संजीवनी टुडे

बेटी को विदा करने से पहले पिता ने ली अपनी विदाई

संजीवनी टुडे 19-06-2018 20:19:47


पटना। मोहनपुर के एक पिता ने बेटी की विदाई करने से पहले अपनी विदाई ले ली। विवाह मंडप में ही कन्यादान करते हुए पिता ने एक बार हिचकी ली और दम तोड़ दिया किसी को कुछ जानने-समझने का मौका भी नहीं मिला।

वैदिक पद्धतियों में विवाह के बाद बेटी की विदाई का सुख सबसे बड़ा सुख माना गया है। हिंदू धर्म में सबसे बड़ा पुण्य का काम गाय दान करना माना गया है लेकिन, शास्त्र में वर्णित है कि एक बेटी के दान का पुण्य करोड़ों गायों के दान करने के बराबर होता है जिस बेटी को पाल पोस कर बड़ा किया, मुश्किलें के बीच योग्यवर तलाश कर विवाह करने की बात सोची़ उस पिता ने ही बेटी की विदाई से पहले अपनी विदाई ले ली।

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.40 लाख में call: 09314166166

MUST WATCH 

ओपी क्षेत्र के विशनपुर बेरी पंचायत के मटिऔर गांव के घर में विवाह की तैयारियों के बीच खुशियों का माहौल तुरंत गम में बदल गया। गांव के विश्वनाथ राय की पुत्री सुधा की शादी विद्यापतिनगर प्रखंड के मऊ विशनपुर गांव से आये वर के साथ सोमवार की देर रात में हो रही थी।विवाह के मुश्किल खर्चों का निबटारा कर लिया गया था बेटी का हाथ वर के हाथ में देकर पिता वैदिक मंत्रों तथा पारंपरिक विधियों का अनुसरण कर रहे थे़, तभी हृदयाघात हो गया और उनकी विवाह मंडप में मौत ही हो गयी।

 


  

More From state

Trending Now
Recommended