संजीवनी टुडे

रवि दुनिया में ऐसा कारनामा करने वाले पहले गेंदबाज, वर्ल्ड में...

संजीवनी टुडे 21-02-2020 01:24:00

मौजूदा रणजी ट्रॉफी सीजन के दौरान एक अनजान गेंदबाज ने यह करिश्मा कर दिखाया है। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण करते हुए पहले ही ओवर में हैट्रिक जमाने का यह एकमात्र उदाहरण है, यानी यह वर्ल्ड रिकॉर्ड हैं।


नई दिल्ली। लगातार तीन गेंदों पर तीन विकेट लेकर हैट्रिक जमाना किसी भी गेंदबाज का सपना होता है। अगर वह हैट्रिक प्रथम श्रेणी क्रिकेट में डेब्यू करते ही पहले ही ओवर में ये हासिल हो जाए, तो इससे बेहतर शुरुआत और क्या हो सकती है। दरअसल, हाल ही में मौजूदा रणजी ट्रॉफी सीजन के दौरान एक अनजान गेंदबाज ने यह करिश्मा कर दिखाया है। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण करते हुए पहले ही ओवर में हैट्रिक जमाने का यह एकमात्र उदाहरण है, यानी यह वर्ल्ड रिकॉर्ड हैं।

Ravi Yadav created history in cricket did this great feat

दरअसल, मौजूदा रणजी ट्रॉफी सीजन के दौरान प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण करते हुए पहले ही ओवर में हैट्रिक जमाने वाले रवि यादव ने वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किया है। बता दे, उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद के रहने वाले बाएं हाथ के तेज गेंदबाज रवि यादव ने 28 साल की उम्र में मध्य प्रदेश की ओर से रणजी ट्रॉफी में पदार्पण किया। रवि ने अपने गृहराज्य उत्तर प्रदेश की टीम के विरुद्ध ही यह असाधारण उपलब्धि अपने नाम की। उन्होंने क्रिकेट के लिए तो रेलवे में जॉब छोड़ दी थी।

Indias bowler sets world record worlds first bowler to do so
 
बता दे, इंदौर में मुकाबले के पहले ही दिन ढलती शाम अपने गृहराज्य उत्तर प्रदेश की टीम के विरुद्ध रवि को 7वें ओवर में आक्रमण पर लगाया गया था। उन्होंने उस ओवर की तीसरी गेंद पर यूपी के आर्यन जुयाल को विकेटकीपर के हाथों लपकवाया और इसके बाद अगली दो गेंदों पर अंकित राजपूत (0) और समीर रिजवी (0) को बोल्ड कर इतिहास रच दिया। इससे 80 साल पहले साउथ अफ्रीका के रिकी फिलिप्स ने भी फर्स्ट क्लास क्रिकेट के अपने पहले ही ओवर में हैट्रिक (1939-40) ली थी, लेकिन इससे पहले उन्हें चार मैचों में गेंदबाजी का मौका नहीं मिला था।

वही, भारतीय गेंदबाजों में इनके अलावा 7 गेंदबाजों ने अपने फर्स्ट क्लास डेब्यू में हैट्रिक ली है, जिनमें जवागल श्रीनाथ, सलिल अंकोला, अभिमन्यु मिथुन जैसे नाम शामिल हैं। लेकिन रवि यादव की हैट्रिक सबसे अलग है क्योंकि उन्होंने अपने पहले ही ओवर में ऐसा कर दिखाया। बता दे, रवि यादव का 28 साल की उम्र में रणजी ट्रॉफी खेलने का सपना सच हुआ। यूपी के लिए जूनियर क्रिकेट खेल चुके रवि ने अंडर-19 वीनू मांकड़ ट्रॉफी में डेब्यू किया था और उनका वह पदार्पण मैच मध्य प्रदेश के खिलाफ था और अब 11 साल बाद उसी मध्य प्रदेश की ओर से फर्स्ट क्लास क्रिकेट में डेब्यू किया।

यह खबर भी पढ़े: Ind vs NZ: पहले टेस्ट में कुछ ऐसी होगी भारत की प्लेइंग XI, विराट कोहली ने दिए संकेत

यह खबर भी पढ़े: ऑस्ट्रेलियाई टीम महिला टी-20 विश्व कप जीतने की हकदार: माइकल क्लार्क

मात्र 289/- प्रति sq. Feet में जयपुर में प्लॉट बुक करें 9314166166

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From sports

Trending Now
Recommended