संजीवनी टुडे

MP में हनीट्रैप का बड़ा मामला, सुंदरियों के जाल में फंसे चार मंत्री सहित तीन दर्जन IAS-IPS अफसर

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 20-09-2019 23:00:27

इंदौर से गिरफ्तारी एक लड़की के पास से आईपीएस अधिकारी का भी वीडियो मिला है। उसके बाद यह भी बात सामने आई है


इंदौर। मध्यप्रदेश के हाईप्रोफ़ाइल हनीट्रैप मामले में इंदौर जिले की एक अदालत ने कुल गिरफ्तार छह आरोपियों में से तीन आरोपियों को आगामी 14 दिनों के लिये न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया है। जबकि मुख्य आरोपी आरती सहित तीन आरोपी आगामी 22 सितंबर तक पुलिस रिमांड पर ही हैं।

यह खबर भी पढ़ें: ​रवाना होने से पहले PM मोदी ने कहा कि इस यात्रा से भारत अमेरिका के संबंध और मजबूत होंगे

जिला अभियोजन के अनुसार पलासिया थाना पुलिस ने प्रथम श्रेणी न्यायिक दण्डाधिकारी राकेश कुमार पाटीदार की अदालत के समक्ष आरोपी स्वेता पति विजय जैन, स्वेता पति स्वप्निल जैन और बरखा सोनी भटनागर को पेश किया। जहां तीनों आरोपियों के अधिवक्ताओ ने बचाव करते हुये पुलिस रिमांड दिए जाने का विरोध किया। अदालत ने आरोपियों के अधिवक्ता के तर्क से सहमत होकर तीनो को पुलिस रिमांड पर न सोपते हुए न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजे जाने का आदेश जारी किया। इन तीनों के जमानती आवेदनों को आगामी सोमवार को सुनवाई संभावित है।

इससे पहले प्रकरण की मुख्य आरोपी आरती दयाल, मोनिका यादव और ओमप्रकाश कोरी को कल गुरुवार को उक्त अदालत ने ही आगामी 22 सितंबर तक पुलिस रिमांड पर सौंपा था। इन तीनों आरोपियों से पुलिस पूछताछ में जुटी हुई हैं। उल्लेखनीय है की कल इंदौर पुलिस ने खुलासा करते हुये दावा किया था की भोपाल निवासी उक्त छह आरोपी इंदौर नगर निगम के एक अधिकारी को 3 करोड़ रूपये के लिये ब्लैकमेल कर रहे थे। 

आरोप है कि मुख्य आरोपी आरती ने अधिकारी को हनीट्रैप कर अंतरंगपलो का विडिओ बना लिया। जिसे वायरल करने की धमकी देकर निगम पर आरोपी दबाव बना रहें थे। पुलिस गिरफ्त में आये आरोपियों से पूछताछ में सामने आयी जानकारी पुलिस ने आज आधिकारिक तौर पर मीडिया से साझा नहीं की है।

बताया जा रहा है कि चार मंत्रियों के वीडियो भी इनके पास है। इस वीडियो के जरिए ये महिलाएं उन्हें ब्लैकमेल करती थीं। इसके साथ ही वीडियो के आधार पर ही यह हनीट्रैप गिरोह मंत्रियों से अपना काम निकलवाती थी। यही नहीं उनसे ट्रांसफर-पोस्टिंग से लेकर ठेकेदार तक का काम लेती थी। उसमें ज्यादातार सीनियर आईएएस अधिकारी हैं। इन अधिकारियों के सीडी इन महिलाओं के पास मौजूद था। पिछले दिनों इस गिरोह ने एक सीनियर आईएएस अधिकारी का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया था।

लेकिन अभी तक कोई सामने नहीं आया है। गिरोह की एक सदस्य बीजेपी तो एक कांग्रेस से जुड़ी रही है। ऐसे में इस मामले में सत्ता और विपक्ष के लोग शामिल हैं।इंदौर से गिरफ्तारी एक लड़की के पास से आईपीएस अधिकारी का भी वीडियो मिला है। उसके बाद यह भी बात सामने आई है कि और कई अधिकारियों के वीडियो इनके पास हैं।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From state

Trending Now
Recommended