संजीवनी टुडे

बस्तर में बारूदी सुरंग विस्फोटों से 25 साल में 550 जवानों समेत 700 लोगों ने गंवाए प्राण

संजीवनी टुडे 14-04-2019 22:07:59


जगदलपुर। नक्सलियों द्वारा बस्तर संभाग में विभिन्न क्षेत्रों में बिछाये गये बारुदी सुरंग विस्फोटों में बीते 25 सालों में 550 जवान और 150 ग्रामीण जिनमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं, अपनी जान गंवा चुके हैं। बस्तर में बारूदी सुरंगों से बचाव के लिए यहां माइंस प्रोटेक्टेड व्हीकल (एमपीवी) भी कारगर साबित नहीं हो पाई हैं। यहां यह उल्लेख करना लाजिमी होगा कि 3 सितंबर 2005 को बीजापुर के पदेड़ा में नक्सलियों ने बारुदी सुरंग विस्फोट कर बुलेट प्रूफ खिड़कियों वाली, 10 किलो विस्फोटक, मीडियम मशीनगन और हैंडग्रेनेड की मार सह सकने वाली 8 टन की एमपीवी को उड़ाकर सुरक्षा बलों को चौंका दिया था। इस वारदात में सीआरपीएफ के 24 जवान शहीद हुए थे, जिसके बाद सरकार ने घटना के दूसरे दिन ही नक्सलियों और उनके सहयोगी संगठनों को प्रतिबंधित कर दिया था। आमतौर पर बारूदी सुरंगें मानसून के पहले लगाई जाती हैं। ताकि बारिश में वह अच्छे से जम जाएं। देखा गया है कि नक्सली अपने बंद के दौरान यातायात बाधित कर सड़कों पर बैखौफ बारूद बिछाते रहे हैं। फारेंसिक एक्सपर्ट सूरी बाबू के अनुसार बस्तर में नक्सली विस्फोट के लिए रिमोट पद्धति का उपयोग करने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन यह पद्धति यहां कारगर साबित नहीं हो पाई। 

240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

दरअसल रिमोट पद्धति के साथ सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि यदि किसी काफिले के साथ जैमर गाड़ी चलती है, तो रिमोट काम करना बंद कर देता है। इसके अलावा टारगेट के बीच में अचानक यदि कोई गाड़ी, जानवर या कोई अन्य वस्तु आ जाए, तब भी यह पद्धति फेल हो जाती है। दूसरे शब्दों में इस पद्धति में समय की अनिश्चितता है, इसीलिए नक्सली इसका उपयोग नहीं कर रहे हैं। बारूदी विस्फोट से बचने में एमपीवी को नाकाम होता देख एमपीवी को मॉडिफाइड कर शॉक एब्जार्वर बढ़कर इसकी विस्फोट सहने की क्षमता बढ़ाई गई, किंतु नक्सलियों ने इसका भी तोड़ ढूंढते हुए विस्फोटक की मात्रा बढ़ा दी। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

नक्सली पहले 50 किलोग्राम अमोनियम नाइट्रेट से एमपीवी उड़ाते थे। बाद में 80 किलो तक विस्फोटक का इस्तेमाल करने लगे। मॉडिफाइड एमपीवी 40 किलो विस्फोट की तीव्रता झेल लेती है। लिहाजा एमपीवी आज भी बारुदी सुरंग से बचाव में नाकाम साबित हो रही है। यही वजह है कि नक्सली अब तक 6 दफे एमपीवी को निशाना बना चुके हैं। हाल ही में दंतेवाड़ा विधायक भीमा मण्डावी की नक्सलियों ने विस्फोट कर हत्या कर दी थी, इस जांच के लिए फारेंसिक टीम ने अपनी जांच रिपोर्ट राज्य सरकार को भेज दी है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended