संजीवनी टुडे

कलेक्ट्रेट सर्किल रोड पर जाम से आम परेशान

संजीवनी टुडे 01-03-2019 16:53:07


जयपुर। जयपुर जिला कलेक्ट्रेट सर्किल रोड जाम के मर्ज में अब पूरी तरह उलझ चुकी है। यहां पर सुबह से लेकर शाम तक जाम से आम परेशान है। सुबह और शाम को पीक टाइम में तो लोगों को दम तक घुटने लगता है। वाहनों के जाम लगने के कारण शोर-शराबा और धूएं से लोगों को दम घुट जाता है ऊपर से धुएं से निकलने वाली कालिख उसके चेहरे पर जम जाती है।

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

जयपुर कलेक्ट्रेट सर्किल पूर्व यातायात उपायुक्त रोहित महाजन के लिए निर्णयों के कारण जाम का शिकार हो चुकी है। यातायात उपायुक्त ने खासाकोठी पुलिया को उपयोग में लाने के लिए यहां पर यूटर्न व्यवस्था लेते हुए हसनपुरा पुलिया से आने वाले वाहनों को कलेक्ट्रेट चौराहे से होते हुए सिंधीकैंप निकाला था इस व्यवस्था के बाद कलेक्ट्रेट सर्किल पर जाम का मर्ज दोगुना हो गया। 

कलेक्ट्रेट और जिला न्यायालय में प्रतिदिन हजारों लोग अपनी समस्याओं को लेकर आते है ऐसे में उनके वाहनों का दवाब पहले से ही यहां पर होता है वहीं यहां पर सिंधीकैंप बस स्टेंड, पानीपेच तिराहा, चांदपोल रोड जाने वाले वाहनों का दवाब भी है।

जयपुर में जाम का मर्ज कम करने के लिए कई चौराहों पर वन वे की व्यवस्था है हालांकि यह वन वे की व्यवस्था सफल नहीं रही है लेकिन ट्रैफिक पुलिस अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए इस व्यवस्था को बदलना भी नहीं चाहती है। शहर में एक दर्जन से ज्यादा मुख्‍य मार्गों पर वन वे के कारण लोगों की परेशानियां पीक टाइम में बढ़ जाती है।

पुलिया ही बनी समस्या की वजह: लोगों का कहना है कि खासाकोठी पुलिया ही समस्या की वजह बनी हुई है। इस पुलिया का बेहद कम उपयोग हो पाता है। कलेक्ट्रेट सर्किल पर जब पुरानी व्यवस्था थी तब तो यहां पर खासाकोठी पुलिया पर इक्का दुक्का वाहन ही निकलते दिखते थे। इस व्यवस्था को बदलने के लिए और खासाकोठी पुलिया का उपयोग बढ़ाने के लिए यहां पर नई व्यवस्था की गई थी, लेकिन यह व्यवस्था नाकाम साबित हुई है।

जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय के कारण भी दवाब: यहां पर नई व्यवस्था के कारण प्रतिदिन जिला न्यायालय आने वाले सैकड़ों वकील और यहां का स्टॉफ भी जाम की समस्या को भुगतने को विवश है। जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय के अंदर -बाहर वाहनों की बेतरतीब पार्किंग भी दिखाई देती है। इस कारण लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

सुबह रेंगते हैं वाहन: जिला कलेक्ट्रेट सर्किल पर सुबह से वाहन रेंगने चालू कर देते है। यहां पर सुबह से वाहनों के रेंगने के कारण पूरे सर्किल से दोनों तरफ वाहनों का लंबा काफिला नजर आता है। इस जाम से निजात का कोई हल न ट्रेफिक पुलिस के पास है और न ही इसका हल प्रशासन के पास दिख रहा है। यहां पर वाहनों के रेंगने के कारण आम लोग लगातार परेशान रहते है।

जाम में फंस जाती है एंबूलेंस: कलेक्ट्रेट सर्किल पर लगे जाम के कारण अक्सर यहां पर एम्बूलेंस फंस जाती है। एक किलोमीटर तक की दूरी तक बड़े वाहन, कार और दुपहिया वाहन चालक फंस रहते है। यहां पर पुलिसकर्मी तैनात तो दिखते है लेकिन चालान काटने में ज्यादा व्यस्त दिखते है।

अजमेर रोड भी जाम का शिकार : पुलिसकर्मियों की लापरवाही के चलते अक्सर अजमेर रोड पर जाम के हालात बने रहते है। यहां अजमेर और सीकर से आने वाले वाहन चालकों के लिए जयपुर में घुसने का मुख्य मार्ग है। वहां पर दिन में अनेक बार जाम की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। ट्रैफिक पुलिस कर्मियों की लापरवाही के चलते ही अजमेर रोड पर अक्सर जाम की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

लोगों का कहना है कि जयपुर शहर की मुख्य रोड होने के बाद भी ट्रैफिक पुलिसकर्मी चौराहों पर तैनात नहीं रहते हैं या फिर चौराहे के किनारे पर बैठकर आपस में गप्पे मारने लगते हैं, जिसके चलते आए दिन जाम की स्थिति उत्पन्न हो जाती है, ऐसे में कई किलोमीटर लंबे जाम में फंसे सैकड़ों वाहन चालकों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। 

More From state

Trending Now
Recommended