संजीवनी टुडे

अवैध बजरी परिवहन रोकने में प्रशासन विफल, ग्रामीणों ने संभाली कमान

संजीवनी टुडे 01-08-2020 19:07:47

समीपवर्ती ग्राम कोजरा-जनापुर में अवैध बजरी परिवहन रोकने में जहां प्रशासन पुरी तरह से विफल नजर आया, तो ग्रामीणों ने सभाली कमान।


सिरोही/पिण्डवाड़ा। समीपवर्ती ग्राम कोजरा-जनापुर में अवैध बजरी परिवहन रोकने में जहां प्रशासन पुरी तरह से विफल नजर आया, तो ग्रामीणों ने सभाली कमान। और नदी में जाने वाले रास्ता पर मेडबंदीयां कर दी। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार कोजरा-जनापुर नदी में लीज की आड़ में प्रतिदिन सैकड़ो डपर नदी में अवैध खनन कर बजरी परिवहन कर रहे थे। अवैध बजरी परिवहन के कारण, नदी के आस-पास क्षेत्र के कुंओं का जलस्तर काफी नीचे चला गया तथा बजरी माफियों की हिमत बढ़ गई थी, कि हत्थारो की नोक पर किसानों की खातेदारी भूमियों से अवैध खनन कर रहे थे। 

s

अवैध खनन के दौरान गत शुक्रवार को शांम करीब 9 बजे बजरी माफियों व किसानों के बीच में खनन को लेकर विवाद भी हुआ। विवाद के कारण ग्रामीणों में रोष व्याप्त हो गया और ग्रामीणों ने शुक्रवार रात्रि में नदी में एकत्रित हो गये तथा शनिवार को नदी में ही धरना प्रर्दशन करने का निर्णय लिया। वही शनिवार को सुबह ग्रामीणों ने बजरी माफियों के विरूध धरना प्रर्दशन शुरू करते हुए प्रशासन हाय-हाय, प्रशासन शर्म करो, ना बेचो जमीर को जैसे नारे लगाकर विरोध प्रकट किया। ग्रामीणो के प्रर्दशन के दौरान तहसीलदार कल्पेश कुमार मौके पर जाकर ग्रामीणों का समझाने की कोशिश की, लेकिन ग्रामीणों ने तहसीलदार की बात को अनसुना कर दिया और जिला कलक्टर से मिलने की मांग रखी। घंटो इन्तजार के बाद भी कोई प्रशासनिक अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा, तो ग्रामीणों ने पंचायत की सहयोग से नदी में जाने वाले रास्तो में बड़ी-चौड़ी मेडबंदीयां करवाकर रास्ता को अवरूध करवा दिया। प्रर्दशन के दौरान सरपंच श्रीमति वरजु देवी देवासी, उपसरपंच जीतेन्द्र कुमार प्रजापत, शिव सेना जिला प्रमुख रमेश रावल सहित सैकड़ो ग्रामीणों ने भाग लिया।

s

अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल की दी चेतावनी 
कोजरा-जनापुर नदी में बढ़ते अवैध बजरी खनन को लेकर ग्रामीणों ने प्रशासन के समक्ष किसानों पर हमला करने वाले बजरी माफियों के विरूध कार्रवाही करनें, लीज की सीमाज्ञान कर नेकबंदी करवानें, लीज की आड़ में हुए अवैध खनन पर कार्यवाही करनें, लीजधारी का कोजरा की तरफ से अवैध रास्ता बंद कर, जनापुर गांव में से देने, किसानों की खातेदारीयों व नदी में अवैध खनन बंद करवाने की मांग रखी है। ग्रामीणों ने प्रशासन को चेतावनी दी है कि आज रविवार तक प्रशासन द्वारा ग्रामीणों की वाजिब मांगो पर ध्यान नहीं दिया, तो प्रशासन की कार्यशैली के विरोध में ग्रामीण अनिश्तिकालीन भूख हड़ताल करेंगें। 

जगह-जगह अवैध बजरी का स्टॉक 
ग्रामीणो ने बताया कोजरा-जनापुर नदी बजरी माफियों की प्रमुख अड्डा बन गया है। रात होते ही इन बजरी माफिया सक्रिय हो जाते है तथा नदी के आस-पास में डपरों व ट्रेक्टरो से अवैध रूप से स्टॉक कर रखे है, लेकिन खनन विभाग व प्रशासन को जानकारी होने के बाद भी बजरी माफियों पर कार्रवाही नहीं होती है तथा बजरी माफिया किसानों व ग्रामीणों को धमकाते हुए कहते है कि आपको किससे शिकायत करनी है उस अधिकारी से मैं बात करवा देता हूॅं। यह बजरी खनन में बड़े-बडे साहब भी हिस्सेदार है। विधान सभा में मामला उठ़ा, कुछ हुआ क्या? बल्कि उससे यादा बजरी जाना शुरू हो गई। 

लीज में खाली हो रही है अवैध बजरी 
कोजरा-जनापुर में आवंटन बजरी की लीज में, बजरी समाप्त होने के बाद में लीजधारी ने लीज के पास नदी में से ही दिन रात टै्रक्टरों के मार्फत बजरी का अवैध परिवहन करवाकर लीज में डाली जा रही है। ग्रामीणों ने खनन विभाग व स्थानीय प्रशासन को अगवत करवाया, लेकिन प्रशासन हर बार की तरह  ग्रामीणों को कार्रवाही की झुठी तस्ल्ली देकर लौट आता है। इससे लीजधारी के हौसले बुलन्द है। 

स्थानीय प्रशासन की कार्यशैली पर उठे प्रश्चचिन्ह 
कोजरा-जनापुर नदी में अवैध बजरी परिवहन के मामले में शनिवार को ग्रामीणों ने धरना प्रर्दशन के दौरान स्थानीय प्रशासनिक अधिकारीयों व पुलिस विभाग अधिकारीयों की कार्यशैली पर प्रश्रचिन्ह लगाते हुए विरोध प्रकट किया। ऐसे में अब प्रशासन को अपनी छवि बसाने के लिए बजरी माफियों पर कार्यवाही करना आवश्यक हो गया है। कार्यवाही नहीं करने के अभाव में प्रशासन की छवि और जनता की नजरों में धुमिल हो जायेंगी। 

इनका कहना है कि - 
ग्रामीणों ने अवैध बजरी खनन रोकने की मांग पर प्रशासन द्वारा ध्यान दिया जा रहा है मैं स्वयं कोजरा नदी में जाकर मौका देखा है तथा खनिज विभाग को कार्यवाही करने के निर्देश दिये हुए है और भी ग्रामीणों की समस्याएं है तो प्रशासन, अवैध खनन करने वालो के विरूध नियमानुसार कार्रवाही करेगा। 
हरी सिंह देवल उपखण्ड अधिकारी पिण्डवाड़ा

कोजरा-जनापुर नदी में प्रशासन के नाक के नीचे से प्रतिदिन सैकड़ो ऑवरलोडिंग अवैध बजरी के डपर उदयपुर जा रहे है। जबकि प्रशासन को जानकारी होने के बाद भी कार्रवाही नहीं होना, प्रशासन की कार्यशैली पर प्रश्रचिन्ह खडे करते है। प्रशासन ने ग्रामीणों की मांगो पर ध्यान नहीं दिया, तो शिव सेना आन्दोलन में भाग लेगी। 
 रमेश रावल जिला प्रमुख शिव सेना

यह खबर भी पढ़े: चोरों ने भगवान तक को नहीं बख्शा, साईं मंदिर से चोरों ने उड़ाया चांदी का सिंहासन, जांच में जुटी पुलिस

यह खबर भी पढ़े: राम मंदिर निर्माण को लेकर कमलनाथ और दिग्विजय के बदले सुर पर पवैया ने दिया करारा जवाब

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended