संजीवनी टुडे

जरूरतमंदों के लिए निराश्रित बेटियां बना रही कपड़े

संजीवनी टुडे 25-11-2020 10:40:36

बालिकाएं 16 वर्ष तक के जरूरतमंद बच्चों के लिए ड्रेस सिलकर देंगी।


बांसवाड़ा। उनके सिर पर मां- पिता साया नहीं है और वह स्वयं बालिका गृह में रहकर जीवन व्यतीत कर रही हैं, लेकिन जब जरूरतमंद लोगों की सेवा करने की बात आई तो इन बालिकाओं ने आगे चलकर इच्छा जाहिर की कि वह कपड़े सिलकर लोगों को निशुल्क वितरण करेंगी।

आश्रय सेवा संस्थान के मां उमा बालिका गृह में रहने वाली बेटियों ने  " मां वस्त्र बैंक" की स्थापना कर ऐसे लोगों के लिए वस्त्र बनाएंगी जिनको जरूरत है। वह भामाशाहों से कपड़ा लेकर जरूरतमंदों के लिए कपड़े बनाकर वितरण करेंगी। मां उमा बालिका गृह के सचिव नरोत्तम पंड्या ने बताया कि बालिका गृह में रहने वाली बालिकाओं को सिलाई का प्रशिक्षण दिया गया है जिससे वह आत्मनिर्भर बन सके।

उन्होंने बताया कि बालिकाओं ने आगे चलकर लोगों की सेवा करने का जज़्बा दिखाया है। बालिकाएं 16 वर्ष तक के जरूरतमंद बच्चों के लिए ड्रेस सिलकर देंगी। वस्त्र बैंक का शुभारंभ मंगलवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव देवेन्द्र सिंह भाटी ने किया।

यह खबर भी पढ़े: VIDEO: नेहा कक्कड़ और रोहनप्रीत सिंह की शादी को 1 महीना हुआ पूरा, सिंगर ने पति को किया KISS

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended