संजीवनी टुडे

टिम पेन और डेविड वॉर्नर 'विवाद' से राहुल द्रविड़ को याद आया वर्षों पुराना फैसला

संजीवनी टुडे 01-12-2019 08:01:56

कप्तान टिम पेन ने 127 ओवरों में 3 विकेट पर 589 रन के टीम स्कोर पर पारी घोषित कर दी।


डेस्क। एडिलेड में जारी टेस्ट सीरीज में शनिवार को पाकिस्तान के खिलाफ दूसरे टेस्ट की पहली पारी में ऑस्ट्रेलियाई तूफानी ओपनर डेविड वॉर्नर ने नाबाद 335 रनों की पारी खेलकर कई रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए। इसी बीच कप्तान टिम पेन ने पारी घोषित कर दी जिसकी वजह से उन्हें कई आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में इस पुरे घटनाक्रम ने पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ को अपना वर्षों पुराना फैसला याद दिला दिया। 

यह खबर भी पढ़े: लाइव मैच में गेंद के साथ फुटबॉल खेलते नजर आया पाकिस्‍तानी फील्डर, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

दरसअल, जब डेविड वॉर्नर 335 रन बनाकर खेल रहे थे, तभी कप्तान टिम पेन ने 127 ओवरों में 3 विकेट पर 589 रन के टीम स्कोर पर पारी घोषित कर दी। इसकी शायद ही किसी को उम्मीद थी कि ऑस्ट्रेलियाई कैप्टन टिम पेन यह फैसला उस वक्त लेंगे, जब वॉर्नर के पास टेस्ट पारी में सर्वाधिक 400 रनों के वर्ल्ड रेकॉर्ड, जो वेस्ट इंडीज के ब्रायन लारा के नाम है, को तोड़ने का मौका था। 

डेविड वॉर्नर

सभी पेन के इस फैसले से हैरान दिखे। पविलियन की ओर बढ़ रहे वॉर्नर के कदम उस बात का सबूत थे कि पारी खत्म हो चुकी है और इस पारी में वॉर्नर के नाम नाबाद 335 रन ही रहेंगे। टिम पेन के इस फैसले ने इतिहास के पन्नों में दबे 'राहुल द्रविड़ और सचिन तेंडुलकर विवाद' की याद दिला दी। 

यह खबर भी पढ़े: रोहित शर्मा के ब्रैंड वैल्यू में आया जबरदस्त उछाल, कमर्शियल शूट के लिए एक दिन में लेते है इतने करोड़ रुपये...

यह बात मार्च-अप्रैल 2004 की है। जब भारतीय टीम पाकिस्तान दौरे पर थी। सीरीज का पहला टेस्ट मैच 28 मार्च से मुल्तान में शुरू हुआ। यह मैच जितना मुल्तान के सुल्तान कहे जाने वाले वीरेंदर सहवाग के ट्रिपल सेंचुरी के लिए जाना जाता है, उतना ही राहुल द्रविड़ के एक विवादित फैसले के लिए भी। मैच में भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ ने टॉस जीता और पहले बैटिंग का फैसला किया। 

डेविड वॉर्नर

ओपनर सहवाग ने 375 गेंदों में 39 चौके और 6 छक्के लगाते हुए 309 रन की पारी खेली और टेस्ट में तिहरा शतक लगाने वाले भारतीय बल्लेबाज बने। इसी पारी में भारत ने 5 विकेट पर जैसे ही 675 रन बनाए, तभी राहुल द्रविड़ ने पारी घोषित कर दी और सचिन तेंडुलकर अपना दोहरा शतक केवल 6 रन से चूक गए। जब सचिन मैदान से वापस लौट रहे थे तो उनका चेहरा दोहरा शतक ना बना पाने की वजह से गुस्से में तमतमा रहा था। 

यह खबर भी पढ़े: गांगुली ने बंद किया धोनी के भविष्य पर बोलने वाले का मुंह, कहा- 'जब आप ऐसे चैंपियन से...

कहा जाता है कि अपने शांत स्वभाव के लिए जाने जाने वाले मास्टर इतने गुस्से में थे कि काफी समय तक द्रविड़ से बात नहीं की। राहुल के इस फैसले पर काफी विवाद हुआ, लेकिन दोनों ने कभी खुलकर इस पर बात नहीं की। सचिन-द्रविड़ भले ही उस विवाद को भूल गए हों, लेकिन जब भी कप्तान के ऐसे फैसले आते हैं तो भारतीय क्रिकेट इतिहास का यह विवाद लोगों के जेहन में ताजा हो जाता है। हालाँकि अगर किसी ने उस मैच को देखा होगा तो राहुल द्रविड की गलती नही देगा क्योंकि सचिन को बहुत समय दिया गया था ।लेकिन सचिन बहुत स्लो खेल रहे थे और समय बर्बाद कर रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From sports

Trending Now
Recommended