संजीवनी टुडे

अलवर दुष्कर्म प्रकरण के दोषियों को फांसी की सजा दिलाने की मांग पर आगे आए दलित संगठन

संजीवनी टुडे 17-05-2019 19:33:26


जयपुर। थानागाजी दुष्कर्म प्रकरण में दोषियों को फांसी की सजा दिलाने ओर पीड़ित के परिवार का अन्यत्र पुनर्वास करने की मांग पर प्रदेश के कई दलित संगठन भी आगे आए हैं। शुक्रवार को प्रेस क्लब में प्रदेश के दर्जनभर दलित संगठनों ने एकजुट होकर दुष्कर्म के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए फांसी की सजा देने की मांग की है। 

रैगर समाज नवनिर्माण महासिमिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष अंजूरानी कराडिया ने कहा कि प्रदेश का दलित वर्ग समाज में अपने उचित सम्मान के लिए संघर्षरत हैं। केंद्र सरकार की रिपोर्ट का हवाला देते हुए अंजूरानी ने बताया कि साल 2013 से 2015 के बीच दलितों पर अत्याचार के मामले में राजस्थान देश में नम्बर एक पर रह चुका है। पिछले पांच साल में करीब 50 हजार से ज्यादा दलितों ने कई तरह की प्रताड़ना सही है। उन्होंने अजमेर के डांगावास में दलितों पर हुए क्रूरता का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदेश में कई दलित परिवार वर्तमान में भी आत्मसम्मान से जीने के लिए संघर्षरत हैं। ऐसे में थानागाजी प्रकरण के बाद दलित वर्ग की नजरें सरकार पर टिकी हुई हैं। 

पत्रकार वार्ता के दौरान उन्होंने कहा कि सामूहिक दुष्कर्म मामले में भी पुलिस की लापरवाही और अंसवेदनशीलता सामने आई है, जो निंदनीय है। 
अखिल भारतीय बैरवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हरिनारायण बैरवा ने कहा कि घटना का राजनीतिकरण होने के बजाए फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई करते हुए आरोपितों को फांसी की सजा देनी चाहिए। 

उन्होंने कहा कि पूर्वी राजस्थान में दलितों के साथ अत्याचार और महिलाओं के साथ दुष्कर्म के मामले बढ़ते जा रहे हैं। अलवर, भरतपुर, करौली, धौलपुर, सवाई माधोपुर की मार्शल कौमों ने दलितों को अपना निशाना बना रखा है।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने राज्य सरकार से प्रकरण की फास्ट ट्रैक कोर्ट में पैरवी कर दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की। इसके अलावा पीड़ित के परिवार को 50 लाख रुपये का मुआवजा और पति को सरकारी नौकरी देने की मांग की गयी है।  

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

More From state

Trending Now
Recommended