संजीवनी टुडे

बसपा विधायक ने शिक्षिका को बुलाया गेस्ट हाउस, वह पहुंची गई महिला आयोग

संजीवनी टुडे 18-06-2019 21:47:38

लामू जिला के हुसैनाबाद जपला की एक शिक्षका ने हुसैनाबाद के बसपा (बहुजन समाज पार्टी) विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। मंगलवार को राज्य महिला आयोग पहुंची शिक्षका ने कहा कि वह जपला स्थित मध्य विद्यालय हुसैनाबाद में शिक्षक के पद पर पदास्थापित है


रांची। पलामू जिला के हुसैनाबाद जपला की एक शिक्षका ने हुसैनाबाद के बसपा (बहुजन समाज पार्टी) विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। मंगलवार को राज्य महिला आयोग पहुंची शिक्षका ने कहा कि वह जपला स्थित मध्य विद्यालय हुसैनाबाद में शिक्षक के पद पर पदास्थापित है। कुछ दिनों से विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता गेस्ट हाउस पर बुलाते हैं। ऐसा करने से इनकार करने पर कई प्रकार की यातनाएं दी गई।

शिक्षिका ने यह भी आरोप लगाया है कि इस काम में विधायक मेहता की मदद स्कूल के प्राचार्य रामेश्वर मेहता भी कर रहे थे। प्राचार्य रामेश्वर मेहता बार-बार विधायक के पास जाने के लिए कहते थे। इससे परेशान होकर अपना ट्रांसफर करवा लिया, लेकिन इसके बाद भी समस्या समाप्त नहीं हुई। वहां भी किसी न किसी प्रकार से परेशान किया जा रहा है।

राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष कल्याणी शरण ने कहा कि जनप्रतिनिधि पर ऐसा गंभीर आरोप लगना अशोभनीय है। इस संबंध में झारखंड विधानसभा के अध्यक्ष प्रो. दिनेश उरांव समेत आला अधिकारियों से बात कर शिक्षिका को न्याय दिलायेंगे।

आरोप बेबुनियाद, गलत भावना से बदनाम करने लिए लगाया आरोपः कुशवाहा शिवपूजन मेहता
हुसैनाबाद से बसपा विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता ने कहा कि यह आरोप बेबुनियाद है। गलत भावना से बदनाम करने की नीयत से महिला आयोग पहुंची है शिक्षिका। उन्होंने कहा कि उस महिला को मैं पहचानता तक नहीं। आज तक मैं उनसे मिला तक नहीं, तो उन्हें कैसे प्रताड़ित कर सकता हूं। मैं जनप्रतिनिधि हूं, इसलिए वो मुझे जानती होगी। 

राज्य महिला आयोग मामले की जांच करा ले। सही बातें सामने आ जायेगी। दूध का दूध और पानी का पानी हो जायेगा। उन्होंने बताया कि इस शिक्षिका और पलामू डीईओ (जिला शिक्षा पदाधिकारी) सुशील कुमार के संबंधों को लेकर जांच चल रही है। मुख्य सचिव डीके तिवारी ने जांच का आदेश दिया है। इसे लेकर शिक्षिका और संबंधित अधिकारी को आशंका है कि यह जांच मैंने ही करायी है। जबकि ऐसी कोई बात नहीं है।

 उन्होंने यह भी बताया कि वह शिक्षिका पहले जपला में कार्यरत थी। उस समय वहां के शिक्षक मुझसे मिले थे और उनके अनुपस्थित रहने की शिकायत की थी। शिक्षकों का आरोप था कि वे ज्यादातर प्रतिनियुक्ति पर रहती हैं। इसके बाद मैंने उपायुक्त और जिला शिक्षा पदाधिकारी से प्रतिनियुक्ति रद्द करने को कहा था। बाद में उनका वहां से तबादला हो गया। इसके बाद उनके संदर्भ में कभी बात तक नहीं हुई।

विधायक पर आरोप लगाने वाली शिक्षिका के खिलाफ डीईओ के साथ कथित संबंध की चल रही है जांच
विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता पर आरोप लगाने वाली शिक्षिका और पलामू डीईओ सुशील के संबंधों को लेकर झारखंड के मुख्य सचिव डीके तिवारी के निर्देश पर जांच चल रही है। मुख्य सचिव ने 19 जून तक जांच रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है। पलामू के शिक्षक समुदाय ने राज्य के मुख्य सचिव डॉ. डीके तिवारी को पत्र लिखकर डीईओ सुशील कुमार का जिले में पदस्थापित एक शिक्षिका के साथ अवैध संबंध होने का गंभीर आरोप लगाया था।

 इसके साथ ही पत्र में डीईओ सुशील कुमार के आचरण पर सवाल खड़े करते हुए लिखा था कि डीईओ का वरदहस्त होने के कारण वह शिक्षिका कभी विद्यालय नहीं जाती है। डीईओ भी हमेशा उनका प्रतिनियोजन करते रहते हैं।  कुछ समय पहले तो मेदिनीनगर लाइब्रेरी में शिक्षिका को स्थायी तौर पर प्रतिनियोजित कर दिया गया था। बाद में हुसैनाबाद के विधायक के दबाव में उनका प्रतिनियोजन तोड़ा गया। शिक्षकों का यह भी आरोप है कि जब शिक्षिका हुसैनाबाद में पदस्थापित थी तो कभी भी विद्यालय नहीं जाती थी। इस वजह से प्रधानाध्यापक उनकी हाजिरी काट देते थे। बाद में डीईओ ने प्रधानायापक को निलंबित कर दिया था। इस पर मुख्य सचिव ने इस संबंध में पलामू के आरडीडीई को जांच के आदेश दिये हैं। साथ ही 19 जून तक जांच रिपोर्ट सौंपने को कहा है।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166 

 

More From state

Trending Now
Recommended