संजीवनी टुडे

ब्रेंडन मैकुलम और केकेआर के मालिक शाहरुख खान की वजह से इस क्रिकेटर की बदल गई थी जिंदगी

संजीवनी टुडे 10-04-2020 12:14:56

आज हम आपको कोलकाता नाइटराइडर्स की एक खिलाड़ी के बारें में बताएंगें ,जिसने मैच का ही रुख बदल दिया था और टीम विजेता बन गई थी। केकेआर अब तक दो बार आईपीएल चैंपियन रह चुकी है।


डेस्क । कोरोना वायरस का कहर इन दिनों काफी बढ़ता जा रहा है। आज हम आपको कोलकाता नाइटराइडर्स की एक खिलाड़ी के बारें में बताएंगें ,जिसने मैच का ही रुख बदल दिया था और टीम विजेता बन गई थी। केकेआर अब तक दो बार आईपीएल चैंपियन रह चुकी है। उसने 2012 और 2014 में खिताब जीते थे। उसने 2012 के फाइनल में चेन्नई सुपरकिंग्स को 5 विकेट से हराकर खिताब जीता था। उस मैच में प्लेयर ऑफ द मैच रहे थे मनविंदर बिस्ला। उस फाइनल ने बिस्ला को हीरो बना दिया। उस मैच के बाद केकेआर के मालिक शाहरुख खान द्वारा फोन पर उनके पिता से की गई बातचीत ने उनकी जिंदगी बदल दी। बिस्ला को लगता है कि फाइनल में जो चीजें उनके साथ हुईं, उसने उनके माइंडसेट को बदल दिया।

क्रिकबज से हुई बातचीत के दौरान बिस्ला ने बताया कि टूर्नामेंट के दौरान मैं कई बार टीम से अंदर बाहर हुआ था, इसलिए उन्हें फाइनल में प्लेइंग इलेवन में शामिल होने का भरोसा भी नहीं था। हालांकि, चीजें उनके पक्ष में रहीं और वे 48 गेंदों पर 89 रन बनाने में सफल रहे। उस पारी में उन्होंने 8 चौके और 5 छक्के लगाए थे। मैं अब भी हाइलाइट्स देखता हूं। लोग हमेशा उस फाइनल और उस पारी के बारे में बात करते हैं। लेकिन वह चीज जो मुझे हमेशा याद रहेगी वह है ब्रेंडन मैकुलम की सलाह। टूर्नामेंट में जब पहली बार मुझे ड्राप किया गया तो मैंने उनसे कहा था कि मैं निराश हूं, क्योंकि ज्यादा रन नहीं बना पाया।

बिस्ला ने बताया कि तब ब्रेंडन ने उनसे कहा था, जो कुछ हुआ, वह हुआ। आप उसे बदल नहीं सकते। हमें विश्वास है कि तुम हमारे लिए बढ़िया कर सकते हो। आपको बस उस पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है। बिस्ला ने कहा, एक बार चीजें जब ठीक हो गईं तो मैं उस सलाह के बारे में सोचा कि आपको अपनी क्षमता पर विश्वास होना कितना महत्वपूर्ण था। यहां तक कि जब मुझे ड्राप किया गया तब भी मुझे अगला अवसर मिलने तक नकारात्मक चीजों के बारे में नहीं सोचना चाहिए। प्रेजेंटेशन सेरेमनी के बाद मैं ड्रेसिंग रूम में बैठा था और पिता से फोन पर बात कर रहा था। तभी शाहरुख खान आए। 

उन्होंने मुझसे पूछा कि मैं किसे फोन कर रहा हूं। फिर उन्होंने फोन लिया और मेरे पिता से लगभग 15 मिनट तक बात की। मेरे पिताजी हमेशा मुझसे पूछते थे कि मेरी टीम ने कैसे किया। उस दिन, शाहरुख से बात करने के बाद, वे काफी भावुक हो गए थे। उन्होंने कहा कि उन्हें मुझ पर बहुत गर्व है।

यह खबर भी पढ़े:Ambedkar Jayanti 2020: जानिए भारत रत्न 'बाबा साहब' भीमराव अंबेडकर के जीवन के बारें में...

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From sports

Trending Now
Recommended