संजीवनी टुडे

AIFF ने फुटबॉलर एसएस वसीम के निधन पर किया शोक व्यक्त, भारत का 5 बार किया था प्रतिनिधित्व

संजीवनी टुडे 27-05-2020 17:39:59

अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) ने बुधवार को पूर्व खिलाड़ी एसएस वसीम के निधन पर शोक व्यक्त किया है।


नई दिल्ली। अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) ने बुधवार को पूर्व खिलाड़ी एसएस वसीम के निधन पर शोक व्यक्त किया है। वसीम को मोहम्मद मतीन भी कहा जाता है। उन्होंने 26 मई मंगलवार को अंतिम सांस ली। वह 72 वर्ष के थे और उनके परिवार में उनकी पत्नी और दो बेटे हैं। वसीम ने 10 अगस्त, 1976 को मलेशिया के कुआलालंपुर में मर्डेका कप में कोरिया गणराज्य के खिलाफ अपना अंतरराष्ट्रीय पदार्पण किया था। उन्होंने भारत का पांच बार प्रतिनिधित्व किया है।

मर्डेका कप के अलावा, उन्होंने काबुल (1976) में प्रेसिडेंट गोल्ड कप और इंडिपेंडेंस कप में भारत का प्रतिनिधित्व किया। इसके अलावा, उन्होंने 1972 में एशियाई युवा फुटबॉल टूर्नामेंट में भारतीय युवा टीम की कप्तानी की। एआईएफएफ के अध्यक्ष, प्रफुल्ल पटेल ने कहा, "यह सुनकर दुख हुआ कि वसीम अब और नहीं हैं। मैं उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूँ, भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।"

 घरेलू स्तर पर, उन्होंने 1971 से 1980 तक लगातार दस सत्रों में संतोष ट्रॉफी में आंध्र प्रदेश का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने 1976 में आंध्र प्रदेश को फाइनल में ले जाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। एआईएफएफ के महासचिव, कुशाल दास ने कहा, "वसीम उर्फ ​​मतीन को उनके फुटबॉल कारनामों के माध्यम से याद किया जाएगा। उनकी आत्मा को शांति मिले।"

वसीम प्रसिद्ध कोच एसए रहीम के सबसे छोटे बेटे थे, जिन्होंने 1962 के एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम को कोचिंग दी थी। एक फुटबॉलर होने के अलावा, वह पेशे से इंजीनियर थे।

यह खबर भी पढ़े: अपराध: एकतरफा प्यार में पागल आशिक ने धारदार हथियार से काटकर की प्रेमिका की हत्या

यह खबर भी पढ़े: VIDEO : टिकट बुकिंग से लेकर रिफंड तक जानिए रेलवे के सभी नए नियम

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From sports

Trending Now
Recommended