संजीवनी टुडे

देश की सबसे तेज महिला स्प्रिंटर दुती चंद के पास नहीं ट्रेनिंग पैसे, बेचेंगी BMW कार

संजीवनी टुडे 12-07-2020 04:58:00

टोक्यो ओलिंपिक टलने के कारण देश की सबसे तेज महिला स्प्रिंटर दुती चंद को फंड की कमी का सामना करना पड़ रहा है।


नई दिल्ली। महामारी कोरोना वायरस का नेगेटिव असर अब ऐथलीटों की आर्थिक स्थिति पर दिखने लगा है। इसी कड़ी में टोक्यो ओलिंपिक टलने के कारण देश की सबसे तेज महिला स्प्रिंटर दुती चंद को फंड की कमी का सामना करना पड़ रहा है। वह अपने प्रशिक्षण के खर्च को पूरा करने के लिए अपनी कार बेचने की योजना बना रही हैं। दुती चंद ने 2018 में 30 लाख रुपये में बीएमडब्ल्यू 3 सीरीज की कार खरीदी थी।

Duti Chand will prepare for Tokyo Games by selling 30 million luxury BMW cars there is no money for training fund

दरअसल, स्टार भारतीय ऐथलीट दुती चंद को अगले साल टोक्यो ओलिंपिक के स्थगन के कारण धन की कमी का सामना करना पड़ रहा है। 100 मीटर दौड़ की नैशनल रेकॉर्ड होल्डर दुती चंदने कहा, 'प्रशिक्षण अब तक काफी अच्छा चल रहा है। मैं यहां भुवनेश्वर में प्रशिक्षण ले रही हूं। इससे पहले प्रशिक्षण के लिए धन से संबंधित कोई समस्या नहीं थी, क्योंकि टोक्यो ओलिंपिक शेड्यूल था और हमारी राज्य सरकार ने मुझे सम्मानित किया था। लेकिन कोरोनो वायरस के कारण ओलिंपिक स्थगित कर दिया गया और प्रायोजकों से मिले पैसे खर्च हो गए।'

Corona virus  Indian Sprinter Duti Chand returned to training after two months break

इस बीच कोविड-19 महामारी के कारण गेम्स एक साल के लिए टाल दिए गए। ऐसे में उनके पास ट्रेनिंग के लिए फंड नहीं है। उन्होंने कहा, 'अब ओलिंपिक क्वॉलिफाइ करने के लिए मेरे पास समय बेहद कम है। ऐसे में मुझे प्रशिक्षण के लिए धन की आवश्यकता है। साथ ही नए स्पॉन्सर्स की भी जरूरत है, लेकिन कोरोनो वायरस की वजह से ढूंढना मुश्किल हो रहा है। इसलिए मैंने अपनी कार बेचने का फैसला किया है।' 

Lockdown Effect Duti Chand returns to training after two months break
बता दें कि उन्हें हाल ही में अर्जुन पुरस्कार 2020 के लिए नामांकित किया गया है। उन्होंने कहा कि COVID-19 ने खेल पर भारी प्रभाव डाला है और प्रायोजक इस समय उनका सपॉर्ट करने के लिए तैयार नहीं हैं। उन्होंने कहा, 'कोरोना वायरस के मुश्किल समय में सरकार से पैसा मांगना अच्छा नहीं लग रहा। इस वायरस ने हम सभी को प्रभावित किया है। फिलहाल कोई टूर्नामेंट नहीं है तो स्पॉन्सर्स नहीं मिल पा रहे हैं।'

यह खबर भी पढ़े: एश्वेल प्रिंस का खुलासा, ऑस्ट्रेलिया में कई खिलाड़ियों को करना पड़ा था नस्लीय दुर्व्यवहार का सामना

यह खबर भी पढ़े: एकदिवसीय क्रिकेट में वापसी करना चाहते हैं रहाणे, कहा- मैं टी 20 में किसी को कॉपी करने की कोशिश नहीं करता

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From sports

Trending Now
Recommended