संजीवनी टुडे

राष्ट्रीय डेंगू दिवस पर गुरुवार को सभी अस्पतालों में लगेंगे कैम्प

संजीवनी टुडे 15-05-2019 18:22:23


हमीरपुर। हमीरपुर जिले में गुरुवार को राष्ट्रीय डेंगू दिवस मनाये जाने के लिये स्वास्थ्य विभाग ने तैयारी पूरी कर ली है। जिले के प्रत्येक सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में कैम्पों का आयोजन किया जायेगा। बैठक के माध्यम से भी आम लोगों को डेंगू और मलेरिया फैलाने वाले मच्छरों से बचाव के लिये जागरूक किया जायेगा। जिले में कुछ सालों में एक दर्जन से अधिक मामले सामने आ चुके है। जानलेवा मलेरिया के भी 664 मामले जांच के दौरान पुष्ट हो चुके हैं। 

जिला मलेरिया अधिकारी आरके यादव ने बुधवार को बताया कि डेंगू, मलेरिया और पेल्सीफेरम जैसा खतरनाक मलेरिया जानलेवा होता है। इन बीमारियों का एक मौसम होता है। खासतौर पर बारिश के दिनों में डेंगू और मलेरिया का प्रकोप ज्यादा बढ़ जाता है। जानकारी और कुछ सावधानियां बरतने से इनसे बचा जा सकता है। उन्होंने बताया कि कल जनपद में राष्ट्रीय डेंगू दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। प्रत्येक सीएचसी, पीएचसी में संगोष्ठी होगी। स्कूलों के माध्यम से जागरूकता रैली निकाली जाएंगी एवं गोष्ठी भी होंगी। जिसमें डेंगू से बचाव के उपायों पर विस्तार से चर्चा होगी। आशा, बेसिक हेल्थ वर्कर, स्वास्थ्य पर्यवेक्षक द्वारा अपने क्षेत्र भ्रमण के दौरान घर-घर विजिट कर हर रविवार, मच्छर पर वार स्लोगन का प्रचार-प्रसार किया जाएगा। 

क्या कहते हैं मलेरिया विभाग के आंकड़े 
जिला मलेरिया विभाग के आंकड़ों के अनुसार जनपद हमीरपुर में वर्ष 2017 में डेंगू के 4 केस, वर्ष 2018 में 8 केस और वर्ष 2019 में अभी तक कोई भी मरीज नहीं मिला है। इसके अलावा जनपद में अप्रैल 2019 तक कुल 13 हजार 773 बुखार पीड़ित मरीजों के ब्लड सैंपल लिए गए हैं। जिसमें 67 मलेरिया पॉजिटिव मरीज मिले है। जबकि पीएफ (पेल्सीफेरम) मलेरिया का कोई भी केस नहीं मिला है। इसी प्रकार वर्ष 2018 में 71 हजार 844 ब्लड सैंपलों की जांच में 292 मलेरिया के रोगी मिले। इस साल पीएफ का कोई भी केस रजिस्टर्ड नहीं हुआ। वर्ष 2017 में 77 हजार 990 ब्लड सैंपल में 305 मलेरिया पॉजिटिव और एक पीएफ केस मिला था। जो उपचार के बाद सही हो गए

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

बारिश के मौसम में बढ़ जाता है खतरा 

सीएमओ डॉ. संतराज ने बुधवार को बताया कि बारिश के मौसम में जलभराव की वजह से डेंगू जैसी खतरनाक बीमारी को जन्म देने वाले मच्छर पैदा होते है। संक्रमित वयस्क मादा मच्छर के काटने से मलेरिया, फाइलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया तथा जापानी इन्सेफिलाइटिस जैसी भयावह बीमारियां फैलती है। जिनसे जान को खतरा होता है। जनपद के सभी अस्पतालों में इन बीमारियों से बचाव के पर्याप्त इंतजाम और दवाएं है। 

डेंगू के लक्षण 
रोगी को बुखार, तेज बदन दर्द, सिरदर्द, जोड़ों में दर्द, आंखों के पीछे दर्द, शरीर पर दाने के अलावा मुंह से, नाक से, दांत से खून आना।

डेंगू का मच्छर
डेंगू फैलाने वाला एडीज मच्छर शहरी क्षेत्रों के मकानों में खुली टंकियों, पुराने टायरों, खाली डिब्बों, कूलरों, फ्रिज के पीछे के पानी वाली ट्रे, गमलों, खाली बोतलों, मनीप्लांट आदि जिसमें साफ पानी इकट्ठा हो, उसी में पनपता है। अधिक ठंड होने पर स्वतरू समाप्त हो जाता है। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

डेंगू से बचाव
- बीमारी के लक्षण पाए जाने पर तत्काल अस्पताल में दिखाएं।
 -बुखार उतारने के लिए पैरासिटामाल टैबलेट दें या पानी की पट्टी का इस्तेमाल करें।
 -मरीज को पूर्णरूप से आराम करवाएं।
 -घर के आसपास पानी इकट्ठा न होने दें, पानी अगर इकट्ठा हो तो उसमें मिट्टी के तेल या जला मोबिल आयल डाल दें।
 -सामान्य जांच में प्लेटलेट्स के कम होने पर डेंगू की जांच करवाएं। अत्यंत गंभीर स्थिति में प्लेटलेट्स ट्रांसफ्यूजन करवाएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended