संजीवनी टुडे

कोरोना का कहर: शहर में तेजी से मिल रहे संक्रमित मरीज, खतरे में इंदौर!

संजीवनी टुडे 31-03-2020 18:13:17

मां अहिल्या की पावन नगरी कहलाने वाले इंदौर में जिस तरह से लगातार कोरोना वायरस के संक्रमित मरीज मिलते जा रहे हैं, उससे लगातार हमारा शहर खतरे की ओर बढ़ता जा रहा है।


इंदौर। मां अहिल्या की पावन नगरी कहलाने वाले इंदौर में जिस तरह से लगातार कोरोना वायरस के संक्रमित मरीज मिलते जा रहे हैं, उससे लगातार हमारा शहर खतरे की ओर बढ़ता जा रहा है। तेजी से बढ़ते इस खतरे को देखते हुए राज्य शासन और जिला प्रशासन सकते हैं और उन्हें इस बात की चिंता सता रही है कि यदि शहर में इस महामारी ने पैर पसार लिए तो क्या होगा? शहरवासियों के साथ ही पूरे देश के लोगों ने अभी तक लॉक डाउन का पालन करते हुए घरों से बाहर नहीं निकलने में जो सब्र दिखाया है, वहीं सब्र आगे भी दिखाना होगा, तभी हम जानलेवा कोरोना वायरस की इस चेन को तोडऩे में सफल हो सकेंगे। इंदौर में जिस तेजी से इस बीमारी के संक्रमित मिल रहे हैं उससे साफ पता चलता है कि यह वायरस शहर में फैल चुका है। अब इससे बचाव का एक ही तरीका है, वह है हम आपस में दूरी बनाए रखे। 

कलेक्टर बोले - संख्या अभी काफी बढ़ेगी,  7 दिन अभी और कर्फ्यू
मंगलवार को इंदौर शहर के एक बुरी खबर यह आई कि कोरोना वायरस के 17 नए मरीज सामने आए। इसके बाद कलेक्टर मनीष सिंह ने रेसीडेंसी कोठी पर सभी अधिकारियों की बैठक ली। बैठक के बाद उन्होंने साफ कर दिया कि इंदौर अगले सात दिनों तक इस तरह की सख्ती के लिए तैयार रहें। जो व्यवस्था अभी चल रही है, वह चलती रहेगी। कलेक्टर ने कहा - करीब साढ़े 400 लोग क्वॉरेंटाइन में रखे गए हैं, जिसमें से 285 के सैंपल अभी जांच के लिए भेजे गए हैं। यह संख्या अभी और बढ़ेगी। हो सकता 2 से ढाई सौ तक पॉजिटिव मरीज इंदौर में सामने आएं, लेकिन हम इसके लिए मानसिक रूप से तैयार हैं। जो भी मरीज चिन्हित हो रहे हैं, हम उनके करीबियों को क्वॉरेंटाइन हाउस में पहुंचा रहे हैं, उनकी जांच करा रहे हैं।

हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम-
कलेक्टर द्वारा बुलाई गई आपात बैठक में सभी अधिकारियों को आगे की परिस्थितियों को देखते हुए काम करने को कहा गया। कलेक्टर ने स्पष्ट कहा है कि प्रशासन हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम है। कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट आने के पहले ही कोरोना संदिग्धों को क्वॉरेंटाइन होम में सुरक्षित कर दिया गया था। इनका इलाज वहीं पर चल रहा है। उन्होंने लोगों से निर्देशों का पालन करने को कहा। साथ ही यह भी बताया की दूध के लिए घरों में जाकर आपूर्ति की व्यवस्था चालू कर दी गई है। कलेक्टर ने बताया कि कोरोना से बचाव का केवल एक ही रास्ता है और वह है लोग अपने घर में ही रहे।

मरीजों में हो रहा लगातार सुधार-
कलेक्टर ने बताया कि हमारे द्वारा पिछले दिनों क्वारेंटाइन किए गए मरीजों में से कुछ और की रिपोर्ट पॉजिटिव आ सकती है, लेकिन इसका एक पहलू यह है कि क्वारेंटाइन किए गए मरीजों में लगातार सुधार हो रहा है। हमारे लिए रानीपुरा हाथीपाला और नयापुरा जैसे क्षेत्र चुनौतिपूर्ण हैं, लेकिन इस चुनौती से निपटने के लिए हम तैयार हैं।

संक्रमित मरीजों से संपर्क में आने के बाद फैला वायरस-
जानकारी के अनुसार पूर्व में सामने आए 27 मरीजों के संपर्क में आए लोगों में कोरोना पॉजिटिव मिला है। ये सभी मरीज इंदौर के हैं। कोरोना से अब तकक प्रदेश में 5 की मौत (इंदौर-3, उज्जैन-2) के बाद अब प्रशासन की चिंताएं बढ़ती जा रही है। ऐसे में लोगों को बचाने के लिए मास्क और सेनिटाइज के साथ घरों से बेवजह बाहर ना निकले और 1 मीटर की दूरी में रहने के सख्त निर्देश जारी किए हैं।

यह खबर भी पढ़े: पाकिस्तान में कोरोनावायरस के 1836 मामले दर्ज, 23 लोगों की मौत

यह खबर भी पढ़े: घर के बाहर बैठकर चाय पी रहे डॉ. डेहरिया की CM शिवराज ने की तारीफ, कहा हमें आप पर गर्व है

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended