संजीवनी टुडे

अलर्ट: तंबाकू और सिगरेट का सेवन करने वालों में कोरोना बढ़ने का खतरा

संजीवनी टुडे 30-05-2020 21:02:56

स्वास्थ्य विभाग का कहना हैं कि जो लोग तंबाकू का सेवन करते हैं उनमें कोरोना वायरस का खतरा बढ़ने के अधिक चांस है। इसलिए इससे बचना हैं तो तंबाकू और सिगरेट का सेवन नहीं करना है।


मीरजापुर। स्वास्थ्य विभाग का कहना हैं कि जो लोग तंबाकू का सेवन करते हैं उनमें कोरोना वायरस का खतरा बढ़ने के अधिक चांस है। इसलिए इससे बचना हैं तो तंबाकू और सिगरेट का सेवन नहीं करना है। नशे के आदी लोग चोरी छिपे इसे खरीदकर सेवन कर रहे हैं। जिससे उन्हें अधिक रुपये अदा करने पड़ रहे हैं फिर भी ग्राहक तंबाकू का सेवन करने से बाज नहीं आ रहे हैं। 

डॉ. विनीत जायसवाल का कहना है कि नशे का सेवन करने वाले व्यक्ति की प्रतिरोधक क्षमता कम होती हैं। जिससे उनमें कोरोना वायरस बढ़ने का खतरा अधिक होता है। जबकि अन्य व्यक्तियों में इससे लड़ने की क्षमता होती है। अगर वह कोरोना की चपेट में आ भी गए तो उनके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता इतनी अधिक रहेगी कि कोरोना उनको मात नहीं दे पाएगा। जांच में इसकी पुष्टि भी हो गई तो दवाओं से वह ठीक हो जाएगा। लेकिन अगर नशे का आदि करने वाला व्यक्ति इसकी चपेट में आ गया तो उसके अंदर वायरस से लड़ने की ताकत नहीं होगी। जिसके चलते कोरोना उसके शरीर को जल्दी प्रभावित कर देगा। जिसमें उसकी जान भी जा सकती है। इसलिए वर्तमान में जो लोग तंबाकू या सिगरेट का सेवन करते हों वे तत्काल बंद करे। अपने शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए। इसके लिए काढ़ा पियें, गिलोय आदि का सेवन भी करे। तुलसी के पत्ते व अदरक की चाय पिये। वहीं डॉ. आभा यादव ने बताया कि तंबाकू और सिगरेट का सेवन करने से 80 प्रतिशत लोग कैंसर और दमा समेत अन्य बीमारी की चपेट में आते हैं।
   
लॉकडाउन से 75 प्रतिशत की आई गिरावट 
लॉकडाउन के चलते तंबाकू व्यापार में तेजी से गिरावट आई है। सप्लाई न होने के कारण तंबाकू और सिगरेट की मात्रा में 75 प्रतिशत तक की गिरावट आना बताया जा रहा है। इसमें सबसे अधिक व्यापारियों और ग्राहकों को नुकसान उठाना पड़ा। ग्राहक जहां एक रुपये में गुटका व पांच रुपये में सिरगेट खरीदकर पीते थे, वहीं इस लॉकडाउन के चलते उनको दस रुपये में एक गुटका व 20 रुपये का एक सिगरेट खरीदना पड़ा। पैकेट की बात की जाए तो 200 रुपये पैकेट सिगरेट बिके। 

एक साल में 50 करोड़ का होता था व्यापार 
गुटका व्यापारी रामकेश का कहना हैं कि जिले में हर साल 50 करोड़ रुपये का व्यापार होता था। लेकिन पिछले दो महीने से लॉकडाउन चलने यह व्यापार पूरी तरह से ठप हो गया है। न इसका निर्माण हो पा रहा हैं न ही सप्लाई किया जा रहा है। कुछ छोटे मोटे व्यापारी चोरी छिपे दुकानदारों को इसकी सप्लाई कर दे रहे हैं। 

यह खबर भी पढ़े: ब्रेकिंग: देश में लाॅकडाउन 30 जून तक बढ़ा, रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक रहेगा कर्फ्यू

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended