संजीवनी टुडे

साढ़े चार साल तक जनता को गुमराह करती रही है भाजपा सरकारः राकांपा

संजीवनी टुडे 14-01-2019 17:04:21


मुंबई। भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए के साढ़े चार साल के कार्यकाल के दौरान जनता को विकास के नाम पर केवल गुमराह किया गया है। सरकार ने विकास और रोजगार के नाम बेरोजगार युवाओं को भ्रमजाल में उलझाए रखा है। इस सरकार की गलत आर्थिक नीतियों के कारण देश आर्थिक संकटों में घिर गया है। ऐसा आरोप राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता धनंजय मुंडे ने लगाए हैं। 

जयपुर में प्लॉट/ फार्म हाउस: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

विधान परिषद में राकांपा के विरोधी पक्षनेता धनंजय मुंडे ने मुरबाड में आयोजित संघर्ष यात्रा के दौरान मोदी भक्तों की जमकर खबर ली। राकांपा ने आरोप लगाया कि चार साल के दौरान भाजपा-शिवसेना युती के 16 भ्रष्टाचारी मंत्रियों की पोल खोली गई और सबूत भी दिए गए थे, लेकिन पारदर्शी सरकार चलानेवालों ने कोई कार्रवाई नहीं की है। खुलेआम भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया जा रहा है। 

मुरबाड में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की ओऱ से निर्धार परिवर्तन यात्रा का अगला चरण शुरू किया गया है। इस परिवर्तन यात्रा में राकांपा के कई वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी थी। मुंडे ने कहा कि पिछले साढ़े चार वर्ष के शासनकाल के दौरान प्रधानमंत्री ने सारे देश को भ्रमजाल में उलझाए रखा है। 

हर मोर्चे पर भाजपा सरकार असफल साबित हुई है। लेकिन सोशल मीडिया पर मोदी भक्तों को चारों ओर हरा-हरा नजारा दिखाई दे रहा है। जैसे छोटे बच्चों को भूख लगने पर उसकी मां अंगूठा बच्चे के मुंह में डाल देती है, बच्चे को भ्रम होता है कि अंगूठा चूसने से दूध मिलेगा, उसी तरह भाजपा सरकार ने भी विकास के नाम पर जनता को भरमाए रखा है। 

राकांपा ने आरोप लगाए कि युती सरकार के 16 मंत्रियों के भ्रष्टाचार और घोटाले में लिप्त होने के सबूत दिए जाने के बावजूद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने कोई कार्रवाई नहीं की। राज्य के मुख्यमंत्री के पास हरदम अपने भ्रष्ट नेताओं और मंत्रियों को पाक साफ साबित करने की क्लीन चिट तैयार रहती है। जैसे ही विपक्ष की ओर से भ्रष्टाचार के सबूत दिए जाते हैं, सीएम तत्काल क्लीन चिट देकर मामला रफा-दफा कर देते हैं। 

भ्रष्टाचार करनेवाले मंत्री जितने दोषी हैं, उतना ही दोषी भ्रष्टाचारी को बचानेवाला मुखिया भी है। मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए राकांपा नेताओं ने कहा कि खुद सीएम भ्रष्टाचार पर लगाम नहीं कसना चाहते। भाजपा पर तंज कसते हुए राकांपा ने कहा कि 15 साल तक मनौती मानने के बाद भाजपा को सत्ता सुख मिला है। 

लेकिन इसकी हालत उस मां की तरह है, जिसे काफी अरसे के बाद पुत्र लाभ हुआ, लेकिन पैदा होते ही गूंगा हो गया। बच्चे की आवाज सुनने को मां तरस जाती है, उसी तरह यह सरकार भी भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ने का नारा देर सत्ता हासिल तो की है, लेकिन खुद ही भ्रष्टाचार के दलदल में घिर गई। 

भाजपा की केंद्र सरकार पर भी राकांपा नेताओं ने तंज कसा। परिवर्तन यात्रा को संबोधित करते हुए राकांपा के नेताओं ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हालत भी गजनी फिल्म के नायक जैसी हो गई है। फिल्म में अभिनेता को भूलने की बीमारी होती है, उसकी स्मृति लोप हो जाती है। उसी तरह भाजपा के प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को भी स्मृति लोप की बीमारी है। 

प्रधानमंत्री मोदी को तो साल 2014 में किए गए नारे, वादे तक याद नहीं हैं। उन्होंने 20154 में जो भाषण दिया था, वह भी याद नहीं रख पा रहे हैं। भाजपा शासित राज्यों में भ्रष्टाचार के कई मामलों को दफना दिया गया। राकांपा ने कहा कि मध्य प्रदेश का व्यापमं घोटाला, चिक्की घोटाला, खनन घोटाला, ललित गेट, राफेल घोटाला समेत सभी घोटालों की जांच तक नहीं कराई गई। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

महाराष्ट्र के 16 मंत्रियों पर करोडो़ं रुपये का भ्रष्टाचार करने के आरोप लगे हैं, सबूत दिए गए हैं, लेकिन किसी के भी खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। भाजपा का भ्रष्टाचार मुक्त भारत का दावा भी जुमला साबित हुआ है। 

More From state

Loading...
Trending Now