संजीवनी टुडे

कंकरीट के जंगल मे तबदील होता रिकांगपिओ

संजीवनी टुडे 04-03-2019 15:37:55


रिकांगपिओ। जनजातीय जिला किन्नौर के मुख्यालय रिकांगपिओ जहाँ जिला प्रशासन के सारे उच्चाधिकारी बैठते है और जिला किन्नौर की व्यवस्थाओं व जिला को चलाने का काम करते है। आज जिला का मुख्यालय रिकांगपिओ की परिस्थिति केवल कंकरीट का शहर बनकर रह गया है। जिला का यह मुख्यालय बहुत अव्यवस्थित है जहां बाज़ार बिना योजना के सरकारी व गैर सरकारी भवनों को अपने अपने तौर तरीकों से रूप दिया गया है।

जयपुर में प्लॉट मात्र 260000/- में , 12 माह की आसान किस्तों में कॉल  9314166166

जिला का मुख्यालय रिकांगपिओ में आज इतने भवन बन चुके है कि भवनों के आसपास कोई भी खाली जगह मिलना बहुत मुश्किल है। बाज़ार से लेकर जिला मुख्यालय के इर्दगिर्द न ही सीवरेज लाइन को सही रूप से बिछाया गया है न ही बाज़ार में नालियों को योजना से बनाया है। नालियों से गन्दा पानी सड़को पर उतरकर दुकानों में घुस जाता है और सीवरेज लाइन भी बाज़ार के इर्दगिर्द कई जगहों पर लीक हो रहे है।

बता दे कि अव्यवस्था का आलम इतना ज़्यादा है कि बाज़ार में लोग कम और वाहन ज़्यादा हो चुके है और इन गाड़ियों को खड़ी करने के लिए पार्किंग की सुविधा नही है। सारे सरकारी कार्यलय लगभग सभी बाज़ार के आसपास ही है और कार्यालयों व कालेज स्कूल जाने के लिए अभी भी कई स्थानों पर पक्के मार्ग नही है।

सड़को पर गड्ढे, कूड़ेदानों से कूड़ा बाहर होता है बिजली की तारे भवनों को छूती हुई निकल रही है तो कही पेड पौधों से होते हुए गुजरते है। प्रशासन ने अभी तक कोशिश तो काफी की है इन सब अव्यवस्थाओं को ठीक करने का लेकिन इसमें प्रशासन को कामयाबी नही मिल रही। 

रिकांगपिओ में भवनों के नवनिर्माण के कानून टीसीपी द्वारा लागू तो कर दिया गया है लेकिन पहले के बने तंग भवनों के अव्यवस्था को ठीक करना मुश्किल है। कई सरकारी भवन खंडरो में तबदील हो गए है। ये भवन केवल जानवरों व नवयुवकों के नशे का अड्डा बना हुआ है। कंकरीट के रिकांगपिओ शहर में पर्यटकों को देखने योग्य और न ठहरने योग्य कोई अच्छा विकल्प नही है जिसकारण बाज़ार के व्यापारी भी परेशान है।

रिकांगपिओ में कंकरीट के भवनों के अलावा प्रशासन द्वारा कोई भी नई व्यवस्था बनवाई है जिसे देखकर पर्यटक रूक सके। रिकांगपिओ के आसपास की प्राकृतिक खूबसूरती कंकरीट की भवनों ने मिटा कर रख दी है और बचे हुए जंगलो को भी भवन निर्माण के लिए बेतहाशा काट रहे है। ऐसे में रिकांगपिओ जिला का मुख्यालय की खूबसूरती को पर्दा लगा है।

टाउन प्लानिग अधिकारी रामपुर डिवीज़न ज्योति ठाकुर ने बताया कि रिकांगपिओ शहर की प्लानिंग फाइल तैयार है और हमने सरकार को भेजा है। जब सरकार की तरफ से फाइल फाइनल होकर आएगी तो रिकांगपिओ शहर को प्लानिग से हर व्यवस्था को सुचारू रूप से लागू किया जाएगा हालांकि टीसीपी कानून 1982 में लागू हो चुकी थी,रिकांगपिओ के 19 मुहाल टीसीपी के दायरे में आते है जहां टीसीपी कानून लागू है,लेकिन टीसीपी कानून से पहले बने भवन वैसे ही रहेंगे उनके साथ कोई छेडख़ानी नही की जाएगी। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

टीसीपी कानून के बाद यदि अवैध भवन बने होंगे तो कार्यवाही होगी। रिकांगपिओ की खूबसूरती के लिए हमने बहुत अच्छी प्लानिंग बनाई है जिसमे पार्किंग,भवन निर्माण,सड़क,प्राकृतिक खूबसूरती व अन्य सभी योजनाओं को रखा है जैसे ही फ़ाइल सरकार द्वारा फाइनल हो जाएगी वैसे ही रिकांगपिओ टॉउन प्लानिंग के अनुसार व्यवस्थापूर्वक बनेगा।

More From state

Trending Now
Recommended