संजीवनी टुडे

धोनी के साथ धोखाधड़ी करना आम्रपाली ग्रुप को पड़ा भारी, सुप्रीम कोर्ट ने दिया ऐसा आदेश

संजीवनी टुडे 30-04-2019 20:40:35


नई दिल्ली। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली सूमह को कल (बुधवार) तक सभी लेनदेन का ब्यौरा देने को कहा है। बता दें कि धोनी आम्रपाली द्वारा पेंटहाउस न दिए जाने और कंपनी द्वारा उनका नाम देनदारों की सूची में शामिल करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। 

आम्रपाली ग्रुप पर अपने हजारों होम बायर्स को ठगने का आरोप है और उन्हें उनका घर ना देने का आरोप है। जिसके खिलाफ होम बायर्स ने भी सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। अब खुद धोनी भी सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को आम्रपाली ग्रुप को आदेश दिया है कि वह भारतीय क्रिकेटर एमएस धोनी से संबंधित सभी लेन देन की जानकारी बुधवार तक दें। धोनी 2009-16 के बीच कंपनी के ब्रैंड अंबेसडर थे।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

ु

धोनी ने अपनी याचिका में कहा था कि उन्होंने रांची में अम्रपाली सफारी में एक पेंटहाउस बुक किया था। साथ ही उन्होंने कहा है कि समूह के प्रबंधन ने उन्हें अपना ब्रांड एम्बेसडर भी बनाया था। SC ने कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर से पूछताछ को CBI से मांगे सबूत धोनी ने कहा कि कंपनी ने उन्हें धोखा दिया है और ब्रांड एम्बेसडर के तौर पर जो बकाया राशि थी, उसका भी भुगतान नहीं किया है। धोनी ने 2009 से 2016 तक कंपनी का प्रचार किया था। इस क्रम में वह कंपनी के कई विज्ञापनों में देखे गए थे।

ु

बता दें कि दरअसल आम्रपाली ग्रुप के प्रोजेक्ट में महेंद्र सिंह धोनी को अब तक पेंटहाउस का पजेशन नहीं मिला है। कंपनी पर धोनी के 40 करोड़ रुपए भी बकाया है। धोनी ने पांच सालों तक कंपनी के लिए ब्रांड एम्बेसेडर की भूमिका भी निभाई है। धोनी के साथ उनकी पत्नी साक्षी भी कंपनी की चैरिटेबल विंग का हिस्सा हैं।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

आम्रपाली ग्रुप पर करीब 45000 होम बायर्स को घर नहीं देने का आरोप है, इसी कारण तब हजारों लोगों ने ग्रुप के खिलाफ सोशल मीडिया पर कैंपेन चलाया था। इसी कैंपेन के बाद धोनी ने घर खरीदने वालों का समर्थन करते हुए आम्रपाली ग्रुप से अपना नाता तोड़ लिया था। आम्रपाली ग्रुप मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल भी सख्त रुख अपनाया था। 

More From sports

Trending Now