संजीवनी टुडे

जलवायु परिवर्तन के परिप्रेक्ष्य में कृषि वैज्ञानिक खेती को लाभकारी बनाने का करें प्रयास: उइके

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 21-11-2019 14:19:13

छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उइके ने कहा हैं कि कृषि वैज्ञानिक जलवायु में हो रहे परिवर्तन के परिप्रेक्ष्य में खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए हरसंभव प्रयास करें।


रायपुर। छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उइके ने कहा हैं कि कृषि वैज्ञानिक जलवायु में हो रहे परिवर्तन के परिप्रेक्ष्य में खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए हरसंभव प्रयास करें। उइके ने आज यहां इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में आयोजित भारतीय कृषि अर्थशास्त्र सोसायटी के 79वें तीन दिवसीय सम्मेलन का शुभारंभ करते हुए कहा कि खेती में नवीनतम कृषि तकनीक, मशीनरी और उन्नत बीज का उपयोग करने के लिए किसानों को प्रेरित किया जाना चाहिए और साथ ही यह भी प्रयास किया जाए कि किसानों को कृषि मशीनरी रियायती दरों पर या अन्य किसी तरीके से उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जाए।

यह खबर भी पढ़ें: शादी के 21 साल बाद अलग हुए अर्जुन- मेहर, दोनों बेटियां रहेगी मां के साथ

उन्होने कहा कि छत्तीसगढ़ आदिवासी बहुल राज्य है और यहां आदिवासियों की जनसंख्या 32 प्रतिशत है। यहां के आदिवासी अपना जीवन-यापन हेतु वनोपज और कृषि पर मुख्य रूप से निर्भर हैं। इनके उत्थान हेतु कार्य करना एवं इन्हें मुख्य धारा में शामिल करना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में शामिल है। उन्होंने आह्वान किया कि सोसायटी के तत्वावधान में ऐसे विषयों पर विचार-विमर्श किया जावे एवं सोसायटी इस विश्वविद्यालय में इस हेतु एक कार्यशाला का आयोजन कर अपनी अनुशंसाएं प्रदान करें, जिससे उनके आधार पर छत्तीसगढ़ के आदिवासियों की बेहतरी के लिये कार्य किया जा सके।

कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने कहा कि इस सेमिनार में देश के जलवायु परिवर्तन सहित देश में कृषि की अन्य परिस्थितियों पर मंथन होगा। साथ ही छत्तीसगढ़ में कृषि की स्थितियों और यहां के कृषि उत्पाद की उत्तम मार्केटिंग कैसे किया जाए, इस पर भी विचार किया जाना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended