संजीवनी टुडे

महेंद्र सिंह धौनी ने कहा- मैं खिलाड़ियों को मां-बहन की गाली देने की...

संजीवनी टुडे 22-07-2018 16:43:57


नई दिल्ली। क्रिकेट के मैदान पर कई बार खिलाडियों को गुस्से में आकर आपस में भिड़ते और गालिया देते हुए आपने खूब देखा होगा है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे खिलाडी के बारे में बताने जा रहे है जिसे शायद आपने कभी लड़ते और गालिया देते हुए नहीं देखा होगा। वह खिलाडी है भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी। 

जी हां कितना भी टेंशन भरा माहौल हो कभी महेंद्र सिंह धौनी को ऐसा करते नहीं देखा होगा। वो हमेशा कूल रहते हैं। धोनी जब कप्तान थे तो कई ऐसे मैच हुए जब कोई आम कप्तान या खिलाड़ी अपना आपा खो सकता था, लेकिन धौनी ने न सिर्फ खुद को, बल्कि अपने खिलाड़ियों को भी संयमित रखा। भरत सुंदरेशन की किताब 'द धौनी टज' में भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान के हवाले से बताया गया है कि उन्होंने हमेशा अपने खिलाड़ियों को मां-बहन की गाली देने के लिए मना किया है। 

ू

बता दे कि, साल 2008 में हुआ ऑस्ट्रेलिया दौरा धौनी की कप्तानी में पहला विदेशी दौरा था। ऑस्ट्रेलियाई टीम अपनी आक्रामकता के लिए जानी जाती है और वो मैदान पर स्लेंजिंग के लिए कुख्यात है, लेकिन धोनी ने अपने खिलाड़ियों से किसी भी विरोधी पर निजी छींटाकशी के लिए मना किया था। 

ू

धौनी के एक करीबी दोस्त ने किताब में कहा है, 'धौनी अपनी स्टाइल में गोली मारते हैं। धौनी का मानना था कि अगर वो अपने खिलाड़ियों को मां-बहन की गाली देने की छूट दे देते तो उनका खेल नहीं, बल्कि उनकी बातें विरोधियों को परेशान करती। धौनी कभी आक्रामकता दिखाने में विश्वास नहीं करते थे। धौनी का कहना था कि अगर आप ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को परेशान करना चाहते हैं तो अपने स्टाइल से करें ना कि ऑस्ट्रेलियाई अंदाज में। 

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.40 लाख में call: 09314166166

MUST WATCH

2008 में धौनी की कप्तानी में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया से वीबी सीरीज जीती थी। दूसरे फाइनल में जब ऑस्ट्रेलियाई टीम महज 160 रनों पर सिमट गई थी तो माही ने अपने खिलाड़ियों से ऑस्ट्रेलिया की हार और अपनी जीत पर जमकर जश्न ना मनाने को कहा था। भरत सुंदरेशन अपनी किताब में बताते हैं, 'माही ऑस्ट्रेलियाई टीम को ये संदेश देना चाहते थे कि उन्हें हराना कोई बड़ी बात नहीं है। अगर हम जीत का ज्यादा जश्न मनाते तो ऑस्ट्रेलियाई टीम को लगता कि ये एक उलटफेर हुआ है। हम उन्हें ये जताना चाहते थे कि ये तुक्का नहीं है ये आगे भी होता रहेगा। एक ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने खुलासा किया था कि जब उनकी टीम वीबी सीरीज हारी थी, तो ऑस्ट्रेलिया को ये पचा नहीं। वो भारतीय टीम से मिली हार से अंदर तक हिल गए थे। 

sanjeevni app

More From sports

Loading...
Trending Now
Recommended