संजीवनी टुडे

INDvsBAN: गुलाबी गेंद की बनावट होती है इस प्रकार, जानिए लाल और पिंक बॉल में अंतर

संजीवनी टुडे 20-11-2019 01:41:00

भारत और बांग्लादेश के बीच टेस्ट सीरीज खेली जा रही है, जिसका पहला टेस्ट तो भारत के नाम हो गया। अब सबकी निगाहे सीरीज का दूसरा मैच ईडन गार्डन्स कोलकाता पर टिकी हुई है, क्योकि 22 नवंबर को भारतीय क्रिकेट का इतिहास बदल जाएगा। भारत-बांग्लादेश के बीच पहला डे-नाइट टेस्ट कोलकाता में इसी दिन से शुरू होगा। चलिए अब जाने इस पिंक गेंद का राज.....


नई दिल्ली। भारत और बांग्लादेश के बीच टेस्ट सीरीज खेली जा रही है, जिसका पहला टेस्ट तो भारत के नाम हो गया। अब सबकी निगाहे सीरीज का दूसरा मैच  ईडन गार्डन्स कोलकाता पर टिकी हुई है, क्योकि 22 नवंबर को भारतीय क्रिकेट का इतिहास बदल जाएगा। भारत-बांग्लादेश के बीच पहला डे-नाइट टेस्ट कोलकाता में इसी दिन से शुरू होगा। चलिए अब जाने इस पिंक गेंद का राज.....

यह भी पढ़े: INDvsBAN, Day-Night Test: कोलकाता पहुंचे कप्तान कोहली, कर सकते हैं पिच का मुआयना

बता दे, भारत-बांग्लादेश के बीच पहला डे-नाइट टेस्ट कोलकाता में यह मुकाबला 22 से 26 नवंबर तक देखने को मिलेगा। 22 नवंबर को भारतीय क्रिकेट का इतिहास बदल जाएगा। सबसे खास बात होगी पिंक गेंद, जिससे यह मैच खेला जाना है। डे-नाइट टेस्ट मैच में दरअसल भारत के नजरिए से सबसे बड़ी चुनौती दुधिया रोशनी नहीं बल्कि पिंक बॉल ही है। एसजी कंपनी से इस मैच के लिए 100 से ज्यादा पिंक गेंद बनाई हैं। आखिर पारंपरिक लाल गेंद से कितनी अलग है यह गुलाबी गेंद। 

pink

पिंक बॉल की सबसे बड़ी समस्या उसके रंग और शेप को लेकर है जो बरकरार रखना मुश्किल साबित होता है, जिसके चलते रिवर्स स्विंग कराना दूर की कौड़ी साबित होती है। कंपनी के अनुसार लाल गेंद का रंग गहरा होता है, जिसके चलते खिलाड़ियों को गेंद चमकाने और पूरे दिन स्विंग हासिल करने में मदद मिलती है। जो टीम जितनी बढ़िया गेंद बनाती है, उसको उतनी अच्छी रिवर्स स्विंग हासिल होती है।

pink

बता दे कि एक पिंक बॉल बनाने में करीब 7-8 दिन लग जाते हैं। लाल गेंद में चमड़े को रंगने की सामान्य प्रक्रिया का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन पिंक बॉल पर गुलाबी रंग की कई परत चढ़ाई जाती हैं, इसलिए इसे बनाने में एक हफ्ता लगता है। क्रिकेट में पहली बार पिंक बाॅल का इस्तेमाल एक वन-डे मैच में किया गया था। ये मुकाबला ऑस्ट्रेलिया बनाम इंग्लैंड की महिला टीमों के बीच 2009 में खेला गया था। हालांकि पुरुष क्रिकेट में इसे आने में छह साल और लग गए।

pink

BCCI चीफ सौरव गांगुली के होम स्टेडियम ईडन गार्डन में होने वाले टेस्ट मैचों में एक खास रस्म निभाई जाती है। बेल रिंगिंग सेरेमनी या वो रस्म है ‘घंटी बजाने’ की। इस खास सेरेमनी के लिए बांग्लादेश की PM शेख हसीना को न्यौता भेजा गया है, कार्यक्रम में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी होंगी, दोनों इस रस्म को पूरा करेंगी। सीरीज का यह दूसरा मैच भी जीतकर टीम इंडिया बांग्लादेश को क्लीन स्वीप करना चाहेगी।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From sports

Trending Now
Recommended