संजीवनी टुडे

VIDEO: सेमीफाइनल के नतीजे पर मेरीकॉम ने उठाये कई सवाल, देखें पूरा मैच

संजीवनी टुडे 13-10-2019 02:01:00

सेमीफाइनल का नतीज मैरी कॉम के खिलाफ गया। मैरी कॉम इस नतीजे से मैरीकॉम संतुष्ट नहीं थी, मैच में अधिकारियों ने जिस तरह से उन्हें अंक दिए उससे मैरी कॉम काफी हैरान नजर आईं। भारत ने इस फैसले के खिलाफ अपील की, लेकिन उसे ठुकरा दिया गया।


नई दिल्ली। 48 किग्रा वर्ग में छह बार विश्व चैंपियन रह चुकीं भारत की एमसी मैरीकॉम इस बार विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के 51 किलोवर्ग में अपनी किस्मत आजमा रहीं थी। जिसमे शनिवार को 51 किलोग्राम भारवर्ग के सेमीफाइनल में उन्हें तुर्की की बुसेनाज काकिरोग्लू के खिलाफ हार झेलनी पड़ी। इस हार के साथ ही छह बार की विश्व चैम्पियन मेरीकॉम को इस बार कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा, काकिरोग्लू ने भारतीय खिलाड़ी को 4-1 से शिकस्त दी।

यह भी पढ़े: विजय हजारे ट्रॉफी: इस भारतीय बल्लेबाज ने जड़ा दूसरा सबसे तेज दोहरा शतक, 212 रन मात्र....

भारत की एमसी मैरीकॉम सफलता पूर्वक सेमीफाइनल में पहुंच भी गई थीं, लेकिन सेमीफाइनल का नतीज मैरी कॉम के खिलाफ गया। मैरी कॉम इस नतीजे से मैरीकॉम संतुष्ट नहीं थी, मैच में अधिकारियों ने जिस तरह से उन्हें अंक दिए उससे मैरी कॉम काफी हैरान नजर आईं। भारत ने इस फैसले के खिलाफ अपील की, लेकिन उसे ठुकरा दिया गया। 

World Boxing Championship Mary Kom out of the gold race had to be satisfied with bronze

एआईबीए के निर्देशों के अनुसार, एक खिलाड़ी तभी अपील कर सकता है जब वह 2:3 या 1:3 के अंतर से मैच हारा हो, मेरीकॉम 1:4 से मुकाबला हारी थीं, इसलिए तकनीकी समिति ने उनके पीले कार्ड को स्वीकार नहीं किया। इसके बाद मैरी कॉम ने पूरे मैच का वीडियो ही ट्विटर पर शेयर कर दिया और मैच में अंक दिए जाने पर सवाल उठा दिए, मैरी ने ट्वीट में खेल मंत्री और प्रधानमंत्री को भी टैग किया। 

VIDEO Mary Kom is not satisfied with the result of the semifinals you also watched the entire match

मैरी ने अपने ट्वीट में कहा, "कैसे और क्यों, पूरी दुनिया तो जाने कि फैसला कितना सही और कितना गलत था...".

 

काकिरोग्लू के लिए तीसरे राउंड की शुरुआत बेहतरीन रही, उन्होंने दमदार जैब और हुक लगाते हुए कई महत्वपूर्ण अंक हासिल किए। तुर्की की खिलाड़ी आक्रामक नजर आईं और मेरीकॉम को परेशानी हुई। बाउट खत्म होने के बाद पांच जजों ने काकिरोग्लू के पक्ष में 28-29, 30-27, 29-28, 29-28, 30-27 से फैसला सुनाया। इस हार से पहले उन्होंने केवल एक बार इस प्रतियोगिता में स्वर्ण के अलावा कोई और पदक जीता है, 2001 में टूर्नामेंट के फाइनल में उन्हें हार झेलनी पड़ी थी। मेरीकॉम 48 किलोग्राम भारवर्ग में छह बार विश्व चैम्पियन रह चुकी हैं और 51 किलोग्राम भारवर्ग में यह विश्व चैम्पियनशिप में उनका पहला पदक है। 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From sports

Trending Now
Recommended