संजीवनी टुडे

पानी के लिए तरस रहे 700 परिवार, दशक से बेकार पड़ी लाखों की टंकी

संजीवनी टुडे 14-01-2019 15:04:13


अनूपपुर। अनूपपुर जनपद पंचायत के ग्राम पंचायत खोड़ी क्रमांक 2 के गांव कोहका के 700 परिवार पिछले एक दशक से पानी के लिए तरस रहे हैं। लेकिन कॉलरी प्रबंधन की अनेदखी तथा जिला प्रशासन की अनसुनी में लाखों की पानी टंकी से एक बूंद भी जलधारा नहीं फूट सका है। कोहका गांव वर्ष 2007 में एसईसीएल द्वारा लाखों की लागत से निर्मित सामुदायिक विकास योजना के तहत बनाए गए नल जल योजना को ग्रहण लग गया है। 

जयपुर में प्लॉट/ फार्म हाउस: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

बताया जाता है कि ग्राम पंचायत में लगभग 1400 परिवार निवासरत हैं, जिसमें ग्राम पंचायत द्वारा उपलब्ध कराया गया नलजल योजना के तहत आधी आबादी लगभग 700 परिवारों को पानी मुहैया कराया जा रहा है। जबकि कॉलरी प्रभावित परिवारों के कोहका गांव के लोग पानी के लिए परेशान है। 

ग्रामीण कुंआ या आसपास के अन्य जलस्रोत से ही जलापूर्ति कर रहे हैं। जबकि कॉलरी क्षेत्र होने के कारण कुंओं का पानी भी धूल तथा खदान प्रभावित क्षेत्र के कारण दूषित होती है। लेकिन कॉलरी प्रबंधन द्वारा तैयार किए गए लाखों की पानी टंकी शोपीस बनकर रह गई है। 

ग्रामीणों के अनुसार जमुना कोतमा क्षेत्र अंतर्गत आमाडांड क्षेत्र अंतर्गत ग्राम कोहका में सामुदायिक विकास योजना के तहत नल जल योजना की शुरुआत की गई थी। जहां पाइप लाइन के साथ-साथ ओवरहेड टंकी का भी निर्माण एसईसीएल द्वारा किया गया था। 

लेकिन वर्षों बीत जाने के बाद भी योजना बंद है। इसे शुरूआती दिनों में आरम्भ किया, जो चंद माहों उपरांत बंद हो गई। ग्रामीणों को गर्मी के दिनों में पानी की भारी किल्लत से जूझना पड़ता है। ग्रामीणों में कॉलरी के इस रवैये को लेकर कॉलरी प्रबंधन के प्रति नाराजगी बनी हुई है। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

हालांकि ग्रामीणों द्वारा कई बार कालरी प्रबंधन से सुधार के लिए गुहार लगाई गई। लेकिन कार्य प्रशासन मरम्मत के लिए ध्यान नहीं दे रहा है। जिसके कारण आज भी ग्रामीण कुंए के दूषित पानी का उपयोग कर गुजारा कर रहे हैं।

sanjeevni app

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended