संजीवनी टुडे

कड़ाके की ठंड में गरमाएगी अयोध्या

संजीवनी टुडे 08-11-2018 17:01:02


लखनऊ। अयोध्या में एक बार फिर कड़ाके की शीत लहर में गर्मी और लू की थपेड़ों का अहसास होगा। मौसम में बदलाव होना शुरु हो गया है। इस नगर की गरमाहट से सिर्फ अयोध्या ही नहीं देश और दुनिया के लोग भी महसूस करेंगे। इस बार की तपिश श्रीराम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करेगी।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनवाई टलने की आंधी ने संत समाज तथा रामभक्तों की नींव को ठीक से हिलाया है। उस नुकसान की भरपाई के लिए संत समाज ने सरकार से कहा है कि 'कानून बनाओ या अध्यादेश लाओ! अब संत समाज श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए आर-पार की लड़ाई लड़ने के मूड में है।

इसकी शुरुआत 3 व 4 नवम्बर को दिल्ली में 'धर्मादेश सन्त महासम्मेलन से हो चुकी है। संतों ने श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए 25 नवम्बर को अयोध्या में रामभक्त महासम्मेलन करने की उद्घोषणा की है। इसी दिन नागपुर व बैंगलोर में भी रामभक्त महासम्मेलन होगा। जबकि 09 दिसम्बर को दिल्ली में देशभर के संत व श्रीराम में आस्था रखने वाले सभी पंथ-पंथान्तर के लोगों का जुटान होगा। इसमें करीब 25 लाख रामभक्तों को जुटाने की तैयारी है। 

सूत्रों की मानें तो 08 नवम्बर को दिल्ली में संत तथा विहिप की कोर कमेटी की एक अहम बैठक हुई, जिसमें मंदिर निर्माण के लिए केन्द्र सरकार पर दबाव बनाने की रणनीति को अंतिम रुप दिया गया। 

25 नवम्बर को अयोध्या में होने वाले रामभक्त महासम्मेलन की काशी, गोरक्षा, अवध तथा कानपुर प्रान्त में संतों तथा संघ की समवैचारिक संगठनों की तैयारी बैठकें शुरु हो गयी हैं। जिसमें दो लाख से अधिक रामभक्तों की जुटान की तैयारी चल रही है। सूत्र ने बताया कि आरएसएस से जुड़े संगठनों की एक अहम बैठक 10 नवम्बर को राजधानी लखनऊ में निराला नगर स्थित सरस्वती शिशु मंदिर में होगी। यह अवध प्रान्त की ​बैठक होगी। जिसमें समवैचारिक संगठनों के प्रान्तीय समेत ऊपर के पदाधिकारियों को उपस्थित रहने को कहा गया है। 

विहिप का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट ने जानबुझकर मंदिर मामले की सुनवाई को टला है। इस मसले पर सरकार कानून बनाये या अध्यादेश लाकर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करे। विहिप के केन्द्रीय मंत्री और राष्ट्रीय प्रवक्ता अशोक तिवारी ने हिन्दुस्थान समाचार से कहा कि 'देश का संत समाज और रामभक्तों ने तय कर लिया है कि अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण अब होकर रहेगा। संतों की दिल्ली में हुई बैठक में अयोध्या, नागपुर, बैंगलोर तथा दिल्ली में विशाल रामभक्तों का महासम्मेलन करने की घोषणा की है। इसके अवाला देश के सभी जिलों में बड़ी-बड़ी सभाएं होंगी। गीता जयंती 18 दिसम्बर से आगामी एक सप्ताह तक अपनी-अपनी उपासना अनुसार धार्मिक अनुष्ठान होगा। 

उल्लेखनीय है कि मुम्बई के ठाणे में के तीन दिवसीय चिंतन शिविर के मौके पर संघ के सरकार्यवाह सुरेश भैयाजी जोशी ने इशारों ही इशारों में कहा था कि श्रीराम मंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट से एक आश थी, जो पूरा नहीं हुआ। अब इसे मूर्त रुप देने की तैयारी शुरु करनी चाहिए। 

संघ के प्रांत कार्यवाह डॉ. अनिल मिश्र ने महासम्मेलन के आयोजन के बारे में हिस प्रतिनिधि को बताया कि यह महासम्मेलन सरयू तट पर स्थित रामकथा पार्क में आयोजित किया जाएगा। इस महासम्मेलन में संघ के अवध प्रांत के साथ काशी, गोरक्ष व कानपुर प्रांत के सभी कार्यकर्ता शामिल होंगे।

2.40 लाख में प्लॉट जयपुर: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में Call:09314166166

MUST WATCH & SUBSCRIBE


गौरतलब है कि 24 नवम्बर को शिवसेना प्रमुख उद्वव ठाकरे भी पहली बार अयोध्या पहुंच रहे हैं। वह 25 नवम्बर को रामजन्मभूमि में विराजमान रामलला का दर्शन करेंगे और संतों की ओर से आयोजित आर्शीवाद समारोह में भी शिरकत करेंगे। 

sanjeevni app

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended