संजीवनी टुडे

भारत के बाद अब यह देश भी कर सकता है बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेल-2022 का बहिष्कार

संजीवनी टुडे 14-08-2019 14:00:21

टर्स यूनियन ऑस्ट्रेलिया (एसयूए) ने इसकी मांग की है। यह एक लॉबी समूह है जो ऑस्ट्रेलिया में हजारों बन्दूक मालिकों और लोगों का प्रतिनिधित्व करने का दावा करता है और यह अमेरिका में राष्ट्रीय राइफल एसोसिएशन से संबद्ध है।


डेस्क। आईओए ने निशानेबाजी को हटाये जाने के कारण पिछले महीने बर्मिंघम में 2022 में होने वाले ओलंपिक खेलों का बहिष्कार करने का प्रस्ताव रखा और इस पर सरकार की मंजूरी मांगी। सीजीएफ के इस फैसले के बाद भारत में बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेल-2022 के बहिष्कार की मांग उठने लगी है। अब भारत के बाद आस्ट्रेलिया भी इस प्रतियोगिता का बहिष्कार कर सकता है।

यह खबर भी पढ़े: T20 सीरीज में भारत के खिलाफ डु प्लेसिस नहीं बल्कि यह खिलाड़ी संभालेगा साउथ अफ्रीका टीम की कमान

fggfdfdffdfdfddfgdfsdfsdfsdm  d,  gfghf

राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (सीजीएफ) ने जून में फैसला किया था कि बर्मिंघम में 2022 में होने वाले खेलों में निशानेबाजी को जगह नहीं दी जाएगी। 1970 के बाद से ऐसा पहली बार होगा कि राष्ट्रमंडल खेलों में निशानेबाजी नहीं होगी। शूटर्स यूनियन ऑस्ट्रेलिया (एसयूए) ने इसकी मांग की है। यह एक लॉबी समूह है जो ऑस्ट्रेलिया में हजारों बन्दूक मालिकों और लोगों का प्रतिनिधित्व करने का दावा करता है और यह अमेरिका में राष्ट्रीय राइफल एसोसिएशन से संबद्ध है। 

fggfdfdffdfdfddfgdfsdfsdfsdm  d,  gfghf

ऑस्ट्रेलिया ने पिछले साल गोल्ड कोस्ट में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में तीन स्वर्ण पदक सहित नौ पदक जीते थे और वह भारत के बाद दूसरे सबसे ज्यादा पदक जीतने वाला देश था। एसयूए के अध्यक्ष ग्राहम पार्क ने कहा, “ऑस्ट्रेलिया को 2022 राष्ट्रमंडल खेलों में निशानेबाजी को फिर से शामिल करने की मांग में भारत के साथ खड़ा होना चाहिए। अगर वह ऐसा नहीं करता है तो इसका बहिष्कार करने के लिए तैयार रहें।”

fggfdfdffdfdfddfgdfsdfsdfsdm  d,  gfghf

पार्क ने कहा, “ऑस्ट्रेलिया को विश्व स्तर पर हमारी खेल उपलब्धियों के लिए जाना जाता है और मनमाने ढंग से हमारे शीर्ष निशानेबाजों को संभावित स्थान से वंचित करना हमारे एथलीटों के लिए सही नही है जो कड़ी मेहनत करते हैं। इससे पता चलता है कि सरकार आपके खेल के बारे में नहीं सोचती है। यह हमारे लिए पदक की संभावना को कम करता है जोकि हमारी राष्ट्रीय प्रतिष्ठा का सवाल है।”

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब चैनल

 

ऑस्ट्रेलिया निशानेबाजी टीम की पूर्व मैनेजर जैन लिंसले ने कहा, “जाहिर है कि अगर बमिंर्घम खेलों में निशानेबाजी नहीं होती है तो ऑस्ट्रेलिया में शीर्ष स्तर की निशानेबाजी ट्रेनिंग के लिए धन कम हो जाएगा। इससे ओलंपिक के लिए निशानेबाजों को तैयार करने और उन्हें पदक जीतने के योग्य बनाने की हमारी कोशिशों को काफी बड़ा धक्का लगेगा।”

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From sports

Trending Now
Recommended