संजीवनी टुडे

मसूरी में जबरदस्त बर्फबारी से खिले व्यवसायियों के चेहरे, पर्यटकों का लगने लगा जमावड़ा

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 15-12-2019 21:12:41

पर्यटकों की भारी भीड़ पहुंचने से हालांकि मसूरी की यातायात व्यवस्था चरमरा गई। लाल टिब्बा और धनौल्टी में पर्यटकों को जाम से घंटों जूझना पड़ा।


मसूरी। उत्तराखंड के मसूरी और ऊंचाई वाले इलाकों में जबरदस्त बर्फबारी होने के बाद पर्यटकों का जमावड़ा लगने लगा है। पहाड़ों की रानी मसूरी में भी पर्यटकों की भारी भीड़ देखने को मिल रही है। पर्यटकों की भीड़ को देखकर व्यापारी और होटल व्यवसायियों के चेहरे खिल उठे हैं।

यह खबर भी पढ़ें:​ ​VIDEO मामले में अभिनेत्री पायल रोहतगी गिरफ्तार, भारद्वाज ने कांग्रेस सरकार पर कंसा तंज

पर्यटकों की भारी भीड़ पहुंचने से हालांकि मसूरी की यातायात व्यवस्था चरमरा गई। लाल टिब्बा और धनौल्टी में पर्यटकों को जाम से घंटों जूझना पड़ा। बर्फबारी के बाद होटल व्यवसायियों का कहना है कि दिसंबर माह में वर्षों के बाद बर्फबारी हुई है। बर्फबारी के बाद मसूरी में पर्यटकों की भीड़ उमड़ रही है। जिससे उनके व्यवसाय में काफी वृद्धि हुई है।

उन्होंने कहा कि मसूरी शहर में अगर बर्फबारी होती तो स्थानीय लोगों के साथ-साथ उनको भी फायदा मिलता। फिलहाल, मसूरी में पर्यटकों की भीड़ जमा होने शुरू हो गई है। पुलिस-प्रशासन द्वारा भारी भीड़ को देखते हुए यातायात व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम का दावा किया जा रहा है. लेकिन जाम ने उनके इस दावों की पोल खोल दी है।

वहीं बर्फबारी से बंद राज्य मार्ग 19 रायपुर-कुमाल्डा-कद्दूखाल मोटर मार्ग तीसरे दिन भी नहीं खुल पाया है। चंबा-मंसूरी मोटर मार्ग को भारी मशक्कत के बाद खोला जा सका है। तीसरे दिन भी बर्फबारी के बाद से अब तक धनोल्टी एवं थत्यूड़ सहित क्षेत्र के लगभग 80 गांवों की विद्युत आपूर्ति बहाल नहीं हो पाई है। विभाग देर शाम तक आपूर्ति बहाल करने के दावे कर रहा है।

राष्ट्रीय राजमार्ग 94, जो हिंडोलाखाल के समीप बंद था। उसे शनिवार को खोल दिया गया। वहीं राष्ट्रीय राजमार्ग 707 चंबा-मंसूरी मोटर मार्ग को दोहपर में भारी मशक्कत के बाद खोला गया। रानीचैरी-नकोट मोटर मार्ग पर छोटे वाहनों की आवाजाही सुचारू कर दी गई है। कद्दूखाल-कुमाल्डा-रायपुर मोटर मार्ग अभी भी बंद है। जिसे खोलने की कार्यवाही गतिमान है। इसके साथ ही काणाताल, धनोल्टी व थत्यूड़ क्षेत्र में तीसरे दिन भी विद्युत आपूर्ति बुरी से ठप है। लगभग 80 गांवों को विद्युत आपूर्ति के बिना परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

पौड़ी जिले में आज बुआखाल-रामनगर राष्ट्रीय राजमार्ग के साथ ही कुल 9 मोटरमार्गों पर यातायात बाधित रहा। इसके साथ ही राज्यमार्ग मरचूला-सराइखेत-सतपुली, थलीसैंण-बूंगीधार-मरचूला, थलीसैंण-चिपलघाट, अन्य जिला मार्ग रिखणीखाल-थलीसैंण, ग्रामीण मार्ग सौफखाल-बंदरकोट, मैखुली-देवराड़ी, कठूड़खाल-गणतखाल, संतुधार- चैबट्टाखाल भी बर्फबारी से बाधित रहे। इन मार्गों पर हालांकि जेसीबी मशीन मार्गों को खोलने में जुटी रही। बुआखाल-रामनगर हाईवे पर आज सुबह 10 बजे सुबह पपड़तोली -मुसागली के बीच चट्टान टूटने से मोटर मार्ग करीब ढाई घंटे बंद रहा। मार्ग बंद होने से मोटर मार्ग के दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतारें लग गई। साढ़े बारह बजे बाद सड़क खुल पाई। जिसके बाद लोगों को राहत मिली।

स्थानीय ग्रामीण एवं पाबौ भाजपा ब्लाक मंडल अध्यक्ष दीपक रावत ने बताया कि जेसीबी की मदद से बोल्डरों को हटाकर वाहनों की आवाजाही शुरू की गयी। बुआखाल-रामनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर बर्फ को हटाने में थलीसैंण पुलिस दो दिनों से जुटी हुई है। इस दौरान थलीसैंण पुलिस ने राजमार्ग में फंसे 200 से अधिक लोगों को वहां से सुरक्षित निकाला।

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended