संजीवनी टुडे

Corona in Himachal: सख्ती के बाद 52 जमाति आए सामने, अब तक 329 की पहचान, 93 के खिलाफ FIR

संजीवनी टुडे 06-04-2020 18:58:00

हिमाचल प्रदेश सरकार की बाहर से आने वाले तब्लीगी जमातियों को सख्त चेतावनी देने के बाद 52 जमातियों ने प्रशासन के समक्ष अपनी पहचान उजागर की है। इनमें 12 जमाति दिल्ली स्थित निजामुद्दीन के तब्लीगी मरकज में शामिल होकर हिमाचल लौटे थे। इनमें चंबा जिला के आठ और शिमला जिला के नेरवा के चार जमाति शामिल हैं।


शिमला। हिमाचल प्रदेश सरकार की बाहर से आने वाले तब्लीगी जमातियों को सख्त चेतावनी देने के बाद 52 जमातियों ने प्रशासन के समक्ष अपनी पहचान उजागर की है। इनमें 12 जमाति दिल्ली स्थित निजामुद्दीन के तब्लीगी मरकज में शामिल होकर हिमाचल लौटे थे। इनमें चंबा जिला के आठ और शिमला जिला के नेरवा के चार जमाति शामिल हैं। 

वहीं 40 जमाति ऐसे हैं, जो कि निजामुद्दीन से लौटे 12 जमातियों के संपर्क में थे। इनमें से कुछ जमाति खुद या कुछ अपने रिश्तेदारों, पंचायत प्रधानों के माध्यम से सामने आए हैं और ये सभी क्वारंटाईन में डाल दिए गए हैं। हिमाचल पुलिस अब तक 329 तब्लीगी जमातियों को चिन्हित कर क्वारंटीन में रख चुकी है। 

हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने गत रविवार को आम जनता से अपील की थी कि जो तब्लीगी जमाति हाल ही में दिल्ली व बाहरी राज्यों व देशों का भ्रमण कर प्रदेश में आए हैं, वे अपनी पहचान उजागर करें। उन्होंने ऐसा न करने वाले जमातियों के विरूद्व कठोर कार्रवाई करने की चेतावनी दी थी। 

वहीं प्रदेश पुलिस महानिदेशक एस.आर.मरड़ी ने यात्रा इतिहास छिपाने वाले जमातियों के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम के अलावा आईपीसी की धारा 302 व 307 के तहत केस दर्ज करने की बात कही थी। 

मरड़ी ने सोमवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि प्रदेश में अब तक 329 जमातियों की पहचान की गई है तथा ये सभी क्वारंटीन में रखे गए हैं। इनमें 93 जमातियों के विरूद्व सात जिलों में 18 एफआईआर दर्ज की गई है। बीते 24 घंटों में 52 नए जमातियों ने अपनी पहचान उजागर की है। इनमें 12 जमाति सीधे निजामुद्दीन स्थित मरकज  में आयोजित धार्मिक समारोह में शामिल हुए थे। 

पुलिस महानिदेशक ने बताया कि सर्वाधिक 91 जमाति सोलन जिला के औद्योगिक क्षेत्र बद्दी से ताल्लुक रखते हैं। इसके अलावा सिरमौर से 58, चंबा से 45, कांगड़ा से 40, उना से 39, शिमला से 23, मंडी से 17 और बिलासपुर से 16 जमाति शामिल हैं। 

उन्होंने कहा कि आइजीएमसी में दाखिल कोरोना संक्रमित तीन तब्लीगी जमाती गत 18 मार्च को दिल्ली से चार व साढ़े नौ बजे चलने वाली एचआरटीसी बस से नालागढ़ पहुंचे थे। उन्होंने इस बस में सफर करने वाले यात्रियों से क्वारन्टीन पर रहने तथा कोरोना के लक्षण लगने पर अपनी जांच करवाने की अपील की है। 

पुलिस महानिदेशक ने आगे कहा कि राज्य में अब तक कोरोना पॉजिटिव मरीज द्वारा दूसरों के मुंह पर थूंकने की एक वारदात सामने आई है। उन्होंने ऐसा करने वालों को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि ऐसे मामलों में पुलिस हत्या (302) व हत्या का प्रयास (307) का केस दर्ज किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि कोरोना के खतरे के बीच ड्यूटी दे रहे पुलिस जवानों को पीपी किट व मास्क उपलब्ध करवाई जा रही है। इसके साथ ही पुलिस जवान भी पूरी एहतियात व सतर्कता के साथ ड्यूटी दें। उन्होंने कहा कि कफर्यू के दौरान जब गाड़ियों को रोका जा रहा है तो कई गाड़ियों के चालक खुद के मोबाइल फोन को पुलिस जवानों को थमाकर अफसरों से बात करवा रहे हैं। ऐसी परिस्थिति में ड्यूटी दे रहे पुलिस कर्मी गाड़ी चालक व गाड़ी में बैठे व्यक्ति के मोबाइल से बात न करे और न ही गाड़ी को छुए, क्योंकि इससे भी कोरोना के संक्रमण का खतरा है।

उन्होंने कहा कि राज्य में अब तक कफर्यू उल्लंघन की 453 एफआईआर दर्ज कर 416 लोगों को गिरफतार किया गया है। सबसे अधिक 121 लोग शिमला जिला में गिरफतार किए गए हैं। वहीं बिलासपुर में 57 और कांगड़ा व कुल्लू जिलों में 53-53 लोग गिरफतार हुए हैं। जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति में अभी तक कफर्यू उल्लंघन का एक भी मामला सामने नहीं आया है। जबकि किन्नौर जिला में सात मामलों में छह लोग गिरफतार किए गए। उन्होंने कहा कि पुलिस ने अब तक 287 वाहनों को जब्त कर दो लाख 72 हजार 900 रूपया जुर्माना भी वसूला है। 

यह खबर भी पढ़े: पीएम मोदी की 9 PM वाली अपील पर कांग्रेस बोली- मौत और मातम की दिवाली पहली बार देखी

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended