संजीवनी टुडे

जिस हिस्ट्रीशीटर की पुलिस कर रही थी खोज, BJP के विधायक उसका कर रहे थे सम्मान

संजीवनी टुडे 06-11-2017 14:24:45

The historic police officer was searching BJP legislator was doing his honor

कोटा। राजस्थान के जिस हिस्ट्रीशीटर महावीर प्रसाद टोरड़ी को पुलिस धोखाधड़ी, फर्जीवाड़े और जमीन हड़पने के दर्जन भर मामलों में पुलिस जोर-शोर से तलाश रही थी। उसका कोटा में भाजपा के विधायकों प्रहलाद गुंजल और चंद्रकांता मेघवाल सहित कई नेताओं ने स्वागत एवं सम्मान कर डाला। लेकिन मामला पकड़ में आने के बाद विधायकों की सिट्टी-पिट्टी गुम हो गई और अब सफाई देते घूम रहे हैं।

 

फर्जी संस्थाएं बना करता है ठगी 
जयपुर के करणी विहार थाने के हिस्ट्रीशीटर का कोटा के विधायकों ने सर्किट हाउस में ही खुलेआम सम्मान कर डाला। टोरड़ी पर दर्जनभर से भी ज्यादा मामले दर्ज हैं। टोरड़ी ने कई फर्जी संस्थाएं बना रखी हैं। जिनकी मदद से लोगों को ठगने और धोखाधड़ी का काम करता है। 

यह भी पढ़े: वीडियो: विदेश में फंसे भारतीय, लोगों से की मदद की गुहार

समरता मिशन पर आने का दावा
राजस्थान पुलिस के वांटेड का कोटा के विधायकों की ओर से सम्मान करने की वजह जानने के लिए जब टोरड़ी से बात करनी चाही तो उसकी बजाय उसके सचिव अविनाश खंडेलवाल सामने आए। उन्होंने दावा किया कि टोरड़ी इण्डो-नेपाल समरसता ऑर्गनाइजेशन की ओर से इण्डो-नेपाल समरसता सोशल मिशन यात्रा के दौरे पर कोटा आया था। 

यह भी पढ़े: वीडियो: पत्रकार पर क्रोधित हुई राधे मां, सुनाई खरी खोटी

12 से ज्यादा मुकदमे हैं दर्ज
हिस्ट्रीशीटर फिलहाल जयपुर के करणी विहार थाना क्षेत्र में रह रहा था। उस पर 1984 में पहली बार मुकद्दमा दर्ज हुआ और उसके बाद 2015 तक तो एक दर्जन से अधिक मामले दर्ज हो गए। 

जयपुर पुलिस खोली टोरडी की पोल 
जयपुर के करणीनगर थाना CI महावीर सिंह के मुताबिक, टोरड़ी श्याम नगर थाने का हिस्ट्रीशीटर है, जिसने वर्तमान में मकान हमारे इलाके में बना रखा है। इसलिए उसके सारे मुकद्दमे हमारे थाने में ही हैं। फिलहाल वह वांटेड भी है। इन सभी के बाद बड़ा सवाल यह उठ रहा है कि कोटा पुलिस को इस बारे में कोई भनक तक नहीं लगी और टोरड़ी भाजपा के विधायकों से सर्किट हाउस में खुलेआम सम्मान करा कर यहां से निकल भी गया।

बीबी बच्चों के साथ जेल भी काट चुका है टोरडी 
हनुमानगढ़ के CLG सदस्यों को सम्मानित करने के नाम पर 9 से 13 अगस्त 2015 के बीच उसने ढाई-ढाई हजार रुपए की ठगी की। इसके लिए उसने SP कार्यालय से CLG सदस्यों के नामों की लिस्ट ली। उक्त मामले में 7 जनों को आरोपी बनाया गया था। इसमें टोरड़ी के बेटे कुलदीप शर्मा और कुलदीप की पत्नी मोनिका शर्मा भी आरोपी थे। इसके अलावा 4 अन्य आरोपी थे। इस मामले में टोरड़ी जेल भी काट चुका। 

फंसे तो देने लगे सफाई
हिस्ट्रीशीटर को सम्मानित करने के मामले में जब भाजपा की विधायक चंद्रकांता मेघवाल फंसने लगीं तो उन्होंने सफाई देना शुरू कर दिया। चंद्रकांता ने कहा कि टोरड़ी के पूरे कार्यक्रम का प्रेसनोट उनके दफ्तर से ही जारी हुआ था, इसकी उन्हें जानकारी नहीं है और ना ही वह टोरडी को जानती हैं। 

दुश्मनी में खोली हिस्ट्रीशीट
वहीं दूसरी ओर टोरड़ी के सचिव अविनाश कुमार खंडेलवाल ने तो उल्टा राजस्थान पुलिस को ही कटघरे में खड़ा कर दिया। खंडेलवाल के मुताबिक, हमने एक ASLP के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी, जिसके बाद पुलिस हमसे नाराज हो गई। हिस्ट्रीशीट तो पुलिस किसी की भी खोल देती है, हम पर कोई जुर्म प्रमाणित हुआ।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे ! 

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

More From national

loading...
Trending Now
Recommended