संजीवनी टुडे

राजस्थान/ निगम चुनाव परिणाम से पहले बीजेपी-कांग्रेस ने बनाई रणनीति, सभी निर्दलीय प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी और सम्पर्क.......

संजीवनी टुडे 18-11-2019 06:07:00

राजस्थान में बीकानेर नगर निगम चुनाव में मतदान के बाद परिणामों से पहले दोनों राजनीतिक दलों ने सतर्कता बरतते हुए मेयर के चुनाव के लिये रणनीति बना ली है। सूत्रों ने आज बताया कि जिसके तहत प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी और जीतने वाले निर्दलियों की फेहरिश्त तैयार कर ली गई है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भाजपा


बीकानेर। राजस्थान में बीकानेर नगर निगम चुनाव में मतदान के बाद परिणामों से पहले दोनों राजनीतिक दलों ने सतर्कता बरतते हुए मेयर के चुनाव के लिये रणनीति बना ली है। सूत्रों ने आज बताया कि जिसके तहत प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी और जीतने वाले निर्दलियों की फेहरिश्त तैयार कर ली गई है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भाजपा के प्रत्याशियों को रविवार दोपहर को एक जगह बुलाकर उन्हें जोधपुर की ओर रास्ते में किसी होटल में रुकवाया गया है। बताया जा रहा है कि सभी अस्सी प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी की गई है। उधर कांग्रेस ने भी संभावित विजेता निर्दलियों की सूची बनाकर उन निर्दलियों से संपर्क साधा गया है।

यह खबर भी पढ़े: उत्तर प्रदेश/ किसानों का आक्रोश जारी, गोदाम को किया आग के हवाले, 400 के खिलाफ मुकदमा

सूत्रों के अनुसार कई प्रत्याशी बाड़ेबंदी से बचने के लिये छिप रहे हैं। यही नहीं कईयों ने तो अपने मोबाइल भी बंद कर दिये हैं। कुछ ऐसा ही मंजर निर्दलीय प्रत्याशियों का है। जिन्होंने अपने अधिकृत नंबरों को बंद कर दिया है। उधर आज दिनभर उम्मीदवारों की जीत हार की चर्चाओं और कयासों का दौर जारी रहा। बाजार बंद होने के कारण लोग फुरसत में थे। चौराहों, नुक्कड़ों और चाय पान की दुकानों पर लोगों के बीच चर्चा का एक ही विषय था कि निकाय चुनाव में कौन उम्मीदवार किस नंबर पर रहने वाला है। कौन जीत रहा है कौन हार रहा है? कई जगह लोग जीत हार की शर्त भी लगाते दिखे।

यह खबर भी पढ़े: जम्मू कश्मीर में हुए धमाके में 1 जवान शहीद 3 घायल

मतदान के बाद कार्यकर्ताओं ने राहत की सांस ली है। अधिकतर उम्मीदवार और एक पखवाड़े से चुनाव प्रचार में जुटे कार्यकर्ताओं ने खूब आराम किया। किसी ने अपने परिवार के साथ दिन बिताया तो किसी ने फिल्म देखकर समय गुजारा। अधिकतर लोग आज टीवी से भी चिपके रहे। मतदान के बाद करीब-करीब सभी उम्मीदवारों के चुनाव कार्यालयों पर सन्नाटा पसरा नजर आया। शाम को कुछ उम्मीदवारों ने अपने विश्वस्त कार्यकर्ताओं के साथ बैठकर चुनावी स्थिति पर चर्चा की। गली मोहल्लों में यह भी चर्चाएं आम रहीं कि यदि उनका उम्मीदवार जीत जाता तो शायद उनके मोहल्ले की दशा सुधर जाती। मतदान के पहले लोग जितना उत्साहित नहीं थे उससे ज्यादा तो परिणाम जानने का उत्साह दिनभर देखने को मिला।

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended