संजीवनी टुडे

शिक्षकों को डरा कर आंदोलन खत्म नहीं कर सकेगी ममता सरकार : दिलीप घोष

संजीवनी टुडे 20-07-2019 13:57:47

नौ दिनों से धरने पर बैठे प्राथमिक शिक्षकों के मंच पर शनिवार को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष जा पहुंचे।


कोलकाता। वेतन बढ़ोतरी समेत अन्य मांगों को लेकर विगत नौ दिनों से धरने पर बैठे प्राथमिक शिक्षकों के मंच पर शनिवार को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष जा पहुंचे। वहां आंदोलनरत शिक्षकों को संबोधित करते हुए घोष ने उनके साथ सहानुभूति जताई और राज्य सरकार पर तीखा प्रहार किया। घोष ने कहा कि प्राथमिक शिक्षक विगत नौ दिनों से अनशन पर बैठे हुए हैं लेकिन राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी अथवा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इतनी संवेदनहीन हैं कि उन्हें इनसे मिलने के लिए समय नहीं मिल रहा। ये शिक्षक विकास भवन में स्थित शिक्षा विभाग के मुख्यालय से चंद कदम की दूरी पर अनशन पर हैं। 

शिक्षा मंत्री जब चाहें तब आ सकते हैं लेकिन तृणमूल के लोग ना तो शिक्षकों का सम्मान करते हैं और ना ही राज्य के बुद्धिजीवी  लोगों का। दिलीप ने कहा कि बंगाल सरकार को इन शिक्षकों की समस्याओं का समाधान करना चाहिए। समाधान कर सके अथवा नहीं कर सकें लेकिन कम से कम आकर शिक्षकों से मिलना जरूर चाहिए। यह करने के बजाय अपने अधिकारों के लिए आंदोलन करने वाले शिक्षकों को उनके घर से दूर तबादला कर दिया जा रहा है। पश्चिम बंगाल में भी 14 लोगों का तबादला कर दिया गया है। एसएसकेएम अस्पताल में भी जिन लोगों ने आंदोलन किया था उनके साथ भी इसी तरह से किया गया है। 

इस तरह से शिक्षकों को डरा धमका कर आंदोलन को खत्म नहीं कराया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि भाजपा इनके साथ मजबूती से खड़ी है। दिलीप ने कहा कि पश्चिम बंगाल के लोगों ने अंग्रेजो के खिलाफ लड़ाई लड़ी है। कांग्रेस और माकपा के खिलाफ भी लड़ कर उन्हें सत्ता से उखाड़ फेंका है और अब तृणमूल के खिलाफ लड़ रहे हैं। इन्हें भी उखाड़ फेकेंगे। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय पैमाने के अनुरूप पश्चिम बंगाल में प्राथमिक शिक्षकों का वेतन 1600 रुपये कम है। 

इसकी भरपाई करने की मांग पर विगत 12 जुलाई से ही करुणामयी में शिक्षकों ने अनशन किया है। करीब 2500 शिक्षक अनशन पर बैठे हुए हैं। अब तक नौ शिक्षकों की तबीयत बिगड़ चुकी है लेकिन राज्य सरकार का कोई भी प्रतिनिधि इनके बीच नहीं पहुंचा है। 

उल्टे दो दिन पहले राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने चेतावनी दी थी कि अगर ये शिक्षक काम पर नहीं लौटें तो इनका वेतन काटा जाएगा। उन्होंने कहा था कि ये सारे शिक्षक बिना छुट्टी लिए आंदोलन कर रहे हैं। 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended