संजीवनी टुडे

राज-काज की बेहतरी के लिए समर्पित रहें, निष्ठा से करें काम - शिवांगी

संजीवनी टुडे 09-08-2019 20:51:17

सरकारी संस्थाओं का किया औचक निरीक्षण, देखी जमीनी हकीकत


चित्तौड़गढ़। जिला कलक्टर शिवांगी स्वर्णकार ने शुक्रवार को चित्तौड़गढ़ जिले के विभिन्न गांवों का दौरा किया और सरकारी संस्थाओं का आकस्मिक निरीक्षण किया और इनकी कार्यप्रणाली का अवलोकन किया। इस दौरान चित्तौड़गढ़ के उपखण्ड अधिकारी विनोद कुमार व तहसीलदार अशोक शाह उनके साथ थे।

यह खबर भी पढ़ें:कोहली और रोहित के बीच 20 साल बाद भी खत्म नहीं होगा झगड़ा!, इस भारतीय दिग्गज ने बताई वजह

जिला कलक्टर ने स्कूलों के निरीक्षण के दौरान विभिन्न कक्षाओं में पहुंच कर विद्यार्थियों के सामान्य ज्ञान और विभिन्न विषयों से संबंधित पढ़ाई-लिखाई के बारे में जानकारी ली और शिक्षक-शिक्षिकाओं से शैक्षणिक व्यवस्थाओं और विद्यालयी समस्याओं आदि पर चर्चा कर वस्तुस्थिति जानी। सरकारी संस्थाओं के निरीक्षण के दौरान जिला कलक्टर ने अच्छे कार्यों पर जहां सराहना की वहीं ढिलाई और गड़बड़ियों पर फटकार लगाई और व्यवस्थाओं तथा पदीय दायित्वों में सुधार के लिए निर्देश दिए।

ु

स्कूल के मुख्य द्वार पर ताला मिला
जिला कलक्टर ने शुक्रवार को सवा सात बजे राजकीय उत्कृष्ट आदर्श उच्च प्राथमिक विद्यालय सिरड़ी का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान विद्यालय के मुख्य द्वार पर ताला लगा हुआ पाया गया तथा विद्यार्थी पास के छोटे गेट से भीतर प्रवेश करते हुए पाए गए। इस समय 7 में से केवल दो शिक्षिकाएं ही स्कूल प्रांगण में उपस्थित थी।

ु

जिला कलक्टर ने इन शिक्षिकाओं व वहां कार्यरत सफाईकर्मी से बातचीत की और स्कूल के हालातों की जानकारी ली। जिला कलक्टर ने वहां संचालित आंगनवाड़ी पाठशाला को देखा तथा भण्डार गृह का  निरीक्षण करते हुए पोषाहार की जानकारी ली।

ु

दुबारा इसी विद्यालय का सघन निरीक्षण, गंभीर अनियमितताएं पाई गई- एक बार निरीक्षण कर लौटने के उपरान्त जिला कलक्टर ने दुबारा राजकीय उत्कृष्ट आदर्श उच्च प्राथमिक विद्यालय का रूख किया और सघन निरीक्षण किया। जिला कलक्टर ने वि़द्यालय के सभी दस्तावेजों, पंजिकाओं आदि की बारीकी से जांच की। उन्होंने कक्षाओं मेंं पहुंचकर छात्र-छात्राओं के ज्ञान की परख ली व सुधार के लिए कहा।

ु

बच्चों के लिए दूध के बारे में पूछे जाने पर प्रधानाध्यापक ने बताया कि भुगतान बाकी होने से दूध नहीं आ रहा है। बच्चों की उपस्थित से अधिक दूध की मात्रा का अंकन पाया गया। जिला कलक्टर ने स्कूल का एक-एक रिकार्ड देखा। सभी दस्तावेजों की उपखण्ड अधिकारी विनोद कुमार ने बारीकी से पड़ताल की। इस दौरान हाजरी रजिस्टर, पोषाहार रजिस्टर, वाउचर फाईल्स, केशबुक आदि की गहन जांच की गई।

ु

इसमें मिलान नहीं पाया गया जबकि एक बैंक ऑफ बड़ौदा की एक चैक बुक मिली जिसमें एमएमसी के अध्यक्ष के हस्ताक्षरशुदा 6 खाली चैक मिले। एसडीएमसी की बैठकों का नियमानुसार आयोजन होना भी नहीं पाया गया। टीचर्य डायरी और टाईम टेबल तक नहीं पाया गया।

ु

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

इस दौरान जांच में प्रथम दृष््टया यह सामने आया कि स्कूल के प्रधानाध्यापक द्वारा प्रबन्धकीय और वित्तीय अनियमितताएं बरती गई हैं। जिला कलक्टर द्वारा इनके बारे में पूछे जाने पर प्रधानाध्यापक कोई संतोषप्रद जवाब नहीं दे पाए तथा बार-बार गलती होने को स्वीकार करते हुए सुधार लाने का वक्त देने का आग्रह करते रहे। रिकार्ड में एक जगह बच्चों की उपस्थिति 72 अंकित थी लेकिन उस दिन 99बच्चों द्वारा मिड डे मील का उपयोग करना दर्शाया हुआ पाया गया। इस पर जिला कलक्टर के निर्देश पर उपखण्ड अधिकारी व तहसीलदार आदि ने मौका पर्चा बनाकर सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज जांच कार्य के लिए जप्त कर लिए।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From state

Trending Now
Recommended