संजीवनी टुडे

Women's T20 WC 2020 Final: शेफाली वर्मा को लेकर हरमनप्रीत ने दिया बड़ा बयान, कहा- 'सकारात्मक सोच रखना और....

संजीवनी टुडे 09-03-2020 12:16:44

इस मैच में सबकी नजरे सेफाली वर्मा पर थी जो पूरे टूर्नामेंट में अपने बेबाक तरीके के खेल के लिए मशहूर हो गई।


डेस्क। रविवार को मेलबर्न में खेले गए ICC महिला टी-20 वर्ल्ड कप के फाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 85 रनों से हरा दिया और पांचवीं बार वर्ल्ड कप की ट्रॉफी अपने नाम कर ली। ऑस्ट्रेलिया ने भारत के सामने वर्ल्ड कप जीत के लिए 185 रनों का टारगेट रखा। जवाब में भारतीय महिला टीम 19.1 ओवर में 99 रनों पर ढेर हो गईं। इस मैच में सबकी नजरे सेफाली वर्मा पर थी जो पूरे टूर्नामेंट में अपने बेबाक तरीके के खेल के लिए मशहूर हो गई। 

सेफाली वर्मा, हरमनप्रीत कौर,

16 साल की शेफाली वर्मा के लिए उनका पहला महिला टी 20 विश्व कप 2020 टूर्नामेंट यादगार बन गया। बेशक शेफाली फाइनल मैच में रन बनाने में कामयाब नहीं रहीं, लेकिन वो भारत की तरफ से इस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाली बल्लेबाज जरूर बनीं। शेफाली ने अपनी पहचान विश्व पटल पर एक आक्रामक बल्लेबाज के तौर पर बनाई और इस विश्व कप में सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाली बल्लेबाज बनीं साथ ही साथ वो भारत की तरफ से किसी भी महिला टी 20 विश्व कप में सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाली खिलाड़ी भी बनीं। यही नहीं शेफाली वर्मा ने पांच मैचों में दो बार 'प्लेयर ऑफ द मैच' का खिताब भी जीता। 

सेफाली वर्मा, हरमनप्रीत कौर,

हालाँकि पूरे भारत को फाइनल मुकाबले में सेफाली से बहुत उम्मीदें थी लेकिन फिर भी इस खिताबी मुकाबले में भारत की हार के लिए उसे जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। कप्तान हरमनप्रीत कौर ने भी शैफाली वर्मा का बचाव करते हुए कहा, 'वह (शैफाली वर्मा) केवल 16 वर्ष की है, वह अपना पहला विश्व कप खेल रही है। उसने वास्तव में अच्छा प्रदर्शन किया। महज 16 साल की किशोरी के लिए सकारात्मक सोच रखना और खेल में बने रहना मुश्किल है।'

सेफाली वर्मा, हरमनप्रीत कौर,

उन्होंने कहा, 'यह उसके लिए एक सीख है, लेकिन यह किसी के लिए भी हो सकता है। हम उसे दोष नहीं दे सकते क्योंकि उस तरह की स्थिति में दूसरे खिलाड़ी भी थे।' 

सेफाली वर्मा, हरमनप्रीत कौर,

जाहिर है कि फाइनल में सलामी बल्लेबाज एलिसा हीली का कैच टपकाने वाली 16 साल की शैफाली वर्मा का बचाव करते हुए रविवार को यहां कहा कि हार के लिए किसी एक खिलाड़ी को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते। सेफली के आलावा बाएं हाथ की स्पिनर राजेश्वरी गायकवाड़ ने भी पारी की शुरुआती ओवरों में अपनी ही गेंद पर मूनी का कैच टपका दिया था। 

सेफाली वर्मा, हरमनप्रीत कौर,

हरमनप्रीत ने माना कि इन दो कैचों का टना निराशाजनक था। उन्होंने कहा, 'हमने शानदार लय में चल रहे बल्लेबाजों को मौका दिया और जब ऐसा होता है तो किसी गेंदबाज के लिए वापसी करना मुश्किल होता है।'

सेफाली वर्मा, हरमनप्रीत कौर,

बता दें कि शेफाली ने इस टूर्नामेंट में खेले पांच मैचों में कुल 9 छक्के लगाए और उनके बल्ले से कुल 163 रन भी निकले। उनका स्ट्राइक रेट कमाल का रहा और उन्होंने 158.25 की स्ट्राइक रेट से रन बनाए। शेफानी ने इस टूर्नामेंट में कुल 18 चौके भी जड़े। हालांकि एलिसा हीली ने भी 6 मैचों में 9 छक्के लगाए, लेकिन शेफाली ने उनसे कम मैचों में इतने छक्के लगाए इस वजह से वो उनसे आगे रहीं। एलिसा हीली ने फाइनल मैच में भारत के खिलाफ कुल 5 छक्के लगाए और इस टूर्नामेंट में एक टीम के खिलाफ सबसे ज्यादा छक्का लगाने वाली बल्लेबाज रहीं।

यह खबर भी पढ़े: Women's T20 WC 2020 Final: हार के बाद विराट कोहली ने बढ़ाया भारतीय महिला टीम का हौसला, कही दिल छूने वाली बात

यह खबर भी पढ़े: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए भारत की 15 सदस्यीय टीम घोषित, लंबे समय से बाहर चल रहे 3 दिग्गजों की हुई वापसी

मात्र 289/- प्रति sq. Feet में जयपुर में प्लॉट बुक करें 9314166166

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From sports

Trending Now
Recommended