संजीवनी टुडे

देवरिया: पुलवामा शहीद परिवार ने खुद के खर्च से बनवाया पार्क, लगवाई मूर्ति

संजीवनी टुडे 14-02-2020 12:34:39

पुलवामा हमले की घटना को आज एक साल पूरा हो गया है। सरकार के शहीद परिवारों से वादे उनके लिए किसी संजीवनी से कम नहीं थे।


देवरिया। पुलवामा हमले की घटना को आज एक साल पूरा हो गया है। सरकार के शहीद परिवारों से वादे उनके लिए किसी संजीवनी से कम नहीं थे। पुलवामा हमले में गोरखपुर मंडल के देवरिया जिले का एक लाल भी शहीद हुआ था। 

इस दौरान कई वादे किए गए, जिसमें से कुछ पूरे हुए तो कुछ अभी भी अधूरे हैं। सरकार के वादे के एक साल बीतने के बाद भी जब देवरिया के शहीद की याद में मूर्ति नहीं बनी तो परिजनों ने खुद के खर्च पर अपनी जमीन पर पार्क बनाने के साथ वहां शहीद की छह फीट ऊंची प्रतिमा लगाने का कदम उठा लिया और आज पार्क के उद्घाटन के साथ प्रतिमा का अनावरण किया जा रहा है।

पुलवामा आतंकी हमले में देवरिया के विजय कुमार मौर्य भी शहीद हुए थे। देवरिया जिला स्थित इनके पैतृक गांव भटनी के छपिया जयदेव में शहीद की छह फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण करने का निर्णय किया गया। परिजनों ने अपने खर्च और जमीन पर गांव में पार्क का निर्माण करवा दिया है। अब वहां आज शहीद की प्रतिमा स्थापित की जा रही है। परिजनों के मुताबिक पार्क निर्माण के करीब 20 लाख रुपये खर्च आया है। पहली पुण्यतिथि पर आज पार्क का उद्घाटन किया जाना है।

शहादत की ऐसे मिली जानकारी 
एक साल पहले सीआरपीएफ में तैनात विजय कुमार मौर्य के पिता रामायन सिंह मौर्य की मोबाइल की घंटी बजी थी। फिर वर्ष 2008 में तैनात शहीद के परिवार में पुलवामा हादसे की जानकारी मिलने के बाद कोहराम मच गया था। 18 फरवरी 2019 को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शहीद के घर पहुंचे थे। परिजनों ने शहीद की पत्नी और भाभी को नौकरी, गांव में शहीद स्मारक, शहीद के नाम पर गेट, गांव में चल रहे परिषदीय विद्यालय का नाम शहीद विजय मौर्य करने, सड़क और बिजली की मांगे रखीं थीं। करीब छह महीने इंतजार किया गया। पहल नहीं हुई तो शहीद के पिता और पत्नी ने निजी जमीन में पार्क बनवाने का फैसला किया। 08 फरवरी को शहीद की छह फीट ऊंची प्रतिमा भी राजस्थान से मंगा ली गई है। शहीद की पहली पुण्यतिथि पर आज पार्क का उद्घाटन और इस प्रतिमा के अनावरण किया जा रहा है।

पत्नी की कलेक्ट्रेट में मिली लिपिक की नौकरी
प्रदेश सरकार की ओर से शहीद के पिता को पांच लाख रुपये और पत्नी को 20 लाख का चेक सौंप था। हर संभव मदद का भरोसा दिया था। इसके बाद शहीद की पत्नी विजय लक्ष्मी को कलेक्ट्रेट में कनिष्ठ लिपिक के पद पर तैनाती दी गई। 

तोरणद्वार, बिजली और सड़क का वादा हुआ पूरा
शहीद विजय की याद में छपिया जयदेव की तरफ जाने वाले रास्ते पर प्रशासन ने तोरणद्वार का बनवाया है। शहीद के दरवाजे तक जाने वाले रास्ता व विद्युतीकरण का कार्य पूरा हो चुका है। हालांकि, शहीद के नाम पर गांव के स्कूल का नामकरण नहीं हो सका है।

शहीद के पिता बोले सरकार ने अधिकांश वादे किए पूरे कुछ अधूरे 
शहीद के पिता रामायन मौर्य कहते हैं कि शहीद की याद में शासन से स्मारक बनाने का भरोसा मिला था। बावजूद इसके कोई पहल नहीं हुई। तब खुद ही अपने शहीद बेटे के नाम से पार्क बनाकर मूर्ति स्थापित करने का निर्णय किया। हालांकि सरकार ने अधिकांश वादे पूरे किए हैं। लेकिन स्मारक निर्माण, बड़े बेटे की विधवा को नौकरी देने का वादा पूरा नहीं हो सका है।  

बोले जिलाधिकारी 
जिलाधिकारी अमित किशोर का कहना है कि पहली बरसी पर ही तोरणद्वार और शहीद के दरवाजे तक बनी सड़क का लोकार्पण किया जा रहा है। स्कूल का नाम शहीद के नाम पर करने की कार्रवाई चल रही है।

यह खबर भी पढ़ें:​ पुलवामा हमले का एक साल: राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर उठाए सवाल, पूछा- सबसे ज्यादा फायदा...

यह खबर भी पढ़ें:​ Happy Valentine's Day: आखिर 14 फरवरी को ही क्यों मनाया जाता हैं वैलेंटाइन डे, जानें इसकी रोचक दास्ता

जयपुर में प्लॉट मात्र 289/- प्रति sq. Feet में  बुक करें 9314166166

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended