संजीवनी टुडे

औरंगाबाद में सीएए के विरोध में बीकेएम का धरना आंदोलन

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 20-12-2019 16:30:14

औरंगाबाद में नागरिकता (संशोधन कानून) (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध में बहुजन क्रांति मोर्चा (बीकेएम) ने शुक्रवार को राष्ट्रव्यापी ‘धरना आंदोलन’ शुरू किया।


औरंगाबाद। महाराष्ट्र के औरंगाबाद में नागरिकता (संशोधन कानून) (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध में बहुजन क्रांति मोर्चा (बीकेएम) ने शुक्रवार को राष्ट्रव्यापी ‘धरना आंदोलन’ शुरू किया।

औरंगाबाद में बीकेएम कार्यकर्ता सुबह से ही जिला कलेक्टर कार्यालय के सामने धरने पर बैठ गये और सीएए और एनआरसी की निंदा करते हुए नारेबाजी की और धरने पर बैठ गये।

यह खबर भी पढ़ें:​ बसपा दूसरी पार्टियों की तरह विरोध के लिए नही लेती है हिंसा और तोड़फोड़ का सहारा: मायावती

पार्टी के प्रतिनिधिमंडल ने जिला कलेक्टर के मार्फत राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को एक ज्ञापन सौंपा जिसमें उन्होंने कहा कि हम सीएए का विरोध करते हैं जिसे संसद में पारित किया गया हैं। उन्होंने दावा किया कि यह धर्म के नाम पर भेदभावपूर्ण कानून है और संविधान के अनुच्छेद 14 का सरासर उल्लंघन हैं। सीएए और एनआरसी के खिलाफ शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों को पुलिस के बलपूर्वक हटाना बहुत निंदनीय है। 

उन्होंने कहा कि जामिया मिल्लिया इस्लामिया परिसर में पुलिस की कार्रवाई की जितनी भी निंदा की जाए कम है। प्रतिनिधि मंडल ने कहा कि सीएए के खिलाफ तीन जनवरी को विरोध रैली निकालेंगे और 30 जनवरी को पार्टी ‘भारत बंद’ का आह्वान करेगी।

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended