संजीवनी टुडे

सीएम ने आढ़तियों को खरीद प्रक्रिया से अलग नहीं करने का दिया भरोसा

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 07-08-2019 18:02:27

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आढ़तियों की आशंका को दूर करते हुये उन्हें भरोसा दिया है कि उन्हें खरीद प्रक्रिया से अलग नहीं किया जायेगा ।


चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आढ़तियों की आशंका को दूर करते हुये उन्हें भरोसा दिया है कि उन्हें खरीद प्रक्रिया से अलग नहीं किया जायेगा ।

सलामी देकर पत्नी को स्वराज कौशल ने दी अश्रुपूर्ण विदाई

आज यहां फैडरेशन आफ अाढतिया एसोसिएशन के सम्मेलन को संबाेधित करते हुये कैप्टन सिंह ने कहा कि पंजाब सरकार केन्द्र की तय प्रक्रिया के मुताबिक प्रबंधन प्रणाली (पीएफएमएस ) कोेेे निर्विध्न ढंग से अमल में लाने के लिये पूरी तरह सहयोग देगी । उन्होंने स्पष्ट किया कि केन्द्रीय पूल के लिये गेहूं तथा धान की खरीद प्रक्रिया से आढ़तियों को बाहर निकालने के बारे में एपीएससी एक्ट में कोई संशोधन नहीं करेगी । 

उन्होंने विश्वास दिलाया कि किसानों के आढतियों से पुराने संबंध हैं तथा प्रदेश सरकार किसानों को फसल की अदायगी की प्रक्रिया आढतियों के जरिये ही जारी रखेगी । उन्होंने आढ़तियों की ओर से पीएफएसएम सिस्टम अपनाने के फैसले पर संतोष जताया क्योंकि इस को अमल में न लाने से भारत सरकार ने प्रदेश की एक हजार करोड़ की अदायगी रोकी हुई है ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश मौजूदा समय में वित्तीय संकट से गुजर रहा है ,इसलिये इस रकम के जारी होने में अौर देरी बर्दाश्त नहीं कर सकता तथा इसमें से अाढतियों को दिये जा चुके 500 करोड़ रूपये की राशि शामिल है । उन्होंने प्रदेश की खरीद एजेंसियों तथा मंडी बोर्ड को पीएफएमएस साफ्टवेयर इस्तेमाल करने में प्रशिक्षित करने के निर्देश दिये ताकि किसानों के बैंक अकाउंट अपलोड कर आढतियों के साथ लिंक करने में मदद हो सके । 
उन्होंने कहा कि इस प्रणाली से किसानों तथा अाढतियों को बहुत लाभ होगा क्योंकि भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगी जो अकाली राज के दौरान खरीद कार्य में होती थी । पिछली अकाली सरकार के समय नकद कर्ज सीमा (सीसीएल) खरीद सीजन के अंत में जारी होती थी । 

कांग्रेस सरकार बनने के बाद इसका बंदोबस्त खरीद शुरू होने से पहले कर लिया जाता है । अनाज की समय पर अदायगी तथा ढुलाई को यकीनी बनाने में आढतियों का सहयोग मिलता है । मुख्यमंत्री ने बताया कि पिछली पांच खरीद सीजन के दौरान किसानों को गेहूं तथा धान की बिक्री से करीब 1.24 लाख करोड़ की आय हुई ,जबकि अकाली राज में इन फसलों से 94,200 करोड़ की आय हुई थी । किसानों की आय में 32 फीसदी का इजाफा हुआ । 

मुख्यमंत्री ने बताया कि उनकी सरकार के आने के बाद आढतियों को कमीशन के तौर पर 3100 करोड़ रूपये की आमदन हुई है। जबकि अकाली सरकार के समय आढतियों की आमदनी 2356 करोड़ हुई थी ।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब चैनल

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From state

Trending Now
Recommended