संजीवनी टुडे

चित्रकूट कांड: पीडि़त पिता की पीएम से मामले की सीबीआई जांच की मांग

संजीवनी टुडे 25-02-2019 20:03:43


चित्रकूट। चित्रकूट में अपहरण कर जुड़वा बच्चों की हत्या से आहत पीडि़त पिता ब्रजेश रावत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से न्याय की गुहार लगाते हुए मामले की उच्च स्तरीय जांच जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। उन्होंने सतना में सोमवार को मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि इस हत्याकांड का अब तक पूरी तरह खुलासा नहीं हो पाया है। इसकी सीबीआई से जांच कराई जाए।

चित्रकूट के आयुर्वेदिक तेल व्यवसायी और मृत बच्चों के पिता ब्रजेश रावत ने सोमवार को प्रेस वार्ता कर पुलिस और प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि अपहरण के बाद 11 दिन तक पुलिस ने मामले में कोई तत्परता नहीं दिखाई, जबकि दोनों बच्चों को दो दिन तक शहर में ही रखा गया। उन्होंने कहा कि आरोपितों के खिलाफ भी अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। घटना में कई बड़े लोगों को हाथ है। जिसकी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए। उन्होंने दोषियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। उन्होंने पुलिस पर आरोपितों के संरक्षण का आरोप भी लगाया। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से मांग की है कि मामले की सीबीआई से जांच कराई जाए, ताकि उन्हें न्याय मिल सके।

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

वहीं, सदगुरु ट्रस्ट ने अपरहरण और हत्याकांड के मास्टरमाइंड पद्म शुक्ला के पिता रामशरण शुक्ला को संस्कृत महाविद्यालय से निष्कासित कर दिया है। संस्कृत महाविद्यालय की तरफ से इस संबंध में सोमवार को आदेश जारी कर दिया है। जारी आदेश में स्कूल प्रबंधन ने रामशरण शुक्ल को निष्कासित करने की बात कही गई है। वहीं, हत्याकांड में शामिल महात्मा गांधी ग्रामोदय विश्वविद्यालय में पढ़ाई करने वाले पांच आरोपित छात्रों को यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने निष्कासित कर दिया है। बता दें कि दोनों बच्चों के शव रविवार को देर रात बांदा के पास से यमुना नदी से बरामद किये गये थे। इसके बाद रविवार को पुलिस ने पद्म शुक्ला समेत छह आरोपितों को गिरफ्तार किया था, जिनमें पांच महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय के छात्र हैं। एक आरोपित शिक्षक है, जो रावत परिवार के पड़ोस में ट्यूशन पढ़ाता था।

सीएम कमलनाथ बोले, लापरवाह अधिकारी नपेंगे, पुलिस को फ्री हैंड
वहीं, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सोमवार को मामले की जांच के लिए पुलिस को फ्री हैंड दे दिया है, साथ ही उन्होंने कहा कि दोनों जुड़वा बच्चों की हत्या की घटना से पूरा प्रदेश दुखी है। फिरौती के 20 लाख रुपये मिलने के बाद भी दोनों बच्चों को मौत के घाट उतार दिया गया। यह मेरे लिए एक बेहद दुखद व द्रवित करने वाली घटना है। एक दिल को झकझोर देने वाली घटना है। इस घटना से मेरा मन व्यथित है, बेचैन है। उन्होंने डीजीपी को सख्त निर्देश दिए हैं कि इस मामले में लापरवाही व दोषी सामने आने पर किसी भी अधिकारी को नहीं बख्शा जाये, चाहे छोटा हो या बड़ा। उन पर कार्रवाई करें। इस बेहद दुखद घटना में जिस भी अधिकारी की लापरवाही सामने आए उसे में बरदाश्त नहीं करूंगा।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

कमलनाथ ने ट्वीटर के माध्यम से सोमवार को जारी किये बयान में कहा कि भगवान कामतानाथ की नगरी में हुआ यह हादसा बेहद दर्दनाक। बच्चों के पिता से हुई बातचीत के मेरा मन उद्वेलित हो गया। रात को भी इस घटना ने मुझे व्यथित और बेचैन किया। मुझे यह लगा कि क्यों बच्चे सकुशल वापस नहीं आ पाये? मैं इस मामले में पढऩा नहीं चाहता कि आरोपी कौन थे, किससे जुड़े हुए थे, उनकी गाडिय़ों पर किसके झंडे लगे हुए थे, क्या लिखा हुआ था, उन्हें किसका संरक्षण रहा। मैं इस बेहद संवेदनशील दुखद घटना को राजनीति का विषय भी नहीं बनाना चाहता हूँ और ना ही कोई राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप इस दुखद घटना को लेकर करना चाहता हूँ। मैंने डीजीपी को कहा है कि मैं पूरे प्रदेश की पुलिस को एक बार फिर कड़े निर्देश जारी करें। कानून-व्यवस्था मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता में शामिल है। इसमे जरा भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं करूंगा। चाहे कितना भी बड़ा अधिकारी हो। लॉ एन्ड ऑर्डर को लेकर मेरा पूरे प्रदेश की पुलिस को फ्री हैंड है। अपराधी तत्वों के खिलाफ सतत अभियान चलाए।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended