संजीवनी टुडे

54 नदी-नालों का प्रवासी मजदूर करेगें पुनरुद्धार, हर ब्लाक में दस हजार श्रमिकों का लक्ष्य

संजीवनी टुडे 03-06-2020 11:12:58

लॉकडाउन के बाद जनपद में आए प्रवासी मजदूरों को काम देने के लिए मुख्यमंत्री की मंशा को देखते हुए स्थानीय प्रशासन ने कार्ययोजना बनाई है।


बांदा। लॉकडाउन के बाद जनपद में आए प्रवासी मजदूरों को काम देने के लिए मुख्यमंत्री की मंशा को देखते हुए स्थानीय प्रशासन ने कार्ययोजना बनाई है। जिसके तहत जिले में चारागाहों का विकास तथा 54 नदी-नालों का पुनरुद्धार कराने के कार्य में प्रवासी मजदूरों को लगाया जाएगा।

इस आशय की जानकारी देते हुए उपायुक्त मनरेगा वेदप्रकाश मौर्य ने बताया कि जनपद में इस समय मनरेगा में काम कर रहे मजदूरों की संख्या 228357 है। जिले की कुल 470 ग्राम पंचायतों में से 465 में काम चल रहा है। पिछले वित्तीय वर्ष में 3791000 मानव दिवस का सृजन किया गया था। इस समय 43324 प्रवासी मजदूर हैं। इनमें से 19703 प्रवासी मजदूरों को काम दे दिया गया है। जबकि 9095 जॉबकार्ड बनाए गए हैं और प्रतिदिन मनरेगा में श्रमिकों की संख्या बढ़ रही है। प्रतिदिन लगभग 50 हजार मजदूर काम कर रहे हैं।

उन्होंने बताया कि चालू वित्तीय वर्ष में कार्ययोजना में लिए गए 24429 अनुमानित कार्य हैं। जिनके लिए वर्ष 2021 में 414882 मानव दिवस सृजित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष प्रतिदिन 22 हजार श्रमिकों को कार्य पर लगाया जाता था। लेकिन इधर प्रवासी मजदूरों के आने से यह संख्या 50 हजार पहुंच गई है।

हर ब्लाक में दस हजार श्रमिकों का लक्ष्य 
बाहर से आए श्रमिकों को ज्यादा से ज्यादा रोजगार मिले इसके लिए प्रत्येक विकासखंड में 10,000 सैनिकों को कार्य का अवसर प्रदान करने का लक्ष्य बनाया गया है। इसमें उन  श्रमिकों को तुरंत काम देने के निर्देश हैं जिन्होंने क्वॉरेंटाइन की अवधि पूरी कर ली है। क्वॉरेंटाइन पूरी करने वाले श्रमिकों की सूची बनाकर उन्हें उनके गांव में काम दिलाया जा रहा है।

हर ब्लाक में आधा दर्जन चारागाह बनाने का लक्ष्य
निराश्रित गोवंश हेतु गांवों में पशुओं की चारा की व्यवस्था के लिए प्रत्येक विकासखंड में कम से कम आधा दर्जन चारागाह बनाने के निर्देश दिए गये है जिसके तहत कहा गया है कि झांसी जाकर ग्रीष्म ऋतु में पैदा किए जाने वाले चारा की जानकारी प्राप्त कर प्रत्येक विकासखंड में चारागाह बनाए जाएं और इस काम में मनरेगा के मजदूरों को लगाया जाए इसके लिए उपायुक्त मनरेगा को जिम्मेदारी सौंपी गई है।

बीडियो को जिम्मेदारी
इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी अमित सिंह बंसल ने खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देश दिये है कि स्वयं कार्यों की प्राथमिकता तय करें और नालों के कार्योें में यह ध्यान रखा जाए कि नाला जिस स्थान से प्रारम्भ होकर समाप्त होता है। उसकी लेबलिंग बनाये रखते हुए पूर्ण रूप से नाले को विकसित किया जाए, जिससे जल निकासी में कोई भी व्यवधान न उत्पन्न होने पाये। इस कार्य की कार्ययोजना एक सप्ताह में उपायुक्त मनरेगा प्रस्तुत करेंगे।

यह खबर भी पढ़े: सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा हैं इन भाई-बहन का डांस VIDEO, रातोंरात बन गए स्टार

यह खबर भी पढ़े: 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' की एक्ट्रेस मोहिना कुमारी और परिवार के कई लोग कोरोना पॉजिटिव

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended