संजीवनी टुडे

सचिन ने सन्यास को लेकर किया बड़ा खुलासा, विवियन रिचर्ड्स को लेकर कही ऐसी बात

संजीवनी टुडे 03-06-2019 10:19:13

सचिन तेंदुलकर ने संन्यास को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने खुलासा किया कि वेस्टइंडीज के दिग्गज क्रिकेटर विवियन रिचर्ड्स के फोन के कारण उन्हें 2007 में खेल को अलविदा कहने का विचार बदलने में मदद मिली।


डेस्क। सचिन तेंदुलकर उन महान खिलाड़ियों में से एक है जिन्होंने खेल जगत में कही बड़े बड़े रिकॉर्ड बनाये है और पूरी दुनिया में अपने खेल से भारत का नाम रोशन किया है। भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित होने वाले वह सर्वप्रथम खिलाड़ी और सबसे कम उम्र के व्यक्ति हैं। साथ ही राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित एकमात्र क्रिकेट खिलाड़ी हैं। वे अब क्रिकेट के सभी फोर्मेट से संन्यास ले चुके है। हाल ही में उन्होंने संन्यास को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है। 

sdfd

तेंदुलकर ने रविवार को खुलासा किया कि वेस्टइंडीज के दिग्गज क्रिकेटर विवियन रिचर्ड्स के फोन के कारण उन्हें 2007 में खेल को अलविदा कहने का विचार बदलने में मदद मिली। कई जगह इस बात का जिक्र है कि बड़े भाई अजीत की सलाह के बाद तेंदुलकर ने 2007 में क्रिकेट को अलविदा कहने का मन बदला था लेकिन इस दिग्गज क्रिकेटर ने इससे पहले कभी इसमें रिचर्ड्स की भूमिका पर बात नहीं की थी।

sdfd

तेंदुलकर ने लॉर्ड्स (लंदन) में आयोजित 'सलाम क्रिकेट' में कहा कि 2007 वर्ल्ड कप उनके करियर का सबसे बुरा दौर था। जिस खेल ने उन्हें उनके जीवन के सर्वश्रेष्ठ दिन दिखाए, वहीं उन्हें बुरे दिन भी दिखा रहे थे। तेंदुलकर ने कहा- 'मुझे लगता है कि ऐसा ही माहौल था, उस समय भारतीय क्रिकेट से जुड़ीं जो चीजें हो रही थी, उनमें सब कुछ सही नहीं था। हमें कुछ बदलाव की जरूरत थी और मुझे लगता था कि अगर वे बदलाव नहीं हुए तो मैं क्रिकेट छोड़ देता. मैंने क्रिकेट को अलविदा कहने का 90 फीसदी मन बना लिया था।'

sdfd

सचिन ने बताया कि मेरे भाई ने मुझसे कहा कि 2011 में विश्व कप फाइनल मुंबई में है, क्या तुम उस खूबसूरत ट्रॉफी को अपने हाथ में थामने की कल्पना कर सकते हो? इसके जवाब में तेंदुलकर ने कहा कि इसके बाद मैं अपने फार्म हाउस में चला गया और वहीं मेरे पास सर विव का फोन आया। उन्होंने कहा कि उन्हें पता है कि मेरे अंदर काफी क्रिकेट बचा है. हमारी बात लगभग 45 मिनट चली और जब आपका हीरो आपको फोन करता है तो यह काफी मायने रखता है। यह वह लम्हा था जब मेरे लिए चीजें बदल गईं और इसके बाद से मैंने काफी बेहतर प्रदर्शन किया।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब चैनल

 

सलाम क्रिकेट 2019 के दौरान रिचर्ड्स भी मौजूद थे। उन्होंने तेंदुलकर की ओर इशारा करते हुए कहा कि उन्हें हमेशा से उनकी क्षमता पर भरोसा था। रिचर्ड्स ने कहा 'मुझे सुनील गावस्कर के खिलाफ खेलने का मौका मिला, जो मुझे हमेशा से लगता था कि भारतीय बल्लेबाजी के गॉडफादर हैं। इसके बाद सचिन आए, इसके बाद अब विराट हैं, लेकिन मैं जिस चीज से सबसे हैरान था वह यह थी कि इतना छोटा खिलाड़ी इतना ताकतवर कैसे हो सकता है।'

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314188188

More From sports

Trending Now
Recommended