संजीवनी टुडे

मुख्य सचिव ने किया पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्यों का स्थलीय निरीक्षण

संजीवनी टुडे 02-06-2019 17:47:40

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्यों का स्थलीय निरीक्षण


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव डाॅ. अनूप चन्द्र पाण्डेय ने रविवार को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्यों का स्थलीय निरीक्षण किया। उन्होंने निर्माण कार्य में और अधिक तेजी लाकर 2020 तक प्रदेश की जनता को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे यातायात के लिए उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्य में किसी भी स्तर पर शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जायेगी। 

मुख्य सचिव ने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के विभिन्न फेजों का अमेठी, सुल्तानपुर, गाजीपुर एवं आजमगढ़ में स्थलीय निरीक्षण कर विभागीय अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि एक्सप्रेस-वे निर्माण के लिए आवश्यकतानुसार अवशेष जमीन का अधिग्रहण आगामी 15 दिन में अवश्य पूरा करा लिया जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि जून माह के अंत तक बिजली की लाइन ट्रांस्फार्मर आदि अन्य शिफ्टिंग का कार्य भी पूर्ण करा लिया जाये। 

उन्होंने कहा कि एक्सप्रेस-वे की कुल लंबाई (340.824 किमी) का 10 प्रतिशत भौतिक काम पूरा कर लिया गया है। विगत 01 जून, 19 तक 91.53 प्रतिशत क्लियरिंग और ग्रबिंग का काम और 47.10 प्रतिशत मिट्टी का काम पूरा कर लिया गया है। इसके साथ ही 96.06 प्रतिशत जमीन अधिग्रहित की जा चुकी है, शेष जमीन का अधिग्रहण भी शीघ्र ही पूरा करा लिया जायेगा।

मुख्य कार्यपालक अधिकारी, यूपीडा अवनीश अवस्थी ने बताया कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को 08 पैकेजों में विभक्त कर एक्सप्रेस-वे का निर्माण कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे जनपद लखनऊ में लखनऊ-सुल्तानपुर मार्ग (ग्राम-चांदसराय) से प्रारम्भ होकर जनपद गाजीपुर में (ग्राम-हैदरिया) राष्ट्रीय राजमार्ग सं0 31 पर समाप्त होगा।

उन्होंने बताया कि एक्सप्रेस-वे की कुल लम्बाई 340.824 किमी है। एक्सप्रेस-वे का निर्माण 06 लेन चौड़ाई में तथा सभी स्ट्रक्चरर्स 08 लेन चौड़ाई के निर्मित किये जा रहे हैं। मार्ग के एक ओर स्टैगर्ड रूप से सर्विसरोड का निर्माण कराया जायेगा। एक्सप्रेस-वे पूर्णतयः प्रवेश नियंत्रित होगा। मीडियन की चौड़ाई 5.5 मी. रखी गयी है। 

उन्होंने बताया कि एक्सप्रेस-वे का क्रास करने वाले मुख्य यातायात मार्गों पर वाहनों के आने-जाने हेतु इण्टरचेंज, पदयात्री वाहनों के लिए अण्डरपास तथा टोल प्लाजा के निर्माण का प्राविधान परियोजना में किया गया है। परियोजना में पैकेज संख्या 04 में कूड़ेभार के निकट हवाई पट्टी का निर्माण कराया जायेगा। यातायात की सुरक्षा के लिए एडवांस ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम का कार्य परियोजना में शामिल है।

अवस्थी ने बताया कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के पूर्व प्रस्ताव में एक्सप्रेस-वे से राष्ट्रीय राजमार्ग सं. 233/28 (आजमगढ़-वाराणसी सेक्शन) तक 12.25 किमी लम्बाई का लिंक प्रस्तावित किया गया था। एनएचएआई द्वारा आजमगढ़ शहर के लिये बाईपास प्रस्तावित करने, जो राष्ट्रीय राजमार्ग सं. 233/28 से वाराणसी को आगे जोड़ेगा, के दृष्टिगत वाराणसी लिंक को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे परियोजना से हटाया गया है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर राष्ट्रीय राजमार्ग सं. 233/28 से प्रवेश एवं निकासी के लिए इण्टरचेंज प्रस्तावित है, जिससे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से वाराणसी के लिये कनेक्टिविटी उपलब्ध होगी।

मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने बताया कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे परियोजना की वर्तमान स्वीकृत लागत रुपए 23,349.37 करोड़ है। एक्सप्रेस-वे के आठों पैकेजों सिविल कार्यों की निविदा 11,216 करोड़ रुपये की प्राप्त हुई है, जो परियोजना के सिविल कार्यों की आगणित लागत 11836.02 करोड़ रुपये से 5.24 प्रतिशत कम है व इससे शासन को  619.92 करोड़ रुपये की बचत होगी।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

अवनीश अवस्थी ने बताया कि पैकेज संख्या-01 में मैसर्स गायत्री प्रोजेक्ट्स लिमिटेड, पैकेज सं.-04 में जीआर इंफ्राप्रोजेक्ट्स लि., पैकेज सं0-5 में पीएनसी इंफ्राटेक लि0, पैकेज सं.-6 में पीएनसी इंफ्राटक लि., पैकेज सं.-07 में जीआर इंफ्राप्रोजेक्ट्स लि., पैकेज सं.-8 में ओरियन्टल स्ट्रक्चरल इंजीनियर्स प्रा.लि. द्वारा क्लीयरिंग एवं ग्रबिंग तथा मिट्टी का कार्य किया जा रहा है।

मात्र 220000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314188188

More From state

Trending Now
Recommended