संजीवनी टुडे

नवागतों के लिए सेलेक्शन कमेटी तैयार करेगी भाजपा

संजीवनी टुडे 02-07-2019 10:49:09

लोकसभा चुनाव के बाद राज्यभर में सत्तारूढ़ तृणमूल और अन्य पार्टियों से टूटकर भाजपा में जाने वाले लोगों की संख्या बढ़ गई है।


कोलकाता। लोकसभा चुनाव के बाद राज्यभर में सत्तारूढ़ तृणमूल और अन्य पार्टियों से टूटकर भाजपा में जाने वाले लोगों की संख्या बढ़ गई है। इतनी अधिक संख्या में लोग भाजपा में शामिल हो रहे हैं कि पार्टी को अपने प्रदेश मुख्यालय और क्षेत्रीय जिला मुख्यालयों में इन लोगों को एक साथ शामिल कराने के लिए जगह की कमी पड़ रही है। इसलिए प्रदेश भाजपा ने प्रत्येक जिला मुख्यालय के आसपास मौजूद बड़े मैदानों अथवा सभागारों को किराए पर लेकर वहां योगदान मेला नाम से सदस्यता अभियान शुरू करना पड़ रहा है। 

इसी बीच कुछ ऐसे लोगों को भी पार्टी की सदस्यता मिल गई है जिन्हें लेकर कई सवाल उठ रहे हैं। इसमें बीरभूम के लाभपुर से हत्या आरोपित पूर्व तृणमूल विधायक मनीरूल इस्लाम का नाम भी शामिल है। 

मनीरूल की तरह कई ऐसे लोग पार्टी में आए हैं जो तृणमूल में रहने के दौरान अपराध के लिए कुख्यात रहे हैं। जिन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं को मौत के घाट उतारा, पार्टी के अंदर ही आज उन्हें सम्मान मिलने लगा है। इन सभी लोगों को लोकसभा चुनाव के सारथी रहे मुकुल रॉय ने पार्टी में शामिल कराया था, जो पूर्व में ममता बनर्जी के सबसे बड़े सहयोगी रह चुके हैं। 

इन्ही बातों को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने भाजपा को आगाह किया था। संघ की ओर से कहा गया था कि पार्टी में नए लोगों का आना अच्छी बात है लेकिन यह ध्यान रखना होगा कि ऐसे लोगों को शामिल न किया जाए जिनके आने से पार्टी के अंदर समस्या खड़ी हो जाए। इसके बाद अब किसी भी नए व्यक्ति को पार्टी में शामिल करने से पहले उसका पूरा बैकग्राउंड खंगाला जाएगा। 

इसके लिए पार्टी एक सेलेक्शन कमेटी तैयार करेगी। प्रदेश भाजपा की ओर से बताया गया है कि 30 जून को दिल्ली में राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के साथ पार्टी नेताओं की बैठक हुई है। उसी बैठक में अमित शाह ने यह निर्देश दिया कि पार्टी में आने वाले नेताओं का अपराधिक रिकॉर्ड देखने के बाद उन्हें शामिल किया जाएगा।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब चैनल

 

 अगर कोई नेता, मंत्री भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या का दोषी है अथवा लोगों के साथ उसने काफी अत्याचार किया है तो उसे पार्टी शामिल नहीं कराएगी। इसके अलावा उन नेताओं पर भी सेलेक्शन कमेटी विशेष तौर पर गौर करेगी जो लोकसभा चुनाव के बाद भाजपा में शामिल हुए हैं। उनकी जिम्मेदारियां और पार्टी के अंदर भूमिका भी सिलेक्शन कमेटी ही तय करेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From sports

Trending Now
Recommended