर भव्य मंदिर निर्माण के साथ ही अयोध्या क्षेत्र में आर्थिक विकास की संभवानायें प्रबल हो गयी हैं।

यह खबर भी पढ़ें: भाजपा विधायक की अश्लील वीडियो वायरल करने वाला गिरफ्तार

सदियों से लम्बित मंदिर मस्जिद विवाद के कारण अयोध्या समेत आसपास के क्षेत्र में विकास की पूरी प्रक्रिया ही अवरुद्ध थी। मंदिर निर्माण से अयोध्या धार्मिक पर्यटन मानचित्र में अहम स्थान बनायेगी जिससे यहां मूलभूत सुविधायें बढ़ेंगी वहीं देश के विभिन्न राज्यों से कनेक्टिविटी भी बढ़ेगी। देश-विदेश के श्रद्धालुओं का आवागमन भी अयोध्या में होगा। पर्यटकों की सुविधा के लिये होटल एवं ट्रैवल्स उद्योग भी पनपेगा। इसके अतिरिक्त भी रोजगार के नये-नये अवसर सृजित होंगे।

गौरतलब है कि अयोध्या की अर्थव्यवस्था का आधार सदियों से वर्ष पर्यन्त यहां होने वाले तीन मेले ही रहे। इनमें चैत्र रामनवमी मेला, सावन झूला मेला तथा कार्तिक पूर्णिमा मेला एवं परिक्रमा शामिल है। रामजन्मभूमि विवाद से छुटकारा मिलने के बाद यहां के निवासियों में अब उत्साह के साथ-साथ व्यापार बढऩे की भी आस लगायी जा रही है। केन्द्र की मोदी सरकार व प्रदेश की योगी सरकार ने सुप्रीम फैसला आने के पहले से ही अयोध्या में पर्यटन उद्योग की संभावनाओं को बढ़ाने की दिशा में महत्वपूर्ण पहल की थी। 

इसके तहत सरकार ने पर्यटन विकास नीति 2019 की घोषणा कर निवेश के लिये व्यवसायियों को आमंत्रित किया है। इस नीति का लाभ उठाने के लिये दर्जनों औद्योगिक ईकाईयों ने अपना पंजीकरण भी कराया है। इनमें होटल, रेस्त्रा के अलावा वेलनेस सेंटर प्रमुख हैं।

केन्द्र सरकार ने बाराबंकी और जफराबाद के बीच अकबरपुर से वाया अयोध्या रेलवे लाइन के दोहरीकरण की योजना को भी मंजूर प्रदान की है। इसका टेंडर भी हो चुका है। करीब डेढ़ सौ करोड़ की लागत से अयोध्या रेलवे स्टेशन को भारत का सबसे बड़ा स्टेशन बनाने की योजना पर तेजी से काम भी हो रहा है जो 2020 तक पूरा होने की संभावना है। 

स्वदेश योजना के अंतर्गत रामायण सर्किट की 133 करोड़ रुपये की परियोजनायें निर्माणाधीन अवस्था में हैं। एयरपोर्ट की जमीन खरीदने के लिये उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से धनावंटन कर दिया गया है।

प्रदेश सरकार में दीपोत्सव के आयोजन के साथ 251 मीटर भगवान की मूर्ति लगाने की घोषणा कर दुनिया का ध्यान आकर्षित किया है। प्रदेश की मोदी सरकार ने राम की पैड़ी को इस तरह बनवा दिया है कि अब लोग कभी भी श्रद्धालु स्नान कर सकते हैं और नयाघाट को चमका दिया है। ऐसे में आर्थिक प्रगति होना स्वाभाविक है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended