संजीवनी टुडे

कोरोना शहीदों व वारियर्स के सम्मान में लॉक डाउन के बीच बना डाली राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 13 फिट की मूर्ति

संजीवनी टुडे 02-06-2020 10:36:43

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की ध्यान मुद्रा की यह मूर्ति लगभग 13 फिट ऊंची है और मात्र दो माह में ही 95 प्रतिशत बनकर तैयार हो चुकी है।


सीतापुर। कोरोना काल में आरएसएस के एक स्वयंसेवक ने गांधी जी की मूर्ति बनाकर एक मिसाल पेश की है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की ध्यान मुद्रा की यह मूर्ति लगभग 13 फिट ऊंची है और मात्र दो माह में ही 95 प्रतिशत बनकर तैयार हो चुकी है। 

सीतापुर में खैराबाद क्षेत्र में बनी यह मूर्ति लोगों के आकर्षण का केन्द्र बन रही है। कस्बे में बने एक इंटर कालेज के प्रांगण में बन रही बापू की यह मूर्ति दिल्ली में राज्यसभा के मुख्य द्वार पर लगी मूर्ति की एक प्रतिरूप दिखाई देती है। 

कोरोना आपदा में मिली प्रेरणा
खैराबाद कस्बे में पंडित सूर्य दत्त आनन्दी सहगल इंटर कॉलेज के संस्थापक रामजी मिश्रा आरएसएस के स्वयंसेवक भी हैं। उन्होंने 'हिन्दुस्थान समाचार' एजेंसी से बताया कि मेरे विद्यालय में कई महापुरुषों की मूर्तियां लगी हुई है। कोरोना आपदा काल में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के संयम व गरीबों की सेवा को ध्यान में रखकर मन में यह विचार आया कि क्यों ना गांधी जी की एक मूर्ति ही विद्यालय में स्थापित की जाए। रामजी मिश्रा बताते हैं कि इस मूर्ति को कोरोना के शहीदों और कोरोना वारियर्स के सम्मान में हमारे कॉलेज के कला अध्यापक राकेश तथा मैंने स्वयं मिलकर बनाई है। 

राज्यसभा के मुख्य द्वार पर लगी गांधी प्रतिमा की एक प्रतिकृति
13 फिट ऊंची यह गांधी जी की मूर्ति राज्यसभा के गेट पर लगी मूर्ति की एक प्रतिकृति दिखाई देती है। रामजी मिश्रा बताते हैं कि लॉक डाउन घोषित होने के बाद इसे बनाने की शुरुवात 30 मार्च से की गई थी, दो माह में लगभग 95 प्रतिशत तैयार हो गई है, शेष सप्ताह एक में पूरा कर मूर्ति को पूर्ण रूप दे दिया जाएगा।

खैराबाद में बना है अस्थाई कोविड एल-1 हॉस्पिटल
हिन्दुस्थान समाचार से बताया कि 24 मार्च को लॉक डाउन की घोषणा होने के बाद सीतापुर जनपद में भी कोरोना पॉजिटिव के मरीजों का मिलना प्रारंभ हो गया था।  मात्र एक संयोग ही है कि हमारे कस्बे खैराबाद में कोविड हॉस्पिटल बनाया गया, जिसमें मरीज स्वास्थ हो रहे हैं। यह मूर्ति भी उन्हीं शहीदों और वारियर्स के सम्मान में बनाई गई है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी गरीबों, दीन दुःखियों की सेवा पर जोर देते थे। कोरोना की इस आपदा में भी हमारे कोरोना वारियर्स भी सेवा भाव से पूरी तरीके से लगे हुए हैं। महात्मा गांधी की मूर्ति उन सभी के लिए प्रेरणा दायक बने,लोगों को साहस, धैर्य प्रदान करे, इसलिए ऐसा विचार मन में आया था। उन्होंने  बताया कि मूर्ति पूर्ण होने के बाद जिला प्रशासन अन्य उच्चाधिकारियों द्वारा इसका अनावरण कर कोरोना वॉरियर्स को समर्पित कर दी जाएगी। 

यह खबर भी पढ़े: RBSE 10th 12th Datesheet: राजस्थान बोर्ड ने 10वीं-12वीं परीक्षा की नई डेटशीट की जारी, देखें पूरा टाइम टेबल

यह खबर भी पढ़े: गर्मियों में चाय, कॉफी को छोड़ करें इस चीज का सेवन, गर्मी की इन समस्याओं से मिल जाएगी राहत

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended