संजीवनी टुडे

विश्व गुरु का दर्जा पुन: हासिल करने के लिए आगे बढ़ रहा है देश: प्रेमंचद

संजीवनी टुडे 16-06-2019 16:19:33

विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने कहा कि किसी भी देश या प्रदेश के विकास के साथ-साथ मनुष्य निर्माण में वहां के नागरिकों के आध्यात्मिक एवं बौद्धिक विकास की अहम भूमिका होती है।


देहरादून। विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने कहा कि किसी भी देश या प्रदेश के विकास के साथ-साथ मनुष्य निर्माण में वहां के नागरिकों के आध्यात्मिक एवं बौद्धिक विकास की अहम भूमिका होती है। परम्परागत प्राचीन भारतीय चिकित्सा पद्धति के माध्यम से योग व आयुर्वेद को बढ़ावा देकर हम इस लक्ष्य को आसानी से हासिल कर सकते हैं। इसी के कारण भारत को पूर्व में विश्व गुरु का दर्जा हासिल था और आज प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में देश अपने इस दर्जे को पुन: हासिल करने की ओर अग्रसर है।रविवार को दून योगपीठ, संस्कार परिवार सेवा समिति के तत्वाधान में घंटाघर स्थित एमडीडीए कांपलेक्स में विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल द्वारा विशेष योग शिविर एवं योग पर आधारित योगासन प्रतियोगिता योग एवं आयुर्वेद के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं को सम्मानित करते हुए यह बातें कही। 

इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि कि योग जीवन जीने की कला है, एक जीवन पद्धति है। योग के अभ्यास से सामाजिक तथा व्यक्तिगत आचरण में सुधार आता है। कहा कि आज विश्‍व का ध्यान आयुर्वेदीय चिकित्सा प्रणाली की ओर आकर्षित हो रहा है, जिसके तहत उन्होनें भारत की अनेक जडीबूटियों का उपयोग अपनी चिकित्सा में करना शुरू कर दिया।अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने बताया कि विश्व में प्रत्येक वर्ष लगभग तीन करोड़ लोगों की मौत असंक्रामक बीमारियों की वजह से होती है। इसका मुख्य कारण बदली जीवन शैली और असंतुलित आहार है। आयुर्वेद और योग के जरिये हम पुरातन काल से प्रचलित परंपरागत पोषक तत्वों प्राप्त करते हुए स्वस्थ्य जीवन जी सकते हैं। साथ ही असंक्रामक बीमारियों से भी निदान पा सकते हैं। उन्होंने कहा कि हमें आज के युग में स्वस्थ जीवन जीने के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्घति को बेहतरीन ढंग से अपनाएं जाने की जरूरत है। 

उन्होंने पंचकर्म, आयुर्वेद, यूनानी, योग, प्राकृतिक चिकित्सा पद्धतियों को व्यवहारिक रुप से अपनाने की आवश्यकता जताई। उन्होंने संयमित जीवन जीने के साथ रोजमर्रा की जिंदगी में स्वस्थ जीवन यापन के लिए नियमित रुप से योग करने का आह्वान किया। हर रोज खुली हवा में घुमने के साथ ही सुचारू रुप से योगाभ्यास करने और स्वच्छ एवं सात्विक भोजन करने की बात कही। इस अवसर पर दून योगपीठ के अध्यक्ष योगाचार्य विपिन जोशी, भारतीय योग संस्थान के अजित पवार जी, संरक्षक राधे श्याम जोशी, मोहनलाल विरमानी, सुधीर वर्मा, रंजीता राणा, शशिकांत दुबे, जेएन कोठियाल, डॉ सपना डिमरी, हरीश जौहर सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended